Saturday, May 28, 2022
Homeराजनीतिआगरा: लंबी दूरी की ट्रेनों में अब भी नहीं मिल रहे कंबल-चादर,...

आगरा: लंबी दूरी की ट्रेनों में अब भी नहीं मिल रहे कंबल-चादर, यात्रियों को हो रही परेशानी


सार

रेलवे बोर्ड के आदेश के बाद भी लंबी दूरी की अधिकांश मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में यात्रियों को अब भी बेडरोल नहीं दिए जा रहे हैं। इससे यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ रही है। यात्री इसको लेकर शिकायतें भी दर्ज करा रहे हैं। 

ख़बर सुनें

कोरोना संक्रमण के दौरान ट्रेनों के वातानुकूलित कोचों में दी जाने वाली बेडरोल और लिनेन की सुविधा बंद कर दी गई थी। दूसरी लहर के बाद 2021 में रेलवे ने स्टेशनों पर एक बार प्रयोग की जाने वाली चादरें और बेडरोल की बिक्री शुरू की थी, लेकिन बाद में इस सुविधा को भी बंद कर दिया गया। अब सभी मेल, एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया गया है। 

त्योहार स्पेशल ट्रेनें भी संचालित की जा रही हैं। रेलवे ने यात्रियों की सुविधा के लिए 10 मार्च को ट्रेनों में लिनेन व बेडरोल दिए जाने के आदेश किए थे, लेकिन 20 मार्च तक भी अधिकांश ट्रेनों में यह सुविधा शुरू नहीं हो सकी है। तमिलनाडु, केरला और देहरादून इंदौर एक्सप्रेस समेत दक्षिण भारत की ओर चलने वाली ट्रेनों में यात्रियों को कंबल और चादर नहीं दिए जा रहे हैं। 

यात्रियों को हो रही परेशानी 

केरला से सफर कर रहे हाथरस के प्रशांत शर्मा ने बताया कि ट्रेन में बेडरोल नहीं दिया गया, वह इसलिए बेडरोल लेकर नहीं गए, क्योंकि इस बाबत समाचार देखा था। इसी तरह आगरा के दीपक ने बताया कि उन्होंने कोच अटेंडेंट से बेडरोल की मांग की तो मना कर दिया गया। वह बच्चों के साथ सफर कर रहे थे। बेडरोल नहीं मिलने से दिक्कत हुई। 

यात्री परामर्शदात्री समिति के सदस्य संतोष सिकरवार का कहना है कि ट्रेनों में बेडरोल नहीं होने पर यात्रियों को परेशानी होती है। इस बारे में जोनल मुख्यालय को पत्र लिखा है।

मंडल की ट्रेनों में शुरू, बाहर की ट्रेनों में नहीं

आगरा मंडल के डीसीएम प्रशस्ति श्रीवास्तव ने बताया कि बोर्ड के आदेश के बाद ट्रेनों में यह सुविधा शुरू हो रही है। आगरा मंडल की ज्यादातर ट्रेनों में यह सुविधा मिल रही है, बाहर से आने वाली ट्रेनों में बेडरोल नहीं मिलने की शिकायत मिली हैं। ठेकेदारों से कांट्रेक्ट व धुलाई आदि में समय लगने के कारण बेडरोल उपलब्ध कराने में देरी हुई है। 

विस्तार

कोरोना संक्रमण के दौरान ट्रेनों के वातानुकूलित कोचों में दी जाने वाली बेडरोल और लिनेन की सुविधा बंद कर दी गई थी। दूसरी लहर के बाद 2021 में रेलवे ने स्टेशनों पर एक बार प्रयोग की जाने वाली चादरें और बेडरोल की बिक्री शुरू की थी, लेकिन बाद में इस सुविधा को भी बंद कर दिया गया। अब सभी मेल, एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया गया है। 

त्योहार स्पेशल ट्रेनें भी संचालित की जा रही हैं। रेलवे ने यात्रियों की सुविधा के लिए 10 मार्च को ट्रेनों में लिनेन व बेडरोल दिए जाने के आदेश किए थे, लेकिन 20 मार्च तक भी अधिकांश ट्रेनों में यह सुविधा शुरू नहीं हो सकी है। तमिलनाडु, केरला और देहरादून इंदौर एक्सप्रेस समेत दक्षिण भारत की ओर चलने वाली ट्रेनों में यात्रियों को कंबल और चादर नहीं दिए जा रहे हैं। 

यात्रियों को हो रही परेशानी 

केरला से सफर कर रहे हाथरस के प्रशांत शर्मा ने बताया कि ट्रेन में बेडरोल नहीं दिया गया, वह इसलिए बेडरोल लेकर नहीं गए, क्योंकि इस बाबत समाचार देखा था। इसी तरह आगरा के दीपक ने बताया कि उन्होंने कोच अटेंडेंट से बेडरोल की मांग की तो मना कर दिया गया। वह बच्चों के साथ सफर कर रहे थे। बेडरोल नहीं मिलने से दिक्कत हुई। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular