Thursday, December 2, 2021
Homeराजनीतिपद तो बंट गए, गुरु को नहीं मिला न्याय: नरेंद्र गिरि डेथ...

पद तो बंट गए, गुरु को नहीं मिला न्याय: नरेंद्र गिरि डेथ केस…बलवीर गिरि ने गद्दी संभाली तो रवींद्र पुरी ने परिषद की अध्यक्षी, हत्या या आत्महत्या में अभी भी उलझी है जांच


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Narendra Giri Death Case… Balveer Giri Took Over The Throne, Then Ravindra Puri Chaired The Council, Investigation Is Still Involved In Murder Or Suicide

प्रयागराज41 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
नरेंद्र गिरि की 20 सितंबर को संदिग्ध दशा में श्री मठ बाघंबरी गद्दी में मौत हो गई थी। - Dainik Bhaskar

नरेंद्र गिरि की 20 सितंबर को संदिग्ध दशा में श्री मठ बाघंबरी गद्दी में मौत हो गई थी।

साधु-संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध दशा में हुई मौत को एक माह 7 दिन हो गए पर CBI जांच अभी भी हत्या या आत्महत्या में ही उलझी हुई है। इधर, नरेंद्र गिरि के शिष्य बलवीर पुरी ने श्री बाघंबरी गद्दी मठ और लेटे हनुमान मंदिर की जिम्मेदारी संभाल ली है तो अखाड़े के सचिव रहे रवींद्र पुरी ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष का पद। सबकुछ पूर्ववत चल रहा है पर गुरु नरेंद्र गिरि को अभी तक न्याय नहीं मिला है। न ही इस न्याय के लिए कोई लड़ने वाला दूर-दूर तक दिखाई दे रहा है।

आरोपियों के खिलाफ CBI के हाथ खाली

जिनको आत्महत्या के लिए जिम्मेदार ठहराया गया वो भले ही जेल की सलाखों के पीछे हैं पर CBI अभी तक उनके खिलाफ भी कोई ठोस सुबूत नहीं जुटा पाई है। न वो महिला सामने लाई जा सकी और न ही वो कथित सीडी। सबकुछ उलझा उलझा सा है। अब सीबीआई जांच इस तस्वीर को साफ कर पाएगी या नहीं यह तो समय ही बताएगा पर उत्तराधिकारी भी दबी जुबान नरेंद्र गिरि की मौत को शुरू से आत्महत्या ही साबित करने में लगे हुए हैं।

पुलिस ने आनंद गिरि को आरोपी बनाया है।

पुलिस ने आनंद गिरि को आरोपी बनाया है।

आनंद गिरि ने कहा था गुरुदेव आत्महत्या नहीं कर सकते, उनकी हत्या हुई है

नरेंद्र गिरि की मौत की खबर मिलने और सुसाइड नोट में आनंद गिरि का नाम आने के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया में उन्होंने कहा था कि उनके गुरु नरेंद्र गिरि आत्महत्या नहीं कर सकते। उन्की हत्या की गई है। इसकी जांच होनी चाहिए। अब यहां एक अहम सवाल उठता है कि अगर नरेंद्र गिरि की मौत के लिए किसी भी प्रकार से आनंद गिरि जिम्मेदार होते तो वो ऐसा बयान देने से बचते। उनका इशारा बलवीर गिरि पर था। बलवीर गिरि को महंत नरेंद्र गिरि की मौत से सबसे ज्यादा फायदा होने वाला था। सीबीआई ने भी इस एंगल से जांच की और बलवीर गिरि से कई बार पूछताछ की पर किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है।

श्री मठ बाघंबरी गद्दी में नरेंद्र गिरि ने सुसाइड कर लिया था।

श्री मठ बाघंबरी गद्दी में नरेंद्र गिरि ने सुसाइड कर लिया था।

ये सवाल अभी भी अनुत्तरित हैं

  • -नरेंद्र गिरि ने 3 बार वसीयत क्यों बदली?
  • -सुसाइड नोट पर दस्तखत तो नरेंद्र गिरि के थे पर क्या सुसाइड नोट खुद लिखा या किसी से लिखवाया?
  • -दो बिल्डरों को 25-25 लाख रुपये क्यों दिए थे? उनके साथ महंत के रिश्ते कैसे थे?
  • -जिस दिन महंत ने सुसाइड किया हरिद्वार से आने वाले किस व्यक्ति का इंतजार कर रहे थे?
  • -हरिद्वार से जो लाखों रुपये मठ में आए थे वो किसने और क्यों भेजे थे?
  • -सुसाइड नोट में जिस महिला के साथ सीडी बनाने और उसको जारी करने की बात लिखी है वो महिला कौन थी और कहां है?
  • -महिला की महंत नरेंद्र गिरि से रिश्ते कैसे थे? उसके और महंत के साथ सीडी बनाकर कौन ब्लैकमेल करना चाह रहा था?
  • -CBI को अभी तक सीडी नहीं मिली है, तो क्या वह फर्जी बात थी, जिसको लेकर ब्लैकमेल करने की कोशिश हो रही थी।
  • -महंत की मौत से सबसे ज्यादा फायदा किसको और क्यों होने वाला था?
  • नरेंद्र गिरि की मौत के बाद बलवीर पुरी को मठ का नया महंत बनाया गया है।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular