Sunday, May 16, 2021
Home राजनीति पीड़िता की जांच व इलाज करने वाले जेएन मेडिकल कॉलेज के दो...

पीड़िता की जांच व इलाज करने वाले जेएन मेडिकल कॉलेज के दो डॉक्टर बर्खास्त; गैंगरेप की रिपोर्ट पर भी उठाए थे सवाल


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Hathras Gang Rape Case, Aligarh News Update; JN Medical College Doctors Dismissed After Raised Questions On Report

अलीगढ़12 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

यह फोटो अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज की है। सोमवार को यहां सीबीआई ने पीड़िता का इलाज करने वाले डॉक्टरों से लंबी पूछताछ की थी। उसी के बाद दोनों डॉक्टरों पर कार्रवाई की गई है। इसलिए लोग कई तरह की अटकलें लगा रहे हैं।

  • अलीगढ़ के मेडिकल कॉलेज में लीव वैकेंसी पर हुई थी दोनों डॉक्टरों की नियुक्ति
  • डॉक्टर बोले- हमें बर्खास्तगी का कारण नहीं बताया गया, मेडिकल कॉलेज के वाइस चांसलर ने भी साधी चुप्पी

सीबीआई जांच के एक दिन बाद अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जेएन मेडिकल कॉलेज में कार्यरत दो कैजुअल्टी मेडिकल अफसरों को टर्मिनेट कर दिया गया है। यह कार्रवाई वाइस चांसलर तारिक मंसूर ने की है। दोनों डॉक्टर हाथरस की कथित गैंगरेप पीड़िता के इलाज व उसकी मेडिकल रिपोर्ट तैयार करने में शामिल थे। एक डॉक्टर ने विधि विज्ञान प्रयोगशाला की रिपोर्ट पर भी सवाल उठाए थे। कहा था कि घटना के 11 दिन बाद रेप की पुष्टि नहीं हो सकती है। यदि शुरुआत में पुलिस ने जांच कराई होती तो पुष्टि हो सकती थी। हालांकि बाद में उन्होंने इसे अपना निजी विचार बताया था।

सूत्रों की मानें तो सोमवार को सीबीआई ने दोनों डॉक्टरों से पूछताछ की थी। वहीं, आज एएमयू के वाइस चांसलर ने दोनों डॉक्टर्स को टर्मिनेट कर दिया है। दोनों की मेडिकल कॉलेज में जॉइनिंग लीव वैकेंसी पर हुई थी। हालांकि दोनों डॉक्टरों पर कार्रवाई का आधार लीव वैकेंसी पर गए डॉक्टरों के वापस लौटने को लेकर बताया गया है। लेकिन अधिकारिक पुष्टि अभी तक नहीं की गई है। कोई भी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।

टर्मिनेट हुए डॉक्टरों ने कहा- हमें कार्रवाई का कारण नहीं बताया गया

डॉक्टर ओबैद एवं डॉक्टर मोहम्मद अजीमुद्दीन मलिक की जेएन मेडिकल कॉलेज में लीव वैकेंसी के चलते नियुक्ति हुई थी। डॉक्टर अजीम मलिक का कहना है कि हमें कॉलेज में ड्यूटी करने के लिए बुलाया गया था, क्योंकि हमारे अन्य कई सीएमओ को कोविड-19 के दौरान लीव पर जाना पड़ा था। इसलिए हम यहां पर आए थे। बीच में हाथरस वाला भी मामला आया था। इसमें लड़की आई थी। हम अपनी ड्यूटी करते रहे। आज हमारे पास एक लेटर आया है, जिसमें हमें हटने के लिए कहा गया है। लेकिन इसके पीछे कोई कारण नहीं बताया गया है।

हाथरस प्रकरण को लेकर ऐसा कुछ नहीं था, लेकिन एक मामला था एफएसएल रिपोर्ट को लेकर। हमारे पास किसी की कॉल आई थी और उन्होंने हमसे जो पूछा एफएसएल की रिपोर्ट को लेकर उस पर हमने उनको जवाब दिया था। हमने भी वीसी को पत्र लिखा है। उम्मीद है कि हमको भी वहां से कोई जवाब मिलेगा। वहीं, डॉक्टर ओबैद ने कहा कि मैं मेडिकल ऑफिसर के पोस्ट पर थे। मुझे आज एक लेटर मिला है कि अपॉइंटमेंट कैंसिल किया जाता है और अब से आप ड्यूटी पर नहीं आइए। कारण हमें बताया नहीं गया है। यह तो मैं कह नहीं सकता क्या कारण रहा है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular