Tuesday, May 18, 2021
Home भारत फ्रांस हमले पर मुनव्वर राणा ने दिया विवादित बयान तो बोले कुमार...

फ्रांस हमले पर मुनव्वर राणा ने दिया विवादित बयान तो बोले कुमार विश्वास- पहली बारिश में रंग उतर जाते हैं


फ्रांस में हुए आतंकी हमलों को लेकर दिए गए मशहूर शायर मुनव्वर राणा के विवादित बयान पर लोकप्रिय कवि कुमार विश्वास ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने पंक्तियों के जरिए से मुनव्वर राणा के बयान पर निशाना साधा है। विश्वास ने जिन पंक्तियों को ट्वीट किया है, उनमें अंतिम पंक्ति हैं, ”पहली बारिश ही में ये रंग उतर जाते हैं।” 

मशहूर शायर मुनव्वर राणा के विवादित बयान से जुड़ी एक खबर पर रिएक्शन देते हुए विश्वास ने जावेद अख्तर की चंद पंक्तियां लिखी हैं। उन्होंने कहा, ”नर्म अल्फ़ाज़ भली बातें मोहज़्ज़ब लहजे, पहली बारिश ही में ये रंग उतर जाते हैं।” इन पंक्तियों से साफ है कि मुनव्वर राणा ने फ्रांस आतंकी हमले पर जो बयान दिया, उससे कुमार विश्वास असहमत हैं। यह ट्वीट ट्विटर पर काफी पसंद किया जा रहा है। अब तक 15 हजार से ज्यादा यूजर्स इसे लाइक कर चुके हैं, जबकि एक हजार सात सौ से ज्यादा बार रि-ट्वीट किया जा चुका है।

यह भी पढ़ें: फ्रांस में हुए आतंकी हमले पर मशहूर शायर मुनव्वर राणा का विवादित बयान, कहा- कोई भी आपत्तिजनक कार्टून बनाएगा तो उसे मार देंगे

मुनव्वर राणा ने क्या कहा था?

मुनव्वर राणा ने अपने विवादित बयान में कहा था कि अगर कोई उनके माता-पिता या भगवान का गंदा कार्टून बनाता है, तब वे भी उसकी हत्या कर देंगे। एक निजी चैनल से बात करते हुए मशहूर शायर मुनव्वर राणा ने शनिवार को कहा, ”कोई हमारे माता-पिता या फिर भगवान का गंदा, आपत्तिजनक कार्टून बनाता है तो हम उसे मार देंगे।” उन्होंने कहा कि जब देश में हजारों साल से ऑनर किलिंग को जायज मान लिया जाता है और कोई सजा नहीं होती है तो फिर आप उसे नाजायज कैसे कह सकते हैं। पूरी दुनिया में यही हो रहा है। मशहूर शायर ने कहा था कि जिसने भी पैगंबर मोहम्मद का कार्टून बनाया, उसने ऐसा करके गलत किया। 

चौतरफा घिरने के बाद पेश की सफाई

वहीं, अपने बयान को लेकर चौतरफा घिरने के बाद मुनव्वर राणा ने सफाई पेश की। उन्होंने कहा कि इस समय फ्रांस में जो कुछ भी हो रहा है, सब गलत है। इस्लामी मजहब से छेड़छाड़ करने वाला कार्टून बनाना भी गलत था और उस कार्टूनिस्ट या शिक्षक को मारने वाली घटना भी गलत है। फ्रांस के कानून के मुताबिक जो भी सजा हो वह उन्हें मिले। ऐसे में फ्रांस के लोगों को भी सोचना चाहिए कि अगर कुछ गलत हुआ है तो उसके बदले अन्य समुदाय के लोग गलत न करें। देश में मजहबी भावनाओं की कद्र होनी चाहिए। जो देश ऐसा नहीं करता उस देश में कभी अमन नहीं हो सकता। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular