Sunday, January 23, 2022
Homeराजनीतिमिशन 2022: वाराणसी में अमित शाह ने दिया भाजपा की जीत का...

मिशन 2022: वाराणसी में अमित शाह ने दिया भाजपा की जीत का मंत्र, विधानसभा चुनाव के लिए बनाई गई रणनीति


सार

मिशन उत्तर प्रदेश 2022 के लिए भाजपा तैयारी में जुटी हुई है। इसी कड़ी में गृह मंत्री अमित शाह वाराणसी दौरे पर हैं।  इस दौरान वे भाजपा के स्थानीय नेताओं समेत कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर रहे हैं। 

गृहमंत्री अमित शाह वाराणसी पहुंचे
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

सियासी पारे को परवान पर चढ़ाने में जुटी भाजपा की पूर्वांचल में रणनीति तय करने के लिए गृहमंत्री और भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने काशी और गोरखपुर क्षेत्र के पदाधिकारियों को नया मंत्र दिया। उन्होंने काशी और अयोध्या को चुनाव के केंद्र में लाने और समाज में बेहतर माहौल बनाने की भी सलाह दी।

शाह ने बूथ स्तर कार्यकर्ता से संपर्क बढ़ाने से लेकर दलित व पिछड़ा समाज में उन्हीं के समाज के कार्यकर्ताओं को सक्रिय कर सेंधमारी का भी निर्देश दिया। पूर्वांचल की सियासत पर मजबूत पकड़ रखने वाले गृहमंत्री अमित शाह ने मंगलवार रात को हरहुआ स्थित लॉन में करीब दो घंटे तक बैठक की।

बसपा और सपा के वोट बैंक में सेंध के लिए योजना
उन्होंने कहा, बसपा बहुत कमजोर हो चुकी है और उसके बेस वोट अब उसके साथ रहना भी नहीं चाहता। मगर उसे मजबूत विकल्प देना होगा। ऐसे में बसपा के वोट बैंक को केंद्र और प्रदेश सरकार के काम व हिंदुत्व के मुद्दे पर पार्टी की नीति के जरिए आसानी से जोड़ा जा सकता है। अपनी जीत की राह आसान करने के लिए उन्होंने सपा के पाले में जाने वाले वोट को रोकने की भी रणनीति बनाई।

इसके लिए उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया व बूथ स्तर तक चर्चा के जरिए उनके खिलाफ माहौल तैयार किया जाए। अमित शाह ने कहा कि विधानसभा के मंडल बैठक के बाद दूरभाष के जरिए कामों की जानकारी ली जाए।
विधानसभा क्षेत्रों में रैलियां जरूर की जाएं और उससे एक अच्छा माहौल बनाया जाए। उन्होंने कहा, जन विश्वास यात्रा से प्रभाव में आकर सक्रिय कार्यकर्ता को और अधिक तेज करने की आवश्यकता है। नाराज लोगों को ना केवल समझाएं, बल्कि उन्हें अगली पंक्ति में कर उनका सदुपयोग भी करें। 

शाह ने कहा कि लोकसभा स्तर तक के वोट के गणित को समझना होगा और विधानसभा में उसमें हो रहे बदलाव पर मंथन की जरूरत है। जातीय समीकरण के हिसाब से ही प्रत्याशी चयन से लेकर चुनाव प्रचार पर फोकस किया जाए। इसमें यह ध्यान रहे कि जातियों को बंटने नहीं देना है और उन्हें भाजपा के सूत्र में पिरोकर रखना होगा।

उन्होंने कहा कि काशी और गोरक्ष क्षेत्र की सभी सीटों की सूची बनाएं और उसे ए, बी और सी कैटगेरी में रखें। ए सीट जिस पर भाजपा की जीत तय है, बी जिस पर लड़ाई है और सी जहां हम कमजोर हैं। इसी मुताबिक योजना बनाकर उस पर काम शुरू कर दिया जाए।

सर्किट हाउस में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, डा. दिनेश शर्मा और अन्य मंत्रियों के साथ हुई बैठक में गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि सरकार के काम को संगठन जनता के बीच ले जा रही है और जाएगी। विधानसभा चुनाव का माहौल बन चुका है और अब सरकार व संगठन में एकजुटता दिखनी चाहिए। इसके लिए पार्टी की नीति के मुताबिक ही बयान से लेकर काम काज करें। चुनाव से पहले विपक्ष आपकी गलतियां खोजने की कोशिश करेगा, मगर चूक का कोई मौका नहीं दें।

लाभार्थी संपर्क अभियान को बनाएं प्रचार का माध्यम
महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने बैठक में कहा कि सरकार की योजनाओं में एसटी और ओबीसी महिला लाभार्थियों से संपर्क अभियान शुरू किया जाए। 6.5 करोड़ लाभार्थी हैं और 60 हजार महिला कार्यकर्ता हैं। इनके जरिए इस समाज में पैठ बनाने का काम करें। उन्होंने बताया कि नौ जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लखनऊ आएंगे

भाजपा काशी क्षेत्र से क्षेत्रीय अध्यक्ष महेश चंद्र श्रीवास्तव, प्रभारी सुब्रत पाठक, प्रदेश सह प्रभारी सुनील ओझा, चुनाव सह प्रभारी सरोज पांडेय के साथ ही संगठन मंत्री झारखंड धर्मपाल, प्रदेश उपाध्यक्ष लक्ष्मण आचार्य, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या, केंद्रीय मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय, कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल मंत्री, सिद्धार्थनाथ सिंह, अनिल राजभर, सांसद विनोद सोनकर, रीता बहुगुणा जोशी और संगम लाल गुप्ता बैठक में मौजूद रहे। इसके अलावा गोरखपुर क्षेत्र से क्षेत्रीय अध्यक्ष डा. धर्मेंद्र सिंह, प्रभारी अनूप गुप्ता, चुनाव सह प्रभारी अरविंद मेनन, विवेक ठाकुर, केंद्रीय राज्यमंत्री पंकज चौधरी, सांसद रमापति राम त्रिपाठी, शिव प्रताप शुक्ल, जगदंबिका पाल, हरीश द्विवेदी, रविंद्र कुशवाहा, कैबिनेट मंत्री सूर्य प्रताप शाही, स्वामी प्रसाद मौर्य, दारा सिंह चौहान भी बैठक में मौजूद रहे। 

विस्तार

सियासी पारे को परवान पर चढ़ाने में जुटी भाजपा की पूर्वांचल में रणनीति तय करने के लिए गृहमंत्री और भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने काशी और गोरखपुर क्षेत्र के पदाधिकारियों को नया मंत्र दिया। उन्होंने काशी और अयोध्या को चुनाव के केंद्र में लाने और समाज में बेहतर माहौल बनाने की भी सलाह दी।

शाह ने बूथ स्तर कार्यकर्ता से संपर्क बढ़ाने से लेकर दलित व पिछड़ा समाज में उन्हीं के समाज के कार्यकर्ताओं को सक्रिय कर सेंधमारी का भी निर्देश दिया। पूर्वांचल की सियासत पर मजबूत पकड़ रखने वाले गृहमंत्री अमित शाह ने मंगलवार रात को हरहुआ स्थित लॉन में करीब दो घंटे तक बैठक की।

बसपा और सपा के वोट बैंक में सेंध के लिए योजना

उन्होंने कहा, बसपा बहुत कमजोर हो चुकी है और उसके बेस वोट अब उसके साथ रहना भी नहीं चाहता। मगर उसे मजबूत विकल्प देना होगा। ऐसे में बसपा के वोट बैंक को केंद्र और प्रदेश सरकार के काम व हिंदुत्व के मुद्दे पर पार्टी की नीति के जरिए आसानी से जोड़ा जा सकता है। अपनी जीत की राह आसान करने के लिए उन्होंने सपा के पाले में जाने वाले वोट को रोकने की भी रणनीति बनाई।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular