Sunday, January 23, 2022
Homeभारतदुष्यंत चौटाला ने कहा- किसान जत्थे बंदियों का मकसद सरकार से बातचीत...

दुष्यंत चौटाला ने कहा- किसान जत्थे बंदियों का मकसद सरकार से बातचीत नहीं, माहौल खराब करना


सोनीपत. हरियाणा के सोनीपत में आज एक निजी कार्यक्रम में प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala)  पहुंचे. वहींं दुष्यंत चौटाला ने जत्थे बंदियों के 29 नवंबर को संसद कूच (Parliament march on 29th November) पर कहा कि सरकार आंदोलन कारी किसानों (Protester farmers) के साथ बातचीत के लिए तैयार है, अगर किसान सरकार के साथ बातचीत करना चाहते हैं तो वह खुद सरकार के साथ किसानों की बातचीत करवाएंगे. बता दें कि हरियाणा के किसान अलग-अलग जगहों पर करीब एक साल से केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं.

किसान जत्थे बंदियों का मकसद सरकार से बातचीत करना ही नहीं है. उनका मकसद केवल माहौल खराब करना है और जिसकी वजह से आज प्रदेश ही नहीं देश भर में हालात बिगड़ रहे हैं. निजी कार्यक्रम में दुष्यंत चौटाला आज  सोनीपत पहुंचे और पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने किसान जत्थे बंदियों द्वारा 29 नवंबर को संसद कूच पर बोल रहे थे.

डिप्टी सीएम चौटाला ने कहा कि सरकार किसानों के साथ बातचीत के लिए तैयार है, लेकिन अगर किसान सरकार के साथ बातचीत करना चाहते हैं तो वह खुद सरकार के साथ बातचीत करवाएंगे, लेकिन जो हाई पावर कमेटी हरियाणा सरकार ने किसान जत्थे बंदियों के पास बातचीत के लिए भेजी थी, उससे किसान जत्थे बंदियों ने बातचीत नहीं की.

जिसके बाद एक बात साफ हो गई कि किसान सरकार के साथ बातचीत कर अपनी मांग मनवा ना ही नहीं चाहते हैं. उनका मकसद केवल माहौल खराब करना है और यह फिलहाल साबित भी हो रहा है. इसका प्रभाव प्रदेश ही नहीं देश भर में पड़ रहा है. जिसकी वजह से आंदोलन भी खराब हो रहा है और हमारा एक दूसरे के प्रति भावनाओं पर भी इसका प्रभाव पड़ रहा है. वहीं सोनीपत में पढ़ रहे प्रभाव पर दुष्यंत चौटाला ने कहा कि किसान जत्थे बंदियों से आसपास के लोगों को बातचीत करनी चाहिए.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular