Tuesday, August 9, 2022
Homeभारतकर्नाटक: कौन बनेगा सीएम? कांग्रेस की सबसे बड़ी समस्या ने नेताओं को...

कर्नाटक: कौन बनेगा सीएम? कांग्रेस की सबसे बड़ी समस्या ने नेताओं को फिर सताना शुरू किया


हाइलाइट्स

कौन बनेगा सीएम? कर्नाटक कांग्रेस की सबसे बड़ी समस्या
डी. के. शिवकुमार ने सीएम बनने की इच्छा जताई
कांग्रेस प्रचार समिति के अध्यक्ष एम. बी. पाटिल ने किया विरोध

बेंगलुरू. कर्नाटक में विधानसभा का चुनाव होने में अभी कुछ समय बाकी है, लेकिन कर्नाटक में कांग्रेस की जीत के बाद मुख्यमंत्री कौन होगा, इसको लिए अभी से विवाद सार्वजनिक हो गया है. इस सप्ताह मैसूर में एक प्रेस कांफ्रेंस में राज्य कांग्रेस के प्रमुख डी.के. शिवकुमार ने सीएम बनने की अपनी इच्छा को खुलकर पेश किया. जिसके बाद पार्टी के अन्य नेताओं ने उनके मुकाबले में खुद को पेश करना शुरू कर दिया है.

इंडियन एक्सप्रेस की एक खबर के मुताबिक 2023 के चुनावों के लिए कांग्रेस प्रचार समिति के अध्यक्ष एम. बी. पाटिल ऐसा करने वाले पहले शख्स थे. शुक्रवार को पाटिल ने कहा कि कोई भी सीएम हो सकता है, यह वोक्कालिगा, लिंगायत, दलित, अल्पसंख्यक नेता हो सकता है. माना जाता है कि उनकी नियुक्ति शिवकुमार पर अंकुश लगाने की एक कोशिश है. पाटिल पूर्व सीएम और शिवकुमार के मुख्य प्रतिद्वंद्वी सिद्धारमैया के करीबी सहयोगी और एक प्रमुख लिंगायत नेता भी हैं. गौरतलब है कि शिवकुमार ने दक्षिण कर्नाटक में वोक्कालिगा समुदाय से कांग्रेस का समर्थन करने का अनुरोध किया था ताकि वह मुख्यमंत्री बन सकें.

पाटिल ने कहा कि कांग्रेस सत्ता में आने पर सभी नेताओं के नाम पर विचार करेगी. पाटिल ने कहा कि ‘हम दूसरे दर्जे के नागरिक नहीं हैं … हमें अपने बल पर सत्ता में आना है, और फिर निर्वाचित विधायकों की राय के आधार पर आलाकमान फैसला करेगा और वह अंतिम होता है. हम सभी सीएम बनना चाहते हैं, लेकिन यह हमारी मर्जी के मुताबिक नहीं होगा.’

बीजापुर क्षेत्र के एक धनी शिक्षाविद् पाटिल ने खुद कांग्रेस के सत्ता में आने पर सीएम बनने की इच्छा जताई है. उन्होंने कहा कि ‘सिद्धारमैया के बाद वह सीएम बनना चाहते हैं. मुझे आशा है लेकिन मैं लालची नहीं हूं.’ राज्य में सबसे बड़ा समुदाय लिंगायत विधानसभा की 224 सीटों में से 90 सीटों पर उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करता है.

शिवकुमार के बयान का मुस्लिम नेता और पूर्व मंत्री जमीर अहमद खान ने भी विरोध किया, जो सिद्धारमैया के करीबी सहयोगियों में से एक थे. खान ने कहा कि आप केवल एक समुदाय के समर्थन से सीएम नहीं बन सकते. आपको सभी समुदायों के समर्थन की जरूरत होती है. हमारा समुदाय वोक्कालिगा समुदाय से बड़ा है और मैं सीएम बनना चाहता हूं, लेकिन क्या मैं अकेले मुसलमानों के समर्थन से सीएम बनूंगा?

गहलोत से मिलने जयपुर पहुंचे डीके शिवकुमार, बोले- मैसेंजर बनकर नहीं आया, जानिए और क्या कहा

गौरतलब है कि पूर्व सीएम सिद्धारमैया के समर्थकों ने 3 अगस्त को उनके 75वें जन्मदिन के लिए भव्य आयोजन करने की योजना बनाई है. उन्हें कांग्रेस के सबसे बड़े नेता के रूप में पेश करने के लिए इस अप्रत्यक्ष प्रयास के बाद सीएम पद को लेकर विवाद पैदा हुआ है. सिद्धारमैया के 75वें जन्मदिन समारोह में राहुल गांधी भी शिरकत कर सकते हैं. जबकि कर्नाटक कांग्रेस में हो रही बयानबाजी पर सत्तारूढ़ भाजपा के येदियुरप्पा ने कहा कि कांग्रेस के कुछ नेता यह कहते हुए घूम रहे हैं कि ‘मैं मुख्यमंत्री बनूंगा, मैं मुख्यमंत्री बनूंगा’. यह सब लोग देख रहे हैं. ऐसा कुछ नहीं होगा. भाजपा बहुमत हासिल करेगी और फिर भाजपा का मुख्यमंत्री होगा.

Tags: Congress, DK Shivakumar, Karnataka



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular