Friday, September 17, 2021
Home भारत जम्मू-कश्मीर: एयरफोर्स स्‍टेशन में हुए विस्फोट के सैंपल चंडीगढ़ लैब भेजे गए,...

जम्मू-कश्मीर: एयरफोर्स स्‍टेशन में हुए विस्फोट के सैंपल चंडीगढ़ लैब भेजे गए, NIA के आईजी आज करेंगे दौरा


श्रीनगर/नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में एयर फोर्स स्टेशन (Airforce Station Blast) पर हुए हमले की जांच में जुटी राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की टीम ने विस्‍फोट के सैंपल जांच के लिए चंडीगढ़ लैब (Chandigarh Lab) भेज दिए हैं. धमाकों से जुड़ी अन्‍य जानकारी हासिल करने के लिए एनआईए के आईजी और डीआईजी आज जम्‍मू एयरपोर्ट स्‍टेशन पहुंच रहे हैं. बता दें कि सुरक्षा एजेंसियां अभी भी इस बात का पता लगाने में जुटी हैं कि आखिर ड्रोन कहां से ऑपरेट हुआ था और कहां गायब हो गया.

जानकारी के मुताबिक एयरफोर्स स्टेशन पर हुए हमले के बाद जम्मू की फॉरेंसिक टीम ने जो धमाके की जगह से कुछ सैंपल लिए थे, उसकी रिपोर्ट सौंप दी है और विस्फोटकों के कुछ सैंपल चंडीगढ़ लैब भेजे गए हैं. सूत्रों के मुताबिक जम्मू की टीम ने जो रिपोर्ट दी है, उसमें विस्‍फोट में आरडीएक्स का इस्‍तेमाल किए जाने की बात कही जा रही है. यही कारण है कि अब यह सैंपल चंडीगढ़ लैब भेजे गए हैं.

इसे भी पढ़ें :- जम्मू IAF स्टेशन आतंकी हमला: NIA ने अपने हाथों में ली जांच, इन दफाओं में दर्ज किया केस

वहीं आज भी सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारी एयरफोर्स स्टेशन में बैठक कर रहे हैं. मामले की गंभीरता को देखते हुए एनएसजी और सीआईएएसएफ के डीजी भी एयर फोर्स स्टेशन का दौरा कर चुके हैं. राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) और राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) के बम डेटा सेंटर की एक-एक टीम ने वायुसेना अड्डे पर जांच की है. वहीं जम्मू पुलिस ने आतंकवाद की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है. इस मामले एक अधिकारी ने बताया, ‘शुरुआती जांच के अनुसार विस्फोटक कम से कम 100 मीटर की ऊंचाई से गिराया गया होगा. IED को इम्पैक्ट चार्ज से लैस किया गया था, जिसमें विस्फोट या तो तुरंत या कुछ देर बाद होता है.’

इसे भी पढ़ें :- जम्मू के एयरफोर्स स्टेशन पर आतंकी हमले के पीछे हो सकता है लश्कर या जैश का हाथ, अलर्ट जारी

‘हर ड्रोन पर 2 किलो से अधिक विस्फोटक’

अधिकारी ने कहा, ‘हर ड्रोन पर विस्फोटक 2 किलो से अधिक था. विस्फोटक हाई ग्रेड के थे और ये आरडीएक्स हो सकते हैं लेकिन फॉरेंसिक जांच के बाद ही किसी फैसले पर पहुंचा जा सकता है.’ सूत्रों ने कहा कि ड्रोन कहां से उड़े इसकी फिलहाल जांच की जा रही है. रिपोर्ट के अनुसार, जम्मू-कश्मीर के एक पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘आशंका है कि ड्रोन पाकिस्तान से आए थे क्योंकि ऐसे ड्रोन पहले जम्मू में हथियार गिरा चुके हैं. सीमा से बेस की दूरी महज़ 14 किलोमीटर है. हालांकि इस बात की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है कि यह ड्रोन किसी स्थानीय जगह से ना उड़ा हो.’



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular