Thursday, December 2, 2021
Homeविश्वकनाडा की पहली हिंदू मंत्री अनीता आनंद को मिला रक्षा मंत्रालय का...

कनाडा की पहली हिंदू मंत्री अनीता आनंद को मिला रक्षा मंत्रालय का जिम्मा


टोरंटो: कनाडा की पहली हिंदू कैबिनेट मंत्री अनीता आनंद ने मंगलवार को देश की दूसरी महिला रक्षा मंत्री बनकर इतिहास रच दिया. वह भारतीय मूल के कनाडाई नागरिक हरजीत सज्जन की जगह लेंगी. प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने अपने नए मंत्रिमंडल का ऐलान किया है, जिसमें पता चला है कि अनीता आनंद देश की रक्षा मंत्री होंगी.

कैबिनेट में भारत का दबदबा

सज्जन को अंतरराष्ट्रीय मामलों का मंत्री बनाया गया है. उनके अलावा एक अन्य भारतीय-कनाडाई महिला कमल खेड़ा, जो ब्रैम्पटन वेस्ट से 32 वर्षीय सांसद हैं, ने भी वरिष्ठ नागरिकों के लिए मंत्री के रूप में शपथ ली, जिससे ट्रूडो कैबिनेट में भारतीय-कनाडाई महिला मंत्रियों की संख्या तीन हो गई है.

कनाडा की विविधता, समावेशन और युवा मंत्रालय संभालने वाली मौजूदा भारतीय-कनाडाई महिला मंत्री बर्दिश चागर को हटा दिया गया है. नए मंत्रिमंडल में छह महिला मंत्रियों में दो भारतीय-कनाडाई महिलाएं शामिल हैं. ट्रूडो ने कनाडाई सेना में यौन दुराचार के आरोपों को दूर करने में विफल रहने के लिए हरजीत सज्जन को डाउनग्रेड कर दिया और अनीता आनंद और कमल खेड़ा को महामारी के दौरान उनके काम के लिए सम्मानित किया.

काम को मिल चुकी है तारीफ

महामारी के चरम पर स्वास्थ्य देखभाल प्रोवाइडर के रूप में काम पर वापस जाने के लिए आनंद की ओर से खरीद मंत्री और खेड़ा – एक पंजीकृत नर्स के रूप में उनके काम के लिए तारीफ की गई है. 2015 से तीन बार के सांसद, खेरा ने स्वास्थ्य और अंतरराष्ट्रीय व्यापार मंत्रियों के संसदीय सचिव के रूप में भी काम किया है.

अनीता का जन्म 1967 में नोवा स्कोटिया में भारतीय मूल के माता-पिता के घर हुआ था, जो दोनों चिकित्सा पेशेवर थे. उनकी मां सरोज डी. राम पंजाब से और पिता एस. वी. आनंद तमिलनाडु से संबंध रखते हैं. अनीता, जो टोरंटो यूनिवर्सिटी में कानून की प्रोफेसर के रूप में छुट्टी पर हैं, को टोरंटो के पास ओकविले से सांसद के रूप में चुने जाने के बाद 2019 में प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की ओर से सार्वजनिक सेवा और खरीद मंत्री की जिम्मेदारी दी गई थी. 

एयर इंडिया जांच आयोग की मदद

अनीता ने व्यापक शोध के साथ एयर इंडिया जांच आयोग की सहायता की. आयोग ने 23 जून 1985 को एयर इंडिया कनिष्क उड़ान 182 की बमबारी की जांच की थी, जिसमें सभी 329 लोग मारे गए थे. मॉन्ट्रियल-दिल्ली की उड़ान में जो बम फटा था, उसे एक साल पहले 1984 में स्वर्ण मंदिर में सैन्य कार्रवाई का बदला लेने के लिए वैंकूवर स्थित खालिस्तानियों द्वारा लगाया गया था.

ये भी पढ़ें: सेना के आगे इमरान खान ने टेके घुटने, आर्मी चीफ की पसंद का जनरल बना ISI चीफ

अनीता आनंद से पहले, कनाडा की एकमात्र महिला रक्षा मंत्री पूर्व प्रधानमंत्री किम कैंपबेल थीं, जिन्होंने 1993 में 4 जनवरी से 25 जून तक छह महीने के लिए पोर्टफोलियो संभाला था.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular