Wednesday, October 20, 2021
Home खेल इस खूबसूरत लड़की से शादी कर भारत का दामाद बना ये PAK...

इस खूबसूरत लड़की से शादी कर भारत का दामाद बना ये PAK गेंदबाज, कोहली की फैन हैं वाइफ


नई दिल्ली: भारत के खिलाफ चैम्पियन ट्रॉफी, एशिया कप और वर्ल्ड कप जैसे टूर्नामेंट्स में अपनी धारदार गेंदबाजी का जलवा दिखा चुके पाकिस्तानी गेंदबाज हसन अली क्रिकेट फैंस के बीच काफी पॉपुलर हैं. उससे भी बड़ी बात ये है कि वह भारत के दामाद हैं.

हसन अली ने भारतीय लड़की को दिया दिल 

भारतीय लड़की को दिल देने वाले पाकिस्तानी क्रिकेटरों की फेहरिस्त में हसन अली भी शामिल हैं. शोएब मलिक की तरह हसन अली भी भारत के दामाद हैं. हसन अली से पहले पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक ने साल 2010 में भारत की टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा से शादी की थी.

 

हरियाणा की लड़की से की शादी

इसके अलावा अपने जमाने के बेहतरीन क्रिकेटर मोहसिन खान ने बॉलीवुड एक्ट्रेस रीना रॉय से शादी की थी, हालांकि बाद में दोनों का तलाक हो गया. हसन अली ने 20 अगस्त 2019 को हरियाणा के नूंह जिले की रहने वाली शामिया आरजू से निकाह किया था. 

 

दुबई में हुआ था निकाह

हसन अली और भारतीय एयरोनॉटिकल इंजीनियर शामिया आरजू का निकाह दुबई में हुआ था, जिसमें करीबी रिश्तेदार और दोस्त ही शामिल हुए थे. हसन अली के मुताबिक शामिया आरजू से उनकी पहली मुलाकात एक डिनर के दौरान हुई थी. कुछ समय मिलने जुलने के बाद हसन अली ने शामिया को प्रपोज किया.

 

पलवल जिले की रहने वाली हैं शामिया आरजू

हसन अली की पत्नी शामिया आरजू मूल रूप से हरियाणा के पलवल जिले की रहने वाली हैं. शामिया आरजू ने एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की है. शामिया आरजू का परिवार दुबई में रहता है जबकि उनके परिवार के कुछ सदस्य दिल्ली में रहते हैं.

 शामिया आरजू को पसंद हैं कोहली 

हसन अली की पत्नी शामिया आरजू ने हाल ही में इंस्टाग्राम पर फैंस के सवालों का जवाब देते हुए कहा था कि विराट कोहली उनके पसंदीदा बल्लेबाज हैं.  हसन अली ने पाकिस्तान के लिए अब तक 13 टेस्ट, 54 वनडे और 36 टी-20 इंटरनेशनल मैच खेले हैं. 2017 में पाकिस्तान की चैम्पियंस ट्रॉफी जीत में हसन अली ने शानदार प्रदर्शन किया था. 

कैसे जुड़ा दोनों का रिश्ता? 

नूंह जिले के चंदैनी गांव की रहने वाली शामिया आरजू के पिता लियाकत अली बीडीपीओ के पद से रिटायर हैं. लियाकत के दादा और पाकिस्तान के पूर्व सांसद और पाकिस्तान रेलवे बोर्ड के चेयरमैन रहे सरदार तुफैल सगे भाई थे.

 

भारत-पाकिस्तान बंटवारे के बाद तुफैल पाकिस्तान चले गए थे जबकि उनके दादा हिंदुस्तान में ही रह गए थे. पूर्व सांसद तुफैल का परिवार पाकिस्तान के कसूर जिला के कच्ची कोठी नईयाकी में रहता है. उनके जरिए ही हसन से शामिया का रिश्ता तय हुआ है.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular