Sunday, January 23, 2022
Homeखेलटी-20 WC जीतने के पांच दावेदार: भारत, इंग्लैंड और पाकिस्तान के अलावा...

टी-20 WC जीतने के पांच दावेदार: भारत, इंग्लैंड और पाकिस्तान के अलावा ये 2 देश रहेंगे टूर्नामेंट जीतने के लिए फेवरेट; क्या इस बार मिलेगा एक नया विजेता


भोपाल37 मिनट पहले

पांच सालों के एक लंबे अंतराल के बाद टी-20 वर्ल्ड कप का आगाज हो गया है। टी-20 वर्ल्ड कप में कुल 16 टीमें हिस्सा ले रही हैं। पहला दौर क्वालिफाइंग राउंड का है। इसमें 8 टीमों को 4-4 के दो ग्रुप में बांटा गया है। दोनों ग्रुप से टॉप-2 स्थान पर रहने वाली टीमें मुख्य ग्रुप स्टेज के लिए क्वालिफाई करेंगी। मुख्य ग्रुप स्टेज (सुपर-12) की शुरुआत 23 अक्टूबर से ऑस्ट्रेलिया बनाम साउथ अफ्रीका मुकाबले से होगी।

कहने को तो टी-20 फॉर्मेट में किसी भी टीम को हल्के में नहीं लिया जा सकता है, लेकिन चलिए जानने की कोशिश करते हैं कि वो टॉप-5 टीमें कौन सी हो सकती है, जिनको इस बार टूर्नामेंट जीतने के लिए फेवरेट माना जा रहा है।

ऑस्ट्रेलिया (कप्तान- आरोन फिंच)
एक समय हुआ करता था जब वर्ल्ड क्रिकेट में ऑस्ट्रेलियाई टीम की धाक देखने को मिलती थी। एक के बाद टीम ने हैट्रिक वनडे वर्ल्ड कप जीतकर पूरी दुनिया के सामने अपना लोहा मनवाया था। हालांकि, टीम अक बार भी टी-20 वर्ल्ड कप पर कब्जा नहीं जमा सकी। इस बार टीम को वर्ल्ड कप जीतने के लिए फेवरेट माना जा रहा है। टीम के पास कई अनुभवी मैच जिताऊ खिलाड़ी मौजूद हैं। टीम के पास कप्तान आरोन फिंच के अलावा डेविड वार्नर, शानदार फॉर्म में चल रहे ग्लेन मैक्सवेल, जोश हेजलवुड, मिचेल स्टार्क और पैट कमिंस जैसे दिग्गज हैं। हालांकि, ऑस्ट्रेलिया के लिए एक बड़ी चुनौती ये हो सकती है कि कई खिलाड़ी या तो लंबे समय से खेले नहीं या कुछ आउट ऑफ फॉर्म हैं।

इंग्लैंड (कप्तान- ओएन मोर्गन)
टी-20 वर्ल्ड कप के लिए मौजूदा वनडे चैंपियन इंग्लैंड की टीम को हल्के में नहीं लिया जा सकता है। 2019 में इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड को हराकर पहली बार वनडे विश्व कप की ट्रॉफी पर कब्जा जमाया था। इस बार टीम के पास टी-20 टूर्नामेंट जीतने का बढ़िया मौका रहेगा। इंग्लैंड की टीम कई सारे टी-20 स्पेशलिस्ट मौजूद है। हालांकि, टीम को बेन स्टोक्स और जोफ्रा आर्चर की कमी खल सकती है, लेकिन टीम के पास चतुर कप्तान ओएन मोर्गन के अलावा डेविड मलान, जेसन रॉय, जॉनी बेयरस्टो और जोस बटलर जैसे प्लेयर्स हैं। गेंदबाजी में भी आदिल रशीद, डेविड विली, क्रिस वोक्स, मार्क वुड और क्रिस जॉर्डन जैसे नाम हैं।

इस साल इंग्लैंड ने 11 टी-20 मैच खेले हैं और सात में जीत दर्ज की है जबकि चार में टीम को हार मिली है। इंग्लैंड ने इससे पहले साल 2010 में टी-20 वर्ल्ड कप जीता था। इसके बाद 2016 के वर्ल्ड कप में भी टीम ने फाइनल तक का सफर तय किया था और रनर-अप रही थी।

वेस्टइंडीज (कप्तान- किरोन पोलार्ड)
टी-20 वर्ल्ड कप के लिए वेस्टइंडीज की टीम एक बार फिर से बड़ा उलटफेर कर सकती है। साल 2012 और 2016 में टीम ने टी-20 वर्ल्ड कप जीतकर सभी को हैरान कर दिया था। इस बार टीम अपने खिताब का बचाव करने मैदान पर उतरेगी। कैरेबियाई टीम के पास कप्तान किरोन पोलार्ड के अलावा सभी खिलाड़ी टी-20 स्पेशलिस्ट है। टीम में क्रिस गेल, आंद्रे रसेल, निकोलस पूरन और एविन लुईस जैसे एक से बढ़कर एक पॉवर हिटर्स मौजूद हैं। लुईस, डिवेन ब्रावो और पोलार्ड IPL के दौरान काफी शानदार फॉर्म में भी नजर आए थे।

वेस्टइंडीज को हर बार बड़े टूर्नामेंट्स के लिए कम आंका जाता है, लेकिन टीम सबसे ज्यादा दो बार टी-20 वर्ल्ड कप जीत पूरी दुनिया के सामने अपने बेखौफ अंदाज का बेहतरीन परिचय दे चुकी है। इस बार कोई भी टीम पोलार्ड एंड कंपनी को हल्के में लेने की भूल नहीं करेगी।

पाकिस्तान (कप्तान- बाबर आजम)
टी-20 वर्ल्ड कप के लिए पाकिस्तान की टीम भी किसी से कम नहीं है। पाकिस्तान को वर्ल्ड कप जीतने का फेवरेट इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि टीम के अधिकांश खिलाड़ियों के पास UAE में खेलने का अच्छा खासा अनुभव है। साल 2009 के बाद से पाक ने अपने घरेलू स्तर के सभी मुकाबलें यूएई के मैदानों पर ही खेले हैं। UAE में पाकिस्तान ने कुल 36 T-20I मैच खेले हैं और 21 में जीत दर्ज की जबकि सिर्फ 13 में टीम को हार मिली है। पिछले 5 सालों में तो पाकिस्तान का UAE में विनिंग परसेंटेज 100% रहा है और टीम ने सभी 11 मैचों में जीत दर्ज की है।

साथ ही टीम के पास कप्तान बाबर आजम, मोहम्मद रिजवान, शोएब मलिक और शाहीन शाह अफरीदी जैसे नाम भी मौजूद हैं। ऐसे में पाक को कम आंकना किसी भी टीम को बहुत भारी पड़ सकता है। पाकिस्तान ने इससे पहले साल 2009 का टी-20 वर्ल्ड कप जीता था और 2007 में टीम रनर-अप रही थी।

भारत (कप्तान- विराट कोहली)
भारतीय क्रिकेट टीम को टी20 विश्व कप 2021 में जीत के लिए पसंदीदा माना जा रहा है। पिछले कुछ वक्त में टीम इंडिया का प्रदर्शन देखें तो विराट एंड कंपनी ने भले ही ट्रॉफी नहीं जीती है, लेकिन टीम के प्रदर्शन में लगातार निरंतरता रही है। इसके अलावा यूएई में आयोजित हुए IPL 2021 के सेकेंड लेग में सभी खिलाड़ी खेल रहे थे जो भारत की विश्व कप स्क्वाड का भी हिस्सा हैं। ऐसे में ये खिलाड़ी इन परिस्थितियों को अच्छी तरह समझ चुके हैं, भारतीय टीम पूरी तरह से संतुलित दिख रही है। एक और सबसे बड़ा सकारात्मक पहलू है, महेंद्र सिंह धोनी का टीम इंडिया के ड्रेसिंग रूम में शामिल होना, क्योंकि माही के पास हर मुश्किल कंडीशन से निकलने का राम बाण उपाय होता है, जो इस बार विराट सेना के काम आ सकता है और टीम ट्रॉफी पर कब्जा जमा सकती है।

भारतीय टीम ने इससे पहले साल 2007 में आयोजित सबसे पहला टी-20 वर्ल्ड कप जीता था। 2014 में टीम रनर-अप रही थी जबकि 2016 में सेमीफाइनल तक का सफर तय किया था।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular