Thursday, December 2, 2021
Homeमनोरंजनकंगना के आजादी वाले बयान से सदमे में हैं राखी सावंत! अस्पताल...

कंगना के आजादी वाले बयान से सदमे में हैं राखी सावंत! अस्पताल में होना पड़ा भर्ती


नई दिल्ली: एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) हाल ही में ‘भीख में मिली आजादी’ वाले बयान से फिर सुर्खियों में आ गई हैं. कई सेलेब्स ने कंगना (Kangana Ranaut) के इस बयान का विरोध किया है. अब कंगना (Kangana Ranaut) के इस स्टेटमेंट पर राखी सावंत (Rakhi Sawant) ने रिएक्ट किया है. राखी (Rakhi Sawant) ने बताया कि उन्हें गहरा सदमा लगा है और अस्पताल में भर्ती होना पड़ा है. उन्होंने अपना एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें वह कंगना (Kangana Ranaut) को जमकर खरी-खोटी सुनाती नजर आ रही हैं. 

भीख में तुम्हें मिला है अवॉर्ड
राखी सावंत (Rakhi Sawant) ने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अपना एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें अस्पताल के बेड पर लेटी हुई नजर आ रही हैं. वीडियो में राखी सावंत (Rakhi Sawant) कहती हैं, ‘मैं हॉस्पिटल में हूं दोस्तों. नर्स मेरा चेकअप कर रही हैं. मैं बीमार हो गई हूं, शॉक में हूं. एक अभिनेत्री, जिसे हाल ही में हाल ही में पद्मश्री अवॉर्ड मिला है, उसने कहा कि हमें आजादी भीख में मिली है. हम पर दया की गई. क्या आप लोग अपने देश से प्यार नहीं करते हैं? मैं तो बहुत करती हूं और आप लोग भी करते होंगे. ऐसे लोगों को पद्मश्री अवॉर्ड दिया जाता है. भीख में तो तुम्हें पद्मश्री अवॉर्ड मिला है. हमारे देश के जवानों ने कारगिल पर जीत हासिल की क्या उनका बलिदान व्यर्थ है. जिस तरह के कमेंट्स किए जा रहे हैं उससे मुझे बहुत दुख हो रहा है दोस्तों’.

कंगना के इस बयान पर मचा है बवाल 
बता दें कि कंगना रनौत (Kangana Ranaut)  ने हाल ही एक न्यूज चैनल के प्रोग्राम में कह दिया था कि 1947 में आजादी नहीं बल्कि भीख मिली थी. कंगना का कहना था कि असल में आजादी साल 2014 में नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद मिली है. उनके इस बयान से बवाल मचा हुआ है. म्यूजिक कंपोजर विशाल ददलानी (Vishal Dadlani) ने कंगना (Kangana Ranaut) के इस बयान की निंदा की. उन्होंने इंस्टाग्राम पर अपनी एक फोटो शेयर की, जिसमें भगत सिंह की तस्वीर बनी हुई है. उन्होंने फोटो के साथ कैप्शन में लिखा, ‘उस महिला को याद दिला दें, जिन्होंने कहा कि आजादी भीख थी. 23 साल की उम्र में शहीद भगत सिंह ने आजादी के लिए अपनी जान दे दी थी. वह अपने होंठों पर मुस्कान लिए और गीत गाते हुए फांसी पर चढ़ गए थे. उसे याद दिला दीजिए, सुखदेव, राजगुरु, अश्फाकुल्ला और हजारों अन्य लोगों ने जिन्होंने झुकने से मना कर दिया, भीख मांगने से इनकार कर दिया. उसे मजबूती के साथ याद दिलाएं जिससे वह भूलकर भी यह गलती दोबारा करने की हिम्मत ना करें’.

कंगना ने दी थी खुली चुनौती
बयान को लेकर हो रहे विरोध के बीच कंगना (Kangana Ranaut) ने अपनी इंस्टा स्टोरी में एक पोस्ट में लिखा, ‘सिर्फ सही विवरण देने के लिए… 1857 स्वतंत्रता के लिए पहली सामूहिक लड़ाई थी और सुभाष चंद्र बोस, रानी लक्ष्मीबाई और वीर सावरकर जी जैसे महान लोगों ने अपना दिया.’उन्होंने लिखा, ‘1857 मुझे पता है लेकिन 1947 में कौन सा युद्ध हुआ था, मुझे पता नहीं है, अगर कोई मुझे अवगत करा सकता है तो मैं अपना पद्मश्री लौटा दूंगी और माफी भी मांगूंगी. कृपया इसमें मेरी मदद करें.

यह भी पढ़ें- बैकलेस टॉप-छोटी स्कर्ट पहन उर्फी पहुंची बार, कैप्शन पढ़ फैंस का रुकना होगा मुश्किल!

एंटरटेनमेंट की लेटेस्ट और इंटरेस्टिंग खबरों के लिए यहां क्लिक कर Zee News के Entertainment Facebook Page को लाइक करें





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular