Thursday, September 23, 2021
Home राजनीति पुलिस के पास पहुंचा बेजुबान का अनोखा मामला: शरीर पर गहरे जख्म...

पुलिस के पास पहुंचा बेजुबान का अनोखा मामला: शरीर पर गहरे जख्म लिए खुद पुलिस चौकी पहुंची घायल गाय, पुलिस ने डॉक्टर बुला लगवाए 13 टाकें, इलाज करा खुद सेवा कर रही पुलिस


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Gorakhpur
  • Ittefaq Or The Charisma Of Nature!, The Injured Cow Reached The Police Post Herself With Deep Wounds On The Body; Now The Police Is Serving After Getting Treatment,Gorakhpur, Gorakhpur News, Gorakhpur Police, Cow, Injured Cow, Breking News Gorakhpur, Good News Gorakhpur, Gorakhpur News Today

गोरखपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
चौकी इंचार्ज ने मानवता की मिसाल पेश करते हुए पहले तो तत्काल पशु चिकित्सक को बुलवाया और घायल गाय का इलाज कराया। - Dainik Bhaskar

चौकी इंचार्ज ने मानवता की मिसाल पेश करते हुए पहले तो तत्काल पशु चिकित्सक को बुलवाया और घायल गाय का इलाज कराया।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले से एक बेहद हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां शनिवार को पुलिस के पास एक ऐसा अनोखा मामला पहुंचा जिसे देख पुलिसकर्मियों के साथ वहां मौजूद हर कोई दंग रह गया। कैंट इलाके के इंजीनियरिंग कॉलेज पुलिस चौकी पर एक गाय बुरी तरह घायल हालत में पहुंची। गाय को काफी चोटे लगी थी। उसे काफी खून बह रहा था।

जब किसी ने बेजुबान की मदद नहीं की तो वह खुद ही मदद की दरकार लिए पुलिस चौकी के अंदर चली गई। अब इसे इत्तेफाक कहें या फिर कुदरत का करिश्मा? घायल गाय वहां मौजूद पुलिसकर्मियों के पास आकर खड़ी हो गई। ​उसके चोट और खून देख वहां हर कोई दंग रह गया। पुलिसकर्मियों ने तत्काल पशु चिकित्सक को बुलवाया और घायल गाय का इलाज कराया।

खुद चौकी इंचार्ज तक पहुंची घायल गाय
शनिवार की शाम इंजीनियरिंग कॉलेज पुलिस चौकी के कर्मी शाम के गश्त पर निकलने की तैयारी कर रहे थे। चौकी प्रभारी पुरुषोत्तम आनंद सिंह जैसे ही अपने चेंबर से बाहर आए तो देखा की उनके गेट पर एक गाय खड़ी है। उसके कंधे पर गहरे चोट हैं और काफी खून निकल रहा है। पहले तो उन्होंने सोचा कि शायद किसी ने रंजिश में किसी की गाय को मारकर घायल कर दिया और वह पुलिस के पास शिकायत लेकर आया है। जानकारी करने पर पता चला कि गाय को किसी ने नहीं लाया बल्कि वह खुद उनके चेंबर के गेट तक पहुंची थी।

घायल गाय को लगे 13 टाकें
चौकी इंचार्ज ने मानवता की मिसाल पेश करते हुए पहले तो तत्काल पशु चिकित्सक को बुलवाया और घायल गाय का इलाज कराया। बेजुबान के शरीर पर गहरे जख्म होने की वजह से उसे 13 टॉकें लगाए गए। डॉक्टर ने गाय के ठीक होने तक उसे छुट्टा छोड़ने की बजाय उसकी देखभाल की सलाह दी। ऐसे में अब पुलिसकर्मी कुछ देर के लिए सकते में आ गए। पहले तो चौकी प्रभारी ने कई गोशाला संचालकों से संपर्क किया, लेकिन जब कोई उसे रखने को तैयार नहीं हुआ तो उन्होंने चौकी में ही फिलहाल उसे रखवा दिया। हालांकि गाय को चोट कैसे लगी, यह पता नहीं चल सका।

चौकी इंचार्ज ने उठाई गाय की जिम्मेदारी
इतना ही नहीं, चौकी इंचार्ज पुरुषोत्तम आनंद सिंह ने खुद चौकी के पीछे खाली जगह पर उसे बांधकर रखा, साथ ही बारिश व धूप से बचने के लिए उपर प्लास्टिक डालने के लिए कर्मियों को निर्देश दिया। पुरुतोषत्तम आनंद सिंह ने बताया कि सनातन धर्म में गाय को मां का दर्जा प्राप्त है। ऐसे में जब हम अपने घरों में अपने बुजुर्ग माता पिता की सेवा कर सकते हैं तो फिर गाय की क्यों नहीं। उन्होंने बताया कि गाय के पूरी तरह स्वस्थ होने तक उसकी जिम्मेदारी मैनें खुद उठाई है। ठीक होने के बाद उसे किसी गोशाला संचालक को सुपुर्द कर दिया जाएगा। शायद किसी गाड़ी से टक्कर में उसे चोट आई है या फिर किसी शरारती ने उसे मारकर घायल कर दिया है।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular