Thursday, December 2, 2021
Homeबिजनेसनोटबंदी के बाद लगातार बढ़ा डिजिटल पेमेंट, नोटों के चलन में भी...

नोटबंदी के बाद लगातार बढ़ा डिजिटल पेमेंट, नोटों के चलन में भी आई तेजी


नई दिल्ली: नोटबंदी (Demonetisation) के पांच साल बाद डिजिटल पेमेंट (Digital Payments) में तेजी के बावजूद चलन में आए नोटों की संख्या में भी लगातार बढ़ोतरी हो रही है. हालांकि, इस बढ़ोतरी की रफ्तार धीमी है. कोरोना महामारी (Covid 19 Pandemic) के दौरान लोगों ने एहतियात के तौर पर नकदी रखना बेहतर समझा था और इसी वजह से चलन में बैंक नोट पिछले वित्त वर्ष के दौरान बढ़ गए.

UPI से बढ़ा डिजिटल पेमेंट

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक डेबिट/क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग (Net Banking) और यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) जैसे माध्यमों से डिजिटल पेमेंट में भी बड़ी बढ़ोतरी हुई है. भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) का UPI देश में पेमेंट के एक प्रमुख माध्यम के रूप में तेजी से उभर रहा है. इन सबके बावजूद चलन में नोटों का बढ़ना धीमी गति से ही सही, लेकिन जारी है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने 8 नवंबर, 2016 को आधी रात से 500 रुपये और 1000 रुपये के नोटों को बंद करने का ऐलान किया था जो उस समय चलन में थे. इस फैसले का प्रमुख उद्देश्य डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देना और काले धन पर अंकुश लगाना था. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, मूल्य के हिसाब से चार नवंबर, 2016 को 17.74 लाख करोड़ रुपये के नोट चलन में थे, जो 29 अक्टूबर, 2021 को बढ़कर 29.17 लाख करोड़ रुपये हो गए.

महामारी में लोगों ने पास रखा कैश

आरबीआई के मुताबिक, 30 अक्टूबर, 2020 तक चलन में नोटों का मूल्य 26.88 लाख करोड़ रुपये था. 29 अक्टूबर, 2021 तक इसमें 2,28,963 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई. वहीं सालाना आधार पर 30 अक्टूबर, 2020 को इसमें 4,57,059 करोड़ रुपये और इससे एक साल पहले एक नवंबर, 2019 को 2,84,451 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई थी.

ये भी पढ़ें: नोटबंदी में आपने जमा कराए थे 500 और 1000 के पुराने नोट, जानें उनका क्या हुआ?

इसके अलावा चलन में बैंक नोटों के मूल्य और मात्रा में 2020-21 के दौरान क्रमशः 16.8 फीसदी और 7.2 फीसदी की वृद्धि हुई थी, जबकि 2019-20 के दौरान इसमें क्रमशः 14.7 फीसदी और 6.6 फीसदी की वृद्धि देखी गई थी. वित्त वर्ष 2020-21 में चलन में बैंक नोटों की संख्या में बढ़ोतरी की वजह महामारी रही. महामारी के दौरान लोगों ने सावधानी के तौर पर अपने पास नकदी रखी.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular