Friday, April 16, 2021
Home बड़ी खबर! इस राज्य में LPG-CNG किटों व इलेक्ट्रिक वाहनों के रजिस्ट्रेशन...
Array

बड़ी खबर! इस राज्य में LPG-CNG किटों व इलेक्ट्रिक वाहनों के रजिस्ट्रेशन के लिए देनी होगी 5,000 रुपये फीस


वाहनों के रजिस्ट्रेशन के लिए लगेगी प्रोसेसिंग फीस

वाहनों के रजिस्ट्रेशन के लिए लगेगी प्रोसेसिंग फीस

पंजाब कैबिनेट ने पड़ोसी राज्यों की तर्ज पर मोटर वाहनों के नए मॉडलों, LPG या CNG किटों की मंजूरी और इलेक्ट्रिक वाहनों की रजिस्ट्रेशन के लिए प्रोसेसिंग फीस लगाने का फैसला किया है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 18, 2020, 9:36 AM IST

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) की अध्यक्षता में गुरुवार को हुई कैबिनेट बैठक में एक अहम फैसला लिया गया. पंजाब सरकार ने पड़ोसी राज्यों की तर्ज पर मोटर वाहनों के नए मॉडलों, LPG या CNG किटों की मंजूरी और इलेक्ट्रिक वाहनों की रजिस्ट्रेशन के लिए प्रोसेसिंग फीस (Processing Fee) लगाने का फैसला किया है. मतलब साफ है सीएनजी, एलपीजी किटों और इलेक्ट्रिक वाहनों की रजिस्ट्रेशन के लिए अब आपको भुगतान करना पड़ेगा. बता दें की ये प्रोसेसिंग फीस 5000 रुपये तय की गई है.

अधिकृत डीलरों को देने होगी प्रोसेसिंग फीस
कैबिनेट ने हरियाणा की तर्ज पर पंजाब मोटर वाहन नियम 1989 की धारा 130 के साथ धारा 130 ए जोड़ने की मंजूरी दी है. इसके साथ अब मोटर वाहन बनाने वाली कंपनियां या उनके द्वारा अधिकृत डीलरों से पंजाब में मोटर वाहनों के नए मॉडलों या इनके अलग अलग रूपों या LPG CNG किटों या इलेक्ट्रिक वाहनों के रजिस्ट्रेशन के लिए मंजूरी देने के लिए प्रोसेसिंग फीस के तौर पर 5 हजार रुपये फीस ली जाएगी. इस फैसले से जहां राजस्व बढ़ेगा वहीं, यह भी पता रहेगा कि किस कंपनी ने कितने सीएनजी या एलपीजी और इलेक्ट्रिक वाहनों का निर्माण किया है.

ये भी पढ़ें : Indian Railways: भारतीय रेलवे ने एक बार फिर कई ट्रेनें की रद्द, निकलने से पहले चेक कर लें लिस्टइस मंजूरी के लिए वाहन निर्माताओं या उनके द्वारा अधिकृत डीलरों को केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 की धारा 126 के अधीन रजिस्टर्ड अधिकृत टेस्टिंग एजेंसियों द्वारा जारी मंजूरी सर्टिफिकेट पेश करना होगा. मोटर वाहनों के नए मॉडलों या इनके अन्य रूपों की रजिस्ट्रेशन की मंजूरी का अधिकार ट्रांसपोर्ट विभाग के गैर कॉमर्शियल विंग को दिया गया है. कैबिनेट ने मोटर वाहनों के नए माडलों या इनके अन्य रूपों के रजिस्ट्रेशन की मंजूरी का अधिकार ट्रांसपोर्ट विभाग के गैर कमर्शियल विंग को देने का फैसला किया है.

इन राज्यों में पहले से लागू है नियम
बता दें, मौजूदा समय में पंजाब सरकार की तरफ से राज्य में रजिस्ट्रेशन की मंजूरी के लिए मोटर वाहन निर्माताओं या उनके द्वारा अधिकृत डीलरों से कोई प्रोसेसिंग फीस नहीं ली जाती है, जबकि हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर और केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ में कंपनियों और उनके डीलरों को यह फीस देनी पड़ती है.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular