Sunday, May 9, 2021
Home बिजनेस भारतीय अर्थव्यवस्था में 2020-21 में 9.6% गिरावट का अनुमान: वर्ल्‍ड बैंक

भारतीय अर्थव्यवस्था में 2020-21 में 9.6% गिरावट का अनुमान: वर्ल्‍ड बैंक


वाशिंगटन: विश्व बैंक (World Bank) ने मंगलवार को कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था (indian Economy) में वित्त वर्ष 2020-21 में 9.6 प्रतिशत की गिरावट आने का अनुमान है. यह परिवार के स्तर पर व्यय और निजी निवेश में आई कमी को प्रतिबिंबित करता है. वहीं अगले वित्त वर्ष 2021-22 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 5.4 प्रतिशत वृद्धि का अनुमान है. विश्व बैंक ने वैश्विक आर्थिक संभावना रिपोर्ट में कहा है कि कोविड-19 महामारी से असंगठित क्षेत्र में काम करने वालों की आय बुरी तरीके से प्रभावित हुई है. इस क्षेत्र में 80 प्रतिशत लोगों को रोजगार मिला हुआ है.

2021-22 में होगा अर्थव्यवस्था में सुधार

इसमें कहा गया है, ‘‘भारत में महामारी ने उस समय अर्थव्यवस्था को प्रभावित किया जब इसमें पहले से गिरावट आ रही थी. वित्त वर्ष 2020-21 में उत्पादन में 9.6 प्रतिशत की गिरावट आने का अनुमान है. यह परिवार की आय और निजी निवेश में तीव्र कमी को बताता है.’’ विश्वबैंक ने कहा, ‘‘भारत में आर्थिक वृद्धि दर 2021-22 में सुधरेगी और इसके 5.4 प्रतिशत रहने का अनुमान है. वित्तीय क्षेत्र में कमजोरियों को देखते हुए कमजोर तुलनात्मक आधार पर मिलने वाली तेजी को निजी क्षेत्र की तरफ से कम निवेश प्रभावित करेगा.’’

ये भी पढ़ें-इस साल से इन शहरों में शुरू हो सकती है Sea Plane Service, सरकार ने बनाया मास्टर प्लान

पाकिस्तान में Manufacturing sector में हो रहा तेजी से सुधार

रिपोर्ट के अनुसार असंगठित क्षेत्र की कुल रोजगार में हिस्सेदारी 80 प्रतिशत है. इसमें महामारी के दौरान आय का काफी नुकसान हुआ. हाल में बिजली खपत, पीएमआई (परचेजिंग मैनेजर इंडेक्स) जीएसटी संग्रह जैसे आंकड़े को देखने से यह संकेत मिलता है कि सेवा और विनिर्माण क्षेत्र (Manufacturing sector) में पुनरूद्धार  (Revival) तेजी से हो रहा है. विश्वबैंक ने पाकिस्तान के बारे में कहा कि सुधार हल्का रहेगा और वृद्धि दर 2020-21 में 0.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है. लगातार राजकोषीय मजबूती को लेकर दबाव और सेवा क्षेत्र में कमजोरियों को देखते हुए वृद्धि पर असर पड़ने की आशंका है.

ये भी पढ़ें-Gold Price Today Update: 2 महीने की ऊंचाई छूने के बाद क्यों सुस्त हुआ सोना? 2021 में कहां जाएंगे भाव

इन देशों में कम रहा कोविड-19 का प्रभाव
दक्षिण एशिया के अन्य देशों में कोविड-19 का प्रभाव अपेक्षाकृत कुछ कम रहा है लेकिन उसके बाद भी वे काफी प्रभावित हुए हैं. जो अर्थव्यवस्थाएं पर्यटन और यात्रा पर काफी हद तक निर्भर थे, उन पर काफी प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है. इसमें मालदीव, नेपाल और श्रीलंका शामिल हैं. रिपोर्ट के अनुसार दक्षिण एशिया में वृद्धि दर 3.3 प्रतिशत रहने का अनुमान है. विश्व बैंक ने 2021 में वेश्विक अर्थव्यवस्था में चार प्रतिशत वृद्धि का अनुमान जताया है. दुनिया के कई देशों में कोविड- 19 टीके को मिली मंजूरी के बीच जताया गया यह अनुमान महामारी से पहले के 5 प्रतिशत वृद्धि की प्रवृति के मुकाबले कम है. वहीं रिपोर्ट में 2022 में वैश्विक अर्थव्यवस्था में 3.8 प्रतिशत वृद्धि का अनुमान लगाया गया है. इसके मुताबिक 2020 में विश्व अर्थव्यवस्था में 4.3 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान लगाया गया है.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular