Sunday, September 26, 2021
Home राजनीति खीरीः ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में निघासन में भी हुआ बवाल

खीरीः ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में निघासन में भी हुआ बवाल


भीड़ को खदेड़ती पुलिस।
– फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, बरेली

ख़बर सुनें

भाजपा विधायक का प्रत्याशी पति को धमकाने का विडियो वायरल

निघासन। ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में निघासन ब्लॉक में भी जमकर बवाल हुआ। मतदान की शुरुआत में जहां विधायक बीडीसी सदस्यों को लौटाने का मामला तूल पकड़ गया, वहीं भाजपा विधायक शशांक वर्मा द्वारा सपा उम्मीदवार हरप्रीत कौर के पति अमनदीप सिंह को धमकाने का विडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। शाम को आए परिणाम में सपा समर्थित प्रत्याशी हर प्रीत कौर की जीत हुई।
चुनाव के शुरुआती दौर में तीन बीडीसी प्रत्याशियों को बिना प्रमाणपत्र के वोट डालने से वापस कर दिया गया था, जिसकी शिकायत सदस्यों ने विधायक शशांक वर्मा से की। इस पर विधायक ने उच्चाधिकारियों से बातकर सिपाहियों को नसीहत दे डाली। उधर, एसडीएम ओपी गुप्ता ने बताया कि बीडीसी के पास जीत का प्रमाणपत्र नहीं था। पहचानपत्र और जीत की लिस्ट के आधार पर मत डलवा दिए गए थे।
घटना के कुछ देर बाद शनिवार दोपहर विधायक शशांक वर्मा का सपा प्रत्याशी के पति अमनदीप को धमकी देते हुए विडियो भी वायरल हुआ। मामले में अमनदीप सिंह ने बताया कि शनिवार को वह अपने साथी विकास अग्रवाल के साथ हरसिंहपुर गांव के तीन बीडीसी सदस्यों को साथ लेकर वोट डलवाने के लिये निघासन जा रहे थे कि इसी दौरान जानकारी लगने पर झंडी चौराहा पहुंचे भाजपा विधायक शशांक वर्मा ने गाड़ी को रोककर उन्हें धमकाना शुरू कर दिया। इस पर अमनदीप ने उन्हें शांत रहने को कहा तो विधायक ने अमनदीप की गाड़ी में बैठे विकास को अपना भाई बताते हुए कहा कि वह उससे बात कर रहे हैं। अमनदीप का कहना है कि विधायक ने यह भी कहा कि उनकी ब्लॉक प्रमुखी विकास की वजह से ही है, वरना और कोई होता तो गाड़ दिया जाता, सिर्फ विकास की वजह से ही वह उन्हें छोड़ रहे हैं। अमनदीप ने बताया धमकाने के बाद विधायक चले गए। उधर, विधायक शशांक वर्मा ने वायरल विडियो को पुराना और गलत बताया। कहा कि इसमें कहीं और का वीडियो जोड़ा गया है।

लाठीचार्ज की बात पर पुलिस से भिड़ गए सपाई

निघासन। मतदान केंद्र से करीब 300 मीटर की दूरी पर डटे सपाइयों को खदेड़ने के लिये थाना सिंगाही प्रभारी वहां पर दल बल के साथ पहुंच गए और वहां से सपाइयों को खदेड़ने की कोशिश की, जिस पर नाराज सपाइयों की पुलिस से नोकझोंक हो गई और वह पुलिस विरोधी नारे लगाते हुए वहीं पर डटे रहे।
शनिवार सुबह से ही लोगों का एक हुजूम बैरिकेटिंग से करीब 100 मीटर की दूरी पर खड़ा था, जिन्हें पुलिस ने खदेड़कर 200 मीटर तक बाहर का रास्ता दिखा दिया, जिसके बाद हरप्रीत कौर के समर्थक गौतमबुद्ध स्कूल में चले गए। वहां से वह बीडीसी सदस्यों को मतदान के लिए भेज रहे थे। किसी ने इस बात की जानकारी ड्यूटी पर लगे सिंगाही प्रभारी निरीक्षक भानु प्रताप को दी, जिस पर वह दल बल के साथ वहां पहुंच गए। सपाइयों ने आरोप लगाया कि कोतवाल ने सपाइयों पर लाठी भांजने की बात कहते हुए स्कूल को खाली कराने को कहा, जिससे नाराज जिलाध्यक्ष रामपल सिंह यादव, धनीराम मौर्य, धनंजय उपाध्याय हिमांशु पटेल, अनुराग पटेल, उदयभानु यादव आदि लोग भिड़ गए। काफी गहमा गहमी के बाद सिंगाही कोतवाल ने निघासन पुलिस बल भी बुला लिया। प्रभारी निरीक्षक डीके सिंह ने किसी तरह से सभी को शांत कराया और जुलूस न निकालने की बात कही।

निघासन में सपा प्रत्याशी की हुई जीत

निघासन। ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में शत प्रतिशत मतदान हुआ। सपा प्रत्याशी हरप्रीत कौर को 85 और सुनीता वर्मा को 60 मत मिले। वहीं दो मत अमान्य रहे। हरप्रीत कौर और सुनीता वर्मा पहले दोनों भाजपाई थे। सुनीता वर्मा को जहां भाजपा विधायक शशांक वर्मा समर्थन दे रहे थे, वहीं हरप्रीत कौर को सांसद अजय मिश्र टेनी। सांसद के दिल्ली जाने पर भाजपा जिलाध्यक्ष ने सुनीता वर्मा को प्रत्याशी बनाया, जिससे नाराज होकर हरप्रीत कौर ने सपा का दामन थाम लिया था। सुनीता वर्मा को जिताने के लिए भाजपा विधायक समेत भाजपाइयों ने पूरी ताकत लगा दी। बावजूद इसके चुनाव न जीतने से भाजपा को झटका लगा है। संवाद

भाजपा विधायक का प्रत्याशी पति को धमकाने का विडियो वायरल

निघासन। ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में निघासन ब्लॉक में भी जमकर बवाल हुआ। मतदान की शुरुआत में जहां विधायक बीडीसी सदस्यों को लौटाने का मामला तूल पकड़ गया, वहीं भाजपा विधायक शशांक वर्मा द्वारा सपा उम्मीदवार हरप्रीत कौर के पति अमनदीप सिंह को धमकाने का विडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। शाम को आए परिणाम में सपा समर्थित प्रत्याशी हर प्रीत कौर की जीत हुई।

चुनाव के शुरुआती दौर में तीन बीडीसी प्रत्याशियों को बिना प्रमाणपत्र के वोट डालने से वापस कर दिया गया था, जिसकी शिकायत सदस्यों ने विधायक शशांक वर्मा से की। इस पर विधायक ने उच्चाधिकारियों से बातकर सिपाहियों को नसीहत दे डाली। उधर, एसडीएम ओपी गुप्ता ने बताया कि बीडीसी के पास जीत का प्रमाणपत्र नहीं था। पहचानपत्र और जीत की लिस्ट के आधार पर मत डलवा दिए गए थे।

घटना के कुछ देर बाद शनिवार दोपहर विधायक शशांक वर्मा का सपा प्रत्याशी के पति अमनदीप को धमकी देते हुए विडियो भी वायरल हुआ। मामले में अमनदीप सिंह ने बताया कि शनिवार को वह अपने साथी विकास अग्रवाल के साथ हरसिंहपुर गांव के तीन बीडीसी सदस्यों को साथ लेकर वोट डलवाने के लिये निघासन जा रहे थे कि इसी दौरान जानकारी लगने पर झंडी चौराहा पहुंचे भाजपा विधायक शशांक वर्मा ने गाड़ी को रोककर उन्हें धमकाना शुरू कर दिया। इस पर अमनदीप ने उन्हें शांत रहने को कहा तो विधायक ने अमनदीप की गाड़ी में बैठे विकास को अपना भाई बताते हुए कहा कि वह उससे बात कर रहे हैं। अमनदीप का कहना है कि विधायक ने यह भी कहा कि उनकी ब्लॉक प्रमुखी विकास की वजह से ही है, वरना और कोई होता तो गाड़ दिया जाता, सिर्फ विकास की वजह से ही वह उन्हें छोड़ रहे हैं। अमनदीप ने बताया धमकाने के बाद विधायक चले गए। उधर, विधायक शशांक वर्मा ने वायरल विडियो को पुराना और गलत बताया। कहा कि इसमें कहीं और का वीडियो जोड़ा गया है।

लाठीचार्ज की बात पर पुलिस से भिड़ गए सपाई

निघासन। मतदान केंद्र से करीब 300 मीटर की दूरी पर डटे सपाइयों को खदेड़ने के लिये थाना सिंगाही प्रभारी वहां पर दल बल के साथ पहुंच गए और वहां से सपाइयों को खदेड़ने की कोशिश की, जिस पर नाराज सपाइयों की पुलिस से नोकझोंक हो गई और वह पुलिस विरोधी नारे लगाते हुए वहीं पर डटे रहे।

शनिवार सुबह से ही लोगों का एक हुजूम बैरिकेटिंग से करीब 100 मीटर की दूरी पर खड़ा था, जिन्हें पुलिस ने खदेड़कर 200 मीटर तक बाहर का रास्ता दिखा दिया, जिसके बाद हरप्रीत कौर के समर्थक गौतमबुद्ध स्कूल में चले गए। वहां से वह बीडीसी सदस्यों को मतदान के लिए भेज रहे थे। किसी ने इस बात की जानकारी ड्यूटी पर लगे सिंगाही प्रभारी निरीक्षक भानु प्रताप को दी, जिस पर वह दल बल के साथ वहां पहुंच गए। सपाइयों ने आरोप लगाया कि कोतवाल ने सपाइयों पर लाठी भांजने की बात कहते हुए स्कूल को खाली कराने को कहा, जिससे नाराज जिलाध्यक्ष रामपल सिंह यादव, धनीराम मौर्य, धनंजय उपाध्याय हिमांशु पटेल, अनुराग पटेल, उदयभानु यादव आदि लोग भिड़ गए। काफी गहमा गहमी के बाद सिंगाही कोतवाल ने निघासन पुलिस बल भी बुला लिया। प्रभारी निरीक्षक डीके सिंह ने किसी तरह से सभी को शांत कराया और जुलूस न निकालने की बात कही।

निघासन में सपा प्रत्याशी की हुई जीत

निघासन। ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में शत प्रतिशत मतदान हुआ। सपा प्रत्याशी हरप्रीत कौर को 85 और सुनीता वर्मा को 60 मत मिले। वहीं दो मत अमान्य रहे। हरप्रीत कौर और सुनीता वर्मा पहले दोनों भाजपाई थे। सुनीता वर्मा को जहां भाजपा विधायक शशांक वर्मा समर्थन दे रहे थे, वहीं हरप्रीत कौर को सांसद अजय मिश्र टेनी। सांसद के दिल्ली जाने पर भाजपा जिलाध्यक्ष ने सुनीता वर्मा को प्रत्याशी बनाया, जिससे नाराज होकर हरप्रीत कौर ने सपा का दामन थाम लिया था। सुनीता वर्मा को जिताने के लिए भाजपा विधायक समेत भाजपाइयों ने पूरी ताकत लगा दी। बावजूद इसके चुनाव न जीतने से भाजपा को झटका लगा है। संवाद



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular