Sunday, June 26, 2022
Homeशिक्षाज्यादा खुश होने पर भी क्यों भीग जाती हैं आंखें? इन आंसुओं...

ज्यादा खुश होने पर भी क्यों भीग जाती हैं आंखें? इन आंसुओं के पीछे है ये साइंस


नई दिल्ली: आपने गौर किया होगा कि जब भी हम बहुत ज्यादा खुश होते हैं, तो कई बार हंसते-हंसते हमारी आंखों से आंसू छलकने लगते हैं. इसे आम बोलचाल के शब्दों में खुशी के आंसू भी कहा जाता है. आपको शायद आंसुओं के पीछे का विज्ञान नहीं पता होगा. तो चलिए जानते हैं आंसुओं के पीछे का साइंस कि आखिर ऐसा क्यों और कैसे होता है?  

आंसू निकलने के पीछे 2 कारण

BBC की एक रिपोर्ट के अनुसार हंसते-हंसते रोने, यानी आंसू निकलने के पीछे 2 कारण बताए जाते हैं. इसमें पहला कारण बताया जाता है कि जब हम खुलकर हंसते हैं, तो हमारे चेहरे की कोशिकाएं अनियंत्रित रूप से काम करने लगती हैं. ऐसा होने पर हमारी अश्रु ग्रंथियों (Lacrimal Glands) से भी दिमाग का नियंत्रण हट जाता है और आंसू निकल पड़ते हैं.

इमोशनल होने पर निकलते हैं आंसू

इसकी दूसरी वजह ये मानी जाती है कि बहुत ज्यादा हंसने की स्थिति में व्यक्ति भाव-विभोर (Emotional) हो जाता है. ज्यादा भावुक होने के कारण चेहरे की कोशिकाओं पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है जिसके चलते आपके आंसू निकाल जाते हैं. ऐसा करके हमारा शरीर आंसुओं के जरिए हमारे तनाव को संतुलित करने की कोशिश करता है.

यह भी पढ़ें: पंजाब के बाद अब इस राज्य में फतह की तैयारी में आम आदमी पार्टी, बनाया खास प्लान

महिलाएं होती हैं ज्यादा भावुक

दरअसल ये पूरी प्रक्रिया हर शख्स के लिए अलग-अलग हो सकती है. कई लोग कम रोते हैं, तो वहीं कई लोग बहुत जल्दी भावुक हो जाते हैं. साथ ही महिला या पुरुष होने से भी इस पूरी प्रक्रिया पर फर्क आ जाता है. माना जाता है महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक भावुक होती हैं. ऐसे में महिलाओं के साथ हंसते-हंसते आंसू निकलने की संभावना अधिक पाई जाती है.

हार्मोन्स की अहम भूमिका

बाल्टीमोर की मैरीलैंड यूनिवर्सिटी के मनोवैज्ञानिक रॉबर्ट प्रोवाइन के मुताबिक, कम या ज्यादा भावुक होने के पीछे मुख्य भूमिका हार्मोन की होती है. रॉबर्ट प्रोवाइन के मुताबिक, हंसने में दिमाग का जो हिस्सा सक्रिय होता है, रोने पर भी वही सक्रिय होता है. लगातार हंसने या रोने की स्थिति में दिमाग की कोशिकाओं पर अधिक तनाव पड़ता है. ऐसे में शरीर में कॉर्टिसोल और एड्रिनालाइन नामक हॉर्मोन्स का स्त्राव होता है. यही हॉर्मोन्स हंसते या रोते वक्त शरीर में होने वाली विपरीत प्रतिक्रिया के लिए जिम्मेदार होते हैं.

यह भी पढ़ें: क्या चावल खाने से बढ़ता है मोटापा? वजन कम करने वाले जरूर दें ध्यान

गौरतलब है कि हंसने और रोने पर खुशी का पहला आंसू दाहिनी आंख (Right Eye) से आता है और दुःख का पहला आंसू बायीं आंख (Left Eye) से छलकता है.

LIVE TV





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular