Saturday, November 27, 2021
Homeराजनीतियुवा चेहरों पर जनता ने किया भरोसा: 22 साल की मुखिया बोलीं-...

युवा चेहरों पर जनता ने किया भरोसा: 22 साल की मुखिया बोलीं- IAS-IPS से ज्यादा मुश्किल है चुनाव जीतना, नहीं टूटने देंगे जनता का विश्वास


भोजपुर24 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

बिहार में पंचायत चुनाव का सातवां चरण खत्म हो गया है। पंचायतों को नए मुखिया बन गए हैं। कई पंचायतों में जनता ने युवा चेहरों को जगह दी है। उन पर भरोसा जताया है। दैनिक भास्कर ने भोजपुर जिले के 4 युवा मुखिया से बातचीत की, जिनमें दो महिलाएं भी हैं। उन्होंने यहां तक कहा कि पढ़ाई करके IAS, IPS तो बन सकते हैं। लेकिन, मुखिया बनना ज्यादा मुश्किल है।

ठकुरी पंचायत की मुखिया बनीं 23 साल की मोनिका कुमारी
भोजपुर जिले के चरपोखरी प्रखंड के ठकुरी पंचायत में 23 साल की उम्र में ही मोनिका कुमारी मुखिया बनी हैं। 520 वोट से उन्होंने जीत दर्ज की है। मोनिका ने दैनिक भास्कर को बताया कि मेरी पहली प्राथमिकता अपने पंचायत में विकास करना है। यहां बच्चियों के लिए 10वीं तक की पढ़ाई के लिए कोई व्यवस्था नहीं है । जीत के पहले ही हम लोग अपने पंचायत में बालिकाओं के लिए हाई स्कूल खुलवाना है। इसको लेकर शिक्षा मंत्री से मुलाकात भी कर चुके हैं। इसके अलावा हर वार्ड में नली, गली और इंदिरा आवास की व्यवस्था भी करेंगे।

सेदहां पंचायत में 22 साल के मुखिया अक्षय कुमार
मुखिया अक्षय कुमार को 22 साल की उम्र में ही पंचायत की जिम्मेदारी मिली है। बेहद गरीब परिवार से आने वाले अक्षय कुमार गांव में रहकर ही खेती करते हैं। उन्होंने कहा कि पहले से ही सामाजिक कार्यों से जुड़ा रहा हूं। अब जनता ने नई जिम्मेदारी दी है तो उनका विश्वास नहीं टूटने दूंगा। अक्षय कुमार ने बताया कि सरकार की हर उस योजनाओं को अपने पंचायत के लोगों को दिलाने का प्रयास करेंगे, जो उनकी जरूरत है । मेरे पंचायत में सड़क,नल,जल इंदिरा आवास, नली, गली की बहुत कमी है, उन सारी समस्याओं को अपने स्तर से ठीक करने का काम करेंगे।

संदेश पंचायत की मुखिया बनी सोनम प्रवीण
संदेश पंचायत में जनता ने 25 साल की सोनम प्रवीण को मुखिया चुना है। साइंस से ग्रेजुएट सोनम प्रवीण ने कहा कि अच्छी पढ़ाई करने के बाद लोग IAS, IPS बन जाते हैं। लेकिन, मुखिया बनना उससे भी ज्यादा मुश्किल है। उन्होंने बताया कि पंचायत में स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाना है। इंटर और मैट्रिक के छात्रों के लिए एग्जाम सेंटर तक गांव से बस खुलेंगी।

जेठवार पंचायत से 22 साल के बने मुन्ना कुमार
मैथेमेटिक्स से ग्रेजुएट मुन्ना कुमार ने कहा कि शुरुआत से ही मुझे समाज सेवा में मन लगता था। नौकरी के लिए कभी प्रयास नहीं किया। उन्होंने बताया कि मेरा लक्ष्य अपने पंचायत का विकास करना है। उनका कहना है कि नली, गली और रोड बनवाएंगे। लेकिन सबसे जरूरी है ये सभी का कामों का रख-रखाव के साथ स्वच्छता का पालन करवाना। पंचायत में स्कूलों की व्यवस्था को भी ठीक करना है।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular