Saturday, May 28, 2022
Homeभारतभारत की इलेक्ट्रिक व्हीकल इंडस्ट्री में पहला रिकॉल, Okinawa ने उठाया यह...

भारत की इलेक्ट्रिक व्हीकल इंडस्ट्री में पहला रिकॉल, Okinawa ने उठाया यह कदम


Electric Vehicle Fire Incidents: इलेक्ट्रिक स्कूटरों में आग लगने की घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं. भारत की शीर्ष इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर निर्माता कंपनी ओकिनावा ऑटोटेक (Okinawa Autotech) ने अपने 3215 यूनिट्स Praise Pro स्कूटर ग्राहकों से वापस मंगाए हैं. बैटरी से जुड़ी किसी भी समस्या की जांच के लिए कंपनी यह रिकॉल कर रही है. भारत में इलेक्ट्रिक वाहन इंडस्ट्री की वाहनों को रिकॉल करने की यह पहली घटना है.

Okinawa Autotech का कहना है कि यह रिकॉल उसके टेस्ट कैंप का एक हिस्सा है. कंपनी ने इसके लिए ग्राहकों से कॉन्टैक्ट करना शुरू कर दिया है. कंपनी का कहना है कि ढीले कनेक्टर या किसी भी कमी के लिए बैटरियों की जांच की जाएगी. ग्राहक पूरे भारत में ओकिनावा डीलरशिप में से किसी पर भी मुफ्त में सर्विस करा सकेंगे.

बता दें कि पिछले अक्टूबर से अबतक ओकिनावा के तीन इलेक्ट्रिक स्कूटरों में आग लग चुकी है. इन घटनाओं में दो लोग घायल भी हुए हैं. ओकिनावा के अलावा ओला इलेक्ट्रिक, प्योर ईवी और जितेंद्र ईवी के स्कूटरों में भी आग लगने की घटनाएं सामने आई हैं.

यह भी पढ़ें- ये हैं 5 बेस्ट इलेक्ट्रिक बाइक, 200 km तक मिलेगी रेंज, कीमत एक लाख से शुरू

ओकिनावा ऑटोटेक (Okinawa Autotech) भारत की सबसे ज्यादा इलेक्ट्रिक स्कूटरों की बिक्री करने वाली शीर्ष कंपनियों में शुमार है. पिछले महीने मार्च में कंपनी ने 8,284 इलेक्ट्रिक स्कूटर बेचे थे. जबकि, हीरो इलेक्ट्रिक (Hero Electric) ने 13,023 स्कूटरों की बिक्री कर इस मामले में पहला स्थान पाया है और ओला इलेक्ट्रिक 9,127 स्कूटरों की बिक्री के साथ दूसरे स्थान पर है.

नीति आयोग के एक्शन के बाद उठाया यह कदम
बता दें कि इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर्स में लगातार आग लगने की घटनाओं के बाद नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने सभी इलेक्ट्रिक व्हीकल ऑरजिनल इक्वीपमेंट मैन्युफैकचरर्स ( OEM) से इन इलेक्ट्रिक व्हीकल के बैच को रिकॉल करने को कहा था. उन्होंने कहा था कि इस समय इलेक्ट्रिक व्हीकल इंडस्ट्री के लिए उपभोक्ताओं के भीतर भरोसा जगाने का समय है. उन्होंने कहा कि इसी प्रकार ग्लोबल ऑटोमोबाइल कंपनियां भी भरोसा जगाने के लिए गाड़ियां रिकॉल करती हैं.

उन्होंने कहा कि बैटरी सेल्स की मैन्यूफैक्चरिंग रेगुलेटेड नहीं है. बैटरी मैनेजमेंट सिस्टम को मजबूत बनाए जाने की जरूरत है. बैटरी मैन्यूफैक्चरिंग और बैटरी प्रबंधन के बीच साझेदारी होती है.

Tags: Auto News, Electric Scooter, Electric vehicle



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular