Tuesday, May 18, 2021
Home राजनीति बक्सर-पटना फोरलेन निर्माण का कार्य अब अंतिम चरण में, अगले वर्ष भर...

बक्सर-पटना फोरलेन निर्माण का कार्य अब अंतिम चरण में, अगले वर्ष भर सकेंगे फर्राटा


बक्सर4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • फोरलेन बनने के बाद बक्सर से पटना 129 किलोमीटर का सफर दो घंटे में हो सकेगा पूरा
  • भूअर्जन का कार्य पूरा होने के बाद फोरलेन निर्माण में लगी कंपनी ने तेज किया निर्माण

जिला मुख्यालय बक्सर से पटना के बीच फोरलेन पर फर्राटा भरने का सपना जल्द पूरा होने वाला है। फोरलेन निर्माण में लगी कंपनी के कार्य की तेजी देखकर तो ऐसा ही लग रहा है। अरसे से आरा-बक्सर के लोग यह सपना पाल रहे हैं। सपना अगले साल पूरा होने वाला है। परियोजना का निर्माण लक्ष्य भी 2020 ही निर्धारित है। लेकिन, भूअर्जन की प्रक्रिया में हुई देरी के कारण समय पर कार्य पूरा नहीं हो सका।

अब अड़चनें दूर हो चुकी हैं। निर्माण कंपनी निर्धारित समय में काम को पूरा करने के लिए दिन-रात जुटी है। फोरलेन के निर्माण की रफ्तार इतनी तेज है कि सप्ताह भर में चार से छह किलोमीटर का बेस ढांचा तैयार हो जा रहा है। खराब मौसम के बावजूद मजदूर अल सुबह से देर शाम तक काम में जुटे हैं।

फोरलेन बनने के बाद बक्सर से पटना आना-जाना आसान हो जाएगा और 129 किलोमीटर का सफर दो घंटे में पूरा हो सकेगा। अभी इस दूरी को तय करने में चार घंटे से ज्यादा का वक्त लगता है।

जिला प्रशासन ने कर लिया है जमीन का भू-अर्जन, काम में आई तेजी
इस फोरलेन सड़क निर्माण को 42 में जमीनों का भू-अर्जन होना है। प्राइवेट लैंड पर काम करने में दिक्कत आ रही है। लेकिन कंपनी को जिला प्रशासन के सहयोग पर पूरा भरोसा है। जानकारी के अनुसार लगभग सभी मौजों में कागजी कार्रवाई पूरी हो चुकी है। जिन मौजे के जमीन का भू-अर्जन जिला प्रशासन ने कर दिया है वहां कई जगहों पर निर्माण कार्य 80 से 90 प्रतिशत कर लिया गया है। नया भोजपुर स्थित काव नदी पुल पार करते ही गरहथा तक लगभग आठ से दस किलोमीटर तक सड़क निर्माण का फाइनल संरचना तैयार मिलेगा।

चुरामनपुर से आगे बढ़ा फोरलेन का कार्य
कृष्णब्रह्म से ब्रह्मपुर के बीच भी दस किलोमीटर की दूरी में सड़क निर्माण कार्य फाइनल हो गया है। कुछ जगहों पर जहां डिवाइडर का काम पूरा हो गया है। वहां से आगे सड़क निर्माण का काम जोरशोर से चल रहा है। पुराना भोजपुर के बाद प्रतापसागर से दलसागर तक फोरलेन सड़क निर्माण कार्य में पक्कीकरण लगभग पूरा हो चुका है। अहिरौली में सड़क किनारे बने कई मकानों को तोड़ कर ध्वस्त कर दिया गया है। पड़री मोड़ से बक्सर की तरफ लगातार अवैध मकान तोड़े जा रहे हैं।

आधुनिक मशीनों का हो रहा उपयोग

फोरलेन सड़क के निर्माण में आधुनिक मशीनों और तकनीक का इस्तेमाल हो रहा है। परियोजना में सड़क निर्माण की जिम्मेदारी पीएनसी कंस्ट्रक्शन कंपनी की है, जबकि रास्ते में सभी पुल और पुलिस का निर्माण एसीपी सिगला कंपनी कर रही है। पूरे मार्ग में 99 छोटी-बड़ी पुलिया का निर्माण होना है। यही कंपनी बक्सर से बलिया के बीच गंगा नदी पर दो लेन का पुल भी बना रही है। निर्माण में कई ऐसे मशीनों का उपयोग हो रहा है जो पलक झपकते ही मिट्टी काट देती हैं और निर्माण सामग्रियों का कंप्यूटराइज्ड मिश्रण कर देती हैं।

तीन टुकड़ों में विभाजित कर हो रहा काम
पटना से बक्सर तक तकरीबन 129 किलोमीटर फोरलेन सड़क निर्माण को तीन भागों में बांटा गया है। एक हिस्सा पटना से कोइलवर पुल तक है। दूसरा हिस्सा कोइलवर पुल से आरा होते हुए शाहपुर तक है जबकि शाहपुर से बलिया के भरौली गोलंबर तक के कार्य में बक्सर और डुमरांव को कवर किया गया है। इस हिस्से में निर्माण का कुल लागत खर्च 681.67 करोड़ रुपये है। तेज रफ्तार में चल रहे निर्माण कार्य से उम्मीद है कि अगले साल तक निर्धारित समय में कार्य पूरा हो जाएगा।

जिला प्रशासन कर रहा सहयोग : डीएम
^फोरलेन सड़क का निर्माण कंपनी द्वारा तैयार टाइम फ्रेम वर्क के अनुरूप हो रहा है। जहां समस्या आती है वहां जिला प्रशासन तुरंत सहयोग देता है। ऐसे में अगले साल तक निर्माण कार्य पूरा होने की पूरी उम्मीद है।
– अमन समीर, डीएम, बक्सर।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular