Thursday, December 2, 2021
Homeभारतदिल्ली-NCR में इस समस्या के चलते एक हफ्ते में डॉक्टरों के पास...

दिल्ली-NCR में इस समस्या के चलते एक हफ्ते में डॉक्टरों के पास पहुंचे दोगुने मरीज, जानें पूरा मामला


नयी दिल्ली. दिल्ली-एनसीआर (Delhi NCR)  में एक सप्ताह के अंदर प्रदूषण (pollution)  संबंधी बीमारियों के चलते अस्पताल पहुंचने वालों की संख्या 22 प्रतिशत से 44 प्रतिशत हो गयी है लेकिन इस क्षेत्र के लोग वायु प्रदूषण (air pollution) कम करने के लिए तीन दिनों का लॉकडाउन (Lockdown in Delhi) लगाने के विषय पर बंटे हुए हैं. सोमवार को एक नवीनतम सर्वेक्षण में यह बात सामने आयी. डिजिटल मंच लोकल सर्किल्स के सर्वेक्षण में पाया गया कि लोगों पर वायु प्रदूषण की स्थिति दूसरे सप्ताह में और बिगड़ गयी तथा दिल्ली-एनसीसीआर के 86 प्रतिशत परिवारों में एक या एकाधिक सदस्य जहरीली हवा का प्रतिकूल प्रभाव झेल रहे हैं.

सर्वेक्षण में कहा कि करीब 56 प्रतिशत परिवारों में एक या एकाधिक को गले में खराश, कफ, गला बैठने, आखों में जलन जैसी दिक्कतें हैं. इस सर्वेक्षण में दिल्ली, गुड़गांव, नोएडा, गाजियाबाद एवं फरीदाबाद के 25000 से अधिक लोगों की राय ली गयी. इन शहरों में वायु गुणवत्ता सूचकांक 300-1000 के बीच है. सर्वेक्षण में कहा गया है, ‘…. पिछले दो सप्ताह में डॉक्टर या अस्पताल का चक्कर काटने वालों की प्रतिशत दोगुना हो गया है तथा मदद चाहने वाले परिवार 22 प्रतिशत से बढ़कर 44 प्रतिशत हो गये हैं.’

ये भी पढ़ें :   Air Pollution: केंद्र की आपात बैठक कल; वर्क फ्रॉम होम और एक्शन प्लान टॉप एजेंडा में शामिल

ये भी पढ़ें :  दुनियाभर में कोरोना के खिलाफ असर दिखा रही हैं वैक्सीन, WHO की चीफ साइंटिस्ट का बड़ा बयान

सर्वेक्षण के अनुसार लेकिन दिल्ली-एनसीआर में तीन दिनों के लॉकडाउन लगाने की बात पर लोगों की राय बंटी हुई हैं. कई लोगों का कहना है कि ऊंचे एक्यूआई की वजह पराली जलाना है और दिल्ली में लॉकडाउन लगाने से कोई मदद नहीं मिलने वाली है. सर्वेक्षण के मुताबिक लॉकडाउन के पक्षधरों का कहना है कि पराली जलाना एक ऐसा विषय है जिसपर थोड़े समय में कुछ नहीं किया जा सकता लेकिन वाहनों तथा निर्माण जैसी गतिविधियां रोकने से प्रदूषण घटाने में मदद मिल सकती है.

इधर, दिल्‍ली राज्‍य सरकार ने उच्चतम न्यायालय को सूचित किया कि वह वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने के मकसद से पूर्ण लॉकडाडन जैसे कदम उठाने के लिए तैयार है, यदि इसे पूरे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में लागू किया जाता है. दिल्ली सरकार ने एक शपथ पत्र में कहा, जीएनसीटीडी (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली सरकार) स्थानीय उत्सर्जन को काबू करने के लिए पूर्ण लॉकडाउन जैसे कदम उठाने के लिए तैयार है. बहरहाल, यह कदम तभी अर्थपूर्ण साबित होगा, यदि इसे पड़ोसी राज्यों के एनसीआर इलाकों में भी लागू किया जाता है. दिल्ली के छोटे आकार को देखते हुए इस लॉकडाउन का वायु गुणवत्ता पर बहुत सीमित प्रभाव पड़ेगा.

Tags: Air pollution, Delhi-ncr, Lockdown in Delhi, Pollution





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular