काम की बात: वाहनों के टायर में क्यों रखना चाहिए हवा का सही प्रेशर? क्‍या हैं इसके फायदे?

0
3
काम की बात: वाहनों के टायर में क्यों रखना चाहिए हवा का सही प्रेशर? क्‍या हैं इसके फायदे?


हाइलाइट्स

टायरों में हवा का सही प्रेशर होने से उनकी लाइफ बढ़ जाती है.
टायरों में हवा ज्यादा है तो टायर फटने का खतरा बढ़ा जाता है.
टायरों में हवा का प्रेशर सही रखने से अच्छा माइलेज भी मिलता है.

नई दिल्ली: कार या बाइक चलाने वाले लोगों को ट्रैवल करने से पहले अपने वाहन की कंडीशन के साथ-साथ टायरों की कंडीशन पर भी ध्यान देना चाहिए. अक्सर लोग जल्दबाजी में टायरों में हवा के सही प्रेशर को देखना भूल जाते हैं. इससे कई तरह के नुकसान होते हैं. इसलिए हमेशा टायरों में हवा का सही प्रेशर रखना चाहिए.

यहां आपको बताने जा रहे हैं कि क्यों टायरों में हवा एक फिक्स प्रेशर तक ही भरी जाती है? ऐसा करने से वाहन चलाने वालों क्या-क्या फायदा होता है? अगर टायरों में हवा कम है तो इसके क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं?

ये भी पढ़ें- अगले महीने लॉन्च होगी महिंद्रा की पहली इलेक्ट्रिक कार, देखें क्या होगी रेंज, स्पीड और कीमत?

मेंटेन रखें हवा का प्रेशर
टायर के प्रेशर को रेगुलर चेक करना चाहिए. इसके लिए सबसे अच्छा तरीका है कि कार के टायर में टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम डिवाइस का इस्तेमाल कर सकते हैं. आज कर कई कारों में यह पहले से लगा हुआ आता है. इसके अलावा इसे हम आफ्टर मार्केट भी लगवा सकते हैं. इसका सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि हमें टायरों की प्रेशर की जानकारी डैशबोर्ड की स्क्रीन पर दिख जाती है. इससे हमें तुरंत पता चल जाता है कि किस टायर में हवा कम-ज्यादा है.

क्या है इसके नुकसान?
टायरों में हवा का सही प्रेशर होने से उनकी लाइफ बढ़ जाती है. ये जल्दी कटते-फटते नहीं है. अगर टायरों में हवा ज्यादा है तो टायर फटने का खतरा बढ़ा जाता है. हवा का प्रेशर कम होता है तो गाड़ी का माइलेज कम हो जाता है और ड्राइव करते समय बैलेंस भी गड़बड़ रहता है. इसके अलावा टायर में कटने का खतरा भी बना रहता है. इसलिए जरूरी है कि टायरों को हमेशा बीच-बीच में चेक करते रहें.

ये भी पढ़ें- नए Ola S1 की ये 5 चीजें बनाती हैं इसे देश का बेस्ट इलेक्ट्रिक स्कूटर, देखें तस्वीरें

हवा का प्रेशर सही रखने के फायदे?
टायरों में हवा का प्रेशर सही रखने का सबसे बड़ा फायदा ये होता है कि आपकी गाड़ी हमेशा सही माइलेज देती है. इसके अलावा टायर के कटने की संभावना कम हो जाती है. टायरों की लाइफ बढ़ जाती है. वाहन चलाते समय उसका बैलेंस सही रहता है. टायर पंक्चर होने की संभावना भी कम हो जाती है.

Tags: Auto News, Autofocus, Automobile, Car Bike News



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here