Sunday, January 16, 2022
Homeलेटेस्ट मोबाइल फोन्सफोन कॉल पर चोरी हो सकता है ओटीपी, Cyber Dost ने किया...

फोन कॉल पर चोरी हो सकता है ओटीपी, Cyber Dost ने किया अलर्ट


Cyber Dost Alert: डिजिटल होती दुनिया में धोखेबाजी और ठगी के भी नए-नए तरीके अजमाए जा रहे हैं. एक फोन कॉल या मैसेज से ही घर बैठे-बैठे हैकर्स बैंक अकाउंट खाली कर देते हैं. साइबर क्रिमिनल नए-नए तरीकों से लोगों को चूना लगा रहे हैं. कोरोना काल में जिस गति से ऑनलाइन ट्रांजैक्शन और डिजिटल पेमेंट बढ़ा है उसी स्पीड से साइबर धोखाधड़ी के मामलों में भी इजाफा हुआ है. इसलिए किसी भी अंजान लिंक, आकर्षक ऑफर और अंजान कॉल से अलर्ट रहना चाहिए.

साइबर क्राइम के बढ़ते इन मामलों को देखते हुए सरकार समय-समय पर लोगों को अलर्ट भी करती रहती है. लोगों को साइबर क्राइम को लेकर जागरुक करने के लिए गृह मंत्रालय ने साइबर दोस्त (Cyber Dost) नाम से एक ऐप भी बनाया हुआ है.

यह भी पढ़ें- UPI PIN से होने वाले फ्रॉड से कैसे बचें, NPCI ने किया अलर्ट

साइबर दोस्त ने किया अलर्ट
सरकार ने इस बार साइबर दोस्त के मार्फत एक नए खतरे को लेकर अलर्ट किया है. सरकार ने लोगों को ओटीपी फ्रॉड (OTP Fraud) को लेकर सतर्क किया है. सरकार का कहना है कि ओटीपी (OTP) को कॉल के द्वारा भी चुराया जा सकता है.

सरकार ने सलाह दी है कि कभी भी फोन पर किसी अनजान से बात करते हुए कोई और कॉल को मर्ज ना करें. कॉल मर्ज होते ही जालसाज ओटीपी जानकर आपका अकाउंट हैक कर सकते हैं. इस बारे में जागरुक रहें, सतर्क रहें. फ्रॉड का शिकार होने पर अपनी शिकायत cybercrime.gov.in पर दर्ज कर सकते हैं.

निजी जानकारी शेयर ना करें
डिजिटल पेमेंट करते समय आपके फोन पर ओटीपी नंबर आता है. इस ओटीपी के बाद ही आपकी ट्रांजैक्शन पूरा होता है. ध्यान रखें कि अपना ओटीपी नंबर किसी से शेयर ना करें. अपने बैंक खाते की जानकारी किसी को भी ना दें. बैक खाता, एटीएम कार्ड या क्रेडिट कार्ड की जानकारी शेयर करने से आपका खाता खाली हो सकता है.

यह भी पढ़ें- फेल नहीं होगा ऑनलाइन ट्रांजैक्शन, Google Pay पर फॉलो करें ये स्टेप्स

सुरक्षित प्लेटफॉर्म नहीं है WhatsApp
साइबर सुरक्षा कंपनी कैस्पर्सकी (cybersecurity company Kaspersky) के डायरेक्टर दिमित्री बेस्टुज़ेव (Dmitry Bestuzhev) का कहना है कि वॉट्सऐप में सुरक्षा को लेकर कई खामियां हैं. वॉट्सऐप पर यजूर्स को किसी भी तरह की अपनी पर्सनल जानकारी शेयर नहीं करनी चाहिए.

दिमित्री बेस्टुज़ेव ने कहा कि यह समझना महत्वपूर्ण है कि वॉट्सऐप एक सुरक्षित प्लेटफॉर्म नहीं है, हालांकि कई लोग सोचते हैं कि यह महफूज है. उन्होंने कहा कि स्कैमर्स वॉट्सऐप यूजर्स के डेटा पर नजर गढ़ाए बैठे हैं और बड़े मौके की तलाश में हैं.

Tags: Cyber Crime, Cyber Fraud, Online fraud





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular