Saturday, September 18, 2021
Home राजनीति नहीं रहे अन्नपूर्णा मंदिर के महंत: वाराणसी के महंत रामेश्वर पुरी का...

नहीं रहे अन्नपूर्णा मंदिर के महंत: वाराणसी के महंत रामेश्वर पुरी का लंबी बीमारी के बाद निधन, काशी में शोक की लहर; PM मोदी और CM योगी ने जताया दुख


वाराणसी6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
महंत रामेश्वर पुरी। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar

महंत रामेश्वर पुरी। (फाइल फोटो)

वाराणसी के काशी अन्नपूर्णा मठ मंदिर के महंत रामेश्वर पुरी (67 साल) का शनिवार को एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। महंत के निधन की जानकारी मिलते ही काशी के संत समाज और काशीवासियों में शोक की लहर दौड़ गई। फिलहाल महंत के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए मंदिर में रखा गया है। रविवार की सुबह अंतिम यात्रा मंदिर प्रांगण से निकलेगी।

महंत के निधन से दुखी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया कि काशी अन्नपूर्णा मंदिर के महंत रामेश्वर पुरी जी के देहावसान से अत्यंत दुख हुआ है। उनका जाना समाज के लिए एक अपूरणीय क्षति है। उन्होंने धर्म और आध्यात्म को समाज सेवा से जोड़कर लोगों को सामाजिक कार्यों के लिए निरंतर प्रेरित किया। ऊँ शांति…।

वहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट किया कि काशी अन्नपूर्णा मंदिर के महंत श्रद्धेय रामेश्वर पुरी जी का निधन अत्यंत दुखद है। आपका जाना आध्यात्मिक जगत के लिए अपूरणीय क्षति है। प्रभु श्रीराम जी से प्रार्थना है कि दिवंगत पुण्य आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान व शोकाकुल अनुयायियों को यह अथाह दुख सहन करने की शक्ति दें। ऊँ शांति…।

हरिद्वार में कुंभ स्नान के दौरान हुए थे संक्रमित

सामाजिक सरोकारों से जुड़े कार्यों के लिए वाराणसी में एक अलग पहचान रखने वाले महंत रामेश्वर पुरी हरिद्वार में कुंभ स्‍नान के दौरान कोरोना संक्रमित हो गए थे। वहां से नई दिल्‍ली में इलाज कराने के बाद लखनऊ आ गए थे। इसके बाद ठीक होकर वह अन्‍नपूर्णा मंदिर में रह रहे थे। 11 जून को दोबारा उनकी सेहत खराब होने की वजह से उन्हें लखनऊ स्थित मेदांता अस्पताल ले जाकर दोबारा भर्ती कराया गया।

उप महंत शंकर पुरी ने बताया कि विगत 10 दिनों से उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था और उनकी हालत चिंताजनक बनी हुई थी। डॉक्टरों के जवाब देने के बाद शुक्रवार की रात उन्हें मेदांता से वाराणसी लाकर एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। शनिवार को उन्होंने मां भगवती का नाम लेते हुए शरीर का त्याग कर दिया।

2004 में बनाए गए थे अन्नपूर्णा मंदिर के महंत

उत्तर प्रदेश के बांदा के निवासी महंत रामेश्वर पुरी साल 1993 में गुजरात से वाराणसी घूमने आए थे। उन्हें 17 अक्टूबर 2004 को महानिर्वाणी अखाड़े से संबद्ध काशी अन्नपूर्णा मठ मंदिर का महंत बनाया गया था। उनके नेतृत्व में काशी अन्नपूर्णा अन्न क्षेत्र ट्रस्ट समाज सेवा के क्षेत्र में लगातार आगे बढ़ता रहा।

उन्होंने शिक्षा, चिकित्सा, वृद्धों, बेसहारों और महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए अनेकों काम किए। हाल ही में मेदांता अस्पताल में भर्ती होने की जानकारी पाकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उप महंत को फोन कर महंत के स्वास्थ्य की जानकारी ली थी। इसके साथ ही दोनों नेताओें ने अस्पताल आकर महंत से मुलाकात की इच्छा जताई थी।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular