Saturday, September 18, 2021
Home पुरानी कार खरीदते ही तुरंत निपटा लें ये 5 काम, नहीं होगा...
Array

पुरानी कार खरीदते ही तुरंत निपटा लें ये 5 काम, नहीं होगा नुकसान


भारत में जितनी खरीदारी नई गाड़ियों की होती है, उतना ही पुरानी कारों को भी पसंद किया जाता है। बहुत लोग कम बजट के चलते पुरानी कार खरीदते हैं। ऐसा करने के अपने फायदे और नुकसान भी हैं। पुरानी कार खरीदने से पहले आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, इसे लेकर हम पहले ही एक आर्टिकल बना चुके हैं। आज हम आपको बताने वाले हैं उन 5 काम के बारे में जो पुरानी कार खरीदने के बाद जल्द से जल्द निपटा लेने में ही भलाई है। 

1. सर्विस बहुत जरूरी
पुरानी कार खरीदने के बाद सबसे पहले इसे सर्विसिंग के लिए ले जाएं। अपने किसी भरोसेमंद मकैनिक से कार का ऑइल और फिल्टर बदलवा लें। इसके अलावा अगर कोई टूट-फूट है तो उसे भी ठीक करा लें। अक्सर पुरानी कार बाहर से दिखने में तो ठीक नजर आती है, लेकिन अंदर से इसे एक बार चेक करा लेना ही बेहतर रहता है। 

यह भी पढ़ें: पुरानी कार लेनी है? खरीदने से पहले ध्यान रखें ये 5 बातें, बड़े नुकसान से बच जाएंगे

car cleaning

2. अंदर तक करा लें सफाई
कार की सफाई भी एक महत्वपूर्ण पहलू है। हम नहीं जानते कि दूसरे व्यक्ति ने इसे कितनी सफाई से रखा है। इसलिए कार को इस्तेमाल करने से पहले बाहर और अंदर से इसकी सफाई भी बेहद जरूरी है। आप भले ही बाद में खुद इसकी सफाई करते रहें, लेकिन पहली बार किसी कार क्लीनिंग सर्विस पर ही जाएं। कोविड-19 के दौर में सफाई के साथ इसका सेनिटाइजेशन भी आवश्यक है।

3. अपने नाम करा लें गाड़ी
अक्सर लोग अपने दोस्त या जानकार से कार लेने के बाद गाड़ी अपने नाम नहीं कराते। ऐसे में इंश्योरेंस क्लेम करने या इसे बेचने में दिक्कत आ सकती है। इसलिए बेहतर होगा कि जैसे ही आप कार खरीदते हैं, आपको आरसी बुक और स्वामित्व आपके नाम टांसफर करा लें। अब आरटीओ पर इसकी प्रक्रिया काफी आसान हो गई है। इसके अलावा, अगर कार का कोई पुराना मालिक था, तो सुनिश्चित करें कि वर्तमान मालिक के पास कार बेचने के लिए NOC है या नहीं। 

यह भी पढ़ें: कम खर्च और किफायती इंश्योरेंस, पुरानी कार खरीदने के 7 बड़े फायदे

used second hand car benefits

4. करा लीजिए बीमा
आरसी बुक की तरह आप भी इंश्योरेंस भी ट्रांसफर करवा सकते हैं। हालांकि अगर पुराने मालिक ने इंश्योरेंस रिन्यू नहीं कराया है, या आप परेशानी से बचना चाहते हैं, तो आप नया सेकेंड हैंड कार इंश्योरेंस करा सकते हैं। इसका एक फायदा यह भी है कि नई कार के मुकाबले पुरानी कार का बीमा थोड़ा सस्ता पड़ता है।

5. कराते रहें मरम्मत
नई कार हो या पुरानी, कार को अच्छी कंडिशन में बनाए रखना हमारी जिम्मेदारी है। इसलिए अपनी कार की समय-समय पर मरम्मत और देखरेख करते रहें। पुरानी गाड़ियों के पार्ट्स नई के मुकाबले थोड़ा जल्दी खराब होते रहते हैं। इसलिए कार सही हालात में होगी तो रास्ते में आपको धोखा भी नहीं देगी। इसके अलावा इसकी रिसेल वैल्यू भी अच्छी मिल जाएगी। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular