Saturday, May 8, 2021
Home विश्व मुस्लिम देशों को मिला रूस का समर्थन, शार्ली हेब्दो के खिलाफ दिया...

मुस्लिम देशों को मिला रूस का समर्थन, शार्ली हेब्दो के खिलाफ दिया ये बयान


नई दिल्लीः फ्रांस में पैगंबर पर बनाए गए कार्टून को लेकर शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. शार्ली हेब्दो के कार्टून लेकर लगातार प्रदर्शन जारी है. वहीं दुनिया के कई अन्य देशों में भी फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रो के खिलाफ नाराजगी बढ़ती जा रही है. कई देशों के नेता खुलेआम फ्रांस को धमकी दे चुके हैं. फ्रांस के खिलाफ हर दिन कोई ना कोई नया देश आवाज उठा रहा है और हैरानी की बात ये कि अब रूस भी इस विवाद में कूद पड़ा है. हाल ही में इस मामले में मुस्लिम देशों को रूस का समर्थन मिला है. दरअसल, फ्रांस में शार्ली हेब्दो के बनाए कार्टूनों पर चल रहे विवाद के बीच रूस के सर्वोच्च नेता का बयान आया है. 

रूस में नहीं हो सकता पैगम्बर मोहम्मद के कार्टून का प्रकाशन
रूस से क्रेमलिन प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव (Kremlin Spokesperson Dmitry Peskov) ने बयान में कार्टून के छापे जाने का विरोध जताया है. पेस्कोव ने कहा, रूस में इस्लाम पर बनाए जाने वाले इस तरह के कार्टून नहीं छापे जा सकते. दिमित्री पेस्कोव ने यह बयान एक Kommersant एफएम रेडियो स्टेशन से बातचीत के दौरान बयां किया. 

ये भी पढ़ें- फ्रांस: आतंकी हमलों के बीच पादरी को चर्च के बाहर गोली मारी गई

फ्रांसीसी शिक्षक सैमुएल पैटी को लेकर रूसी नेता की प्रतिक्रिया
उन्होंने आगे कहा, फ्रांसीसी शिक्षक सैमुएल पैटी (French teacher Samuel) को द्वारा स्कूल में दिखाए हुए कार्टून को एक “भयानक त्रासदी” बताया. आगे उन्होंने इस बात को भी स्पष्ट किया कि क्यों रूस में शार्ली हेब्दो जैसे कार्टून का प्रकाशन संभव नहीं था. एफएम से बातचीत में जब उनसे कार्टून बनाने को लेकर सवाल किया गया कि क्या पैगंबर मोहम्मद के कार्टून स्वीकारा गया था तो उन्होंने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. 

इस्लाम में भी कार्टून के चित्रण पर मनाही
उन्होंने कहा, इस्लाम में भी तमाम शिक्षकों पैगंबर मोहम्मद के कार्टून के चित्र को बनाने से मना किया है. मालूम हो साल 2015 में पैगम्बर मोहम्मद के कार्टून छापे जाने को लेकर सैड और चेरिफ कोची नाम के भाइयों ने शार्ली हेब्दो के दफ्तर में घुसकर फायरिंग की थी. इस हादसे में मैग्जीन के एडिटर सहित चार कार्टूनिस्टों, दो स्तंभकारों, एक कॉपी एडिटर, एक केयरटेकर की हत्या कर दी थी. हमले में एडिटर के अंगरक्षक और एक पुलिस अधिकारी भी मारे गए थे. उसके बाद जब भी ये कार्टून मैग्जीन के पेज पर छापा गया तब लोगों ने प्रदर्शन करना शुरू किया है. 

ये भी पढ़ें-ट्रंप की रैलियों में संक्रमित हुए 30 हजार से ज्यादा लोग, 700 की मौत : Stanford study

पैटी के क्लास में दिखाए जाने से फिर बड़ा विवाद
हाल ही में फ्रांस के एक स्कूल शिक्षक सैमुअल पैटी ने पैगंबर मोहम्मद के कार्टून अपनी क्लास में दिखाया था. इसके बाद 16 अक्टूबर को चेचेन मूल के एक 19 साल युवक ने शिक्षक की निर्मम हत्या कर दी. इस घटना से फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ((Emmanuel Macron) ने नाराजगी जाहिर कर पैटी के प्रति सम्मान जाहिर करते हुए उन्हें मरणोपरांत फ्रांस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान देने की घोषणा की. इसके बाद से ही मैक्रो के खिलाफ दुनिया के तमाम देशों में प्रदर्शन हो रहे हैं. विवाद के चलते बीते सप्ताह फ्रांस (France) के चर्च के बाहर शख्स ने लोगों पर चाकू से हमला किया था जिसमें एक महिला सहित तीन लोगों की मौत हुई थी. इस घटना के बाद 31 अक्टूबर को फ्रांस के लियोन शहर में एक पादरी को उनके गिरजाघर के बाहर गोली मार दी गई. कार्टून को लेकर यह विवाद लगातार बढ़ता ही जा रहा है. 

 

 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular