Sunday, June 26, 2022
Homeविश्वयूक्रेनी सेना के हौसले बुलंद, कीव के उपनगर से रूसी सैनिकों को...

यूक्रेनी सेना के हौसले बुलंद, कीव के उपनगर से रूसी सैनिकों को खदेड़ दिया


कीव: यूक्रेनी रक्षा मंत्रालय (Ukrainian Defense Ministry) ने दावा किया है कि मंगलवार को तड़के रूसी बलों को भीषण लड़ाई के बाद कीव के रणनीतिक लिहाज से अहम उपनगर मकरीव से खदेड़ने में कामयाबी मिली है. वहीं, मारियुपोल (Mariupol) के दक्षिणी बंदरगाह पर रूस ने हमले तेज कर दिए हैं. शहर से निकल रहे आम लोगों का कहना है कि बमबारी लगातार जारी है. कीव (Kyiv) में विस्फोटों और गोलियां चलने की आवाज कई जगहों पर सुनी गईं और उत्तर में एक जगह से काले धुएं का गुबार उठता देखा गया. 

तोपखाने से की भारी गोलाबारी

उत्तर-पश्चिम में तोपखाने से की जा रही भारी गोलाबारी की आवाज सुनी जा सकती है, जहां रूस (Russia) ने राजधानी के कई उपनगरीय क्षेत्रों को घेरने और कब्जा करने के लिए दबाव बढ़ा दिया है. यह उसके लिए महत्वपूर्ण लक्ष्य है. शहर के अधिकारियों द्वारा लागू बुधवार सुबह तक चलने वाले 35 घंटे के कर्फ्यू (Curfew) के दौरान निवासियों ने घर पर या अंडरग्राउंड ठिकानों में शरण ली. 

यूक्रेनी सैनिकों का आत्मसमर्पण करने से इनकार

दक्षिणी पोर्ट सिटी मारियुपोल में यूक्रेनी सैनिकों के आत्मसमर्पण (Surrender) करने से इनकार के बाद रूस ने इस शहर की घेराबंदी और कड़ी कर दी है. इलाके को छोड़कर भाग रहे नागरिकों ने बताया कि लगातार बमबारी हो रही है और सड़कों पर शव पड़े हुए हैं. देश के अन्य हिस्सों में हालांकि क्रेमलिन (Kremlin) के पैदल सैनिकों की बढ़त बेहद धीमी या बिल्कुल भी नहीं है और उन्हें यूक्रेन के सैनिकों की गुरिल्ला युद्ध नीति (Guerrilla Warfare Policy) की वजह से कुछ जगहों पर पीछे हटना पड़ा है. 

ये भी पढें: रूस-यूक्रेन युद्ध: NATO पर जेलेंस्की का फूटा गुस्सा, जानें सरेआम क्यों कह दिया डरपोक

रक्षा मंत्रालय का बयान

यूक्रेन के रक्षा मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि मकरीव के एक प्रमुख हाईवे को दोबारा यूक्रेनी बलों (Ukrainian Forces) ने फिर से अपने नियंत्रण में ले लिया है, जिससे रूसी बलों को उत्तर-पश्चिम से राजधानी की घेराबंदी करने की मॉस्को की कोशिशों को झटका लगा है. इसके बावजूद, रक्षा मंत्रालय ने कहा कि रूसी सेना आंशिक रूप से अन्य उत्तर-पश्चिमी उपनगरों, बुका, होस्टोमेल और इरपिन पर आंशिक तौर पर कब्जा करने में सक्षम थी. इनमें से कुछ पर लगभग एक महीने पहले रूस की सेना के आक्रमण के बाद से हमले हो रहे थे. संयुक्त राष्ट्र (UN) के अनुसार, रूस के आक्रमण से एक करोड़ से अधिक लोगों को उनके घर छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा जो यूक्रेन की युद्ध-पूर्व आबादी का लगभग एक चौथाई है. संयुक्त राष्ट्र ने 953 नागरिकों की मौत की पुष्टि करते हुए कहा कि वास्तविक मृतक संख्या शायद बहुत अधिक है. 

सैनिकों की मौत के आंकड़े साफ नहीं

भीषण युद्ध (War) में रूस के हताहतों का अलग-अलग और सही अनुमान लगाना मुश्किल है. लेकिन पश्चिमी अधिकारियों द्वारा रुढ़िवादी आंकड़े भी हजारों में हैं. रूस ने 2 मार्च को कहा था कि यूक्रेन में कार्रवाई में 498 सैनिक मारे गए हैं. उसके बाद से उसने कोई जानकारी इस संबंध में नहीं दी है. रूस के क्रेमलिन समर्थक कोम्सोमोल्स्काया प्रावदा अखबार ने रक्षा मंत्रालय का हवाला देते हुए सोमवार को संक्षेप में बताया कि लगभग 10,000 रूसी सैनिक मारे गए थे. रिपोर्ट को जल्दी से हटा दिया गया और अखबार ने इसके लिए ‘हैकर्स’ को दोषी ठहराया. क्रेमलिन ने मंगलवार को टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. 

ये भी पढें: गलती से लड़के के पास पहुंचा HR का इंटरनल ईमेल, लिखा था ओके उसे रिजेक्ट…

रूसी बलों ने पिछले दो दिनों में हवाई हमले किए तेज

युद्ध ने ‘दुनिया की रोटी की टोकरी’ के रूप में चर्चित क्षेत्र से अनाज की आपूर्ति को भी या तो रोक दिया है या उस पर सवालिया निशान लगा दिए हैं. विशेष रूप से गेहूं जैसी फसल. यूक्रेन के प्राकृतिक संसाधन मंत्री (Natural Resources Minister) ने कहा कि चेरनोबिल परमाणु ऊर्जा प्लांट के पास जंगल की आग बुझा दी गई है और क्षेत्र में रेडिएशन का स्तर मानदंडों के अंदर है. अमेरिका (America) के एक वरिष्ठ सैन्य अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा कि रूसी बलों ने पिछले दो दिनों में हवाई हमले (Air Strikes) तेज कर दिए हैं और रूस ने पिछले 24 घंटे में कम से कम 300 ऐसे हमले किए हैं. उन्होंने बताया कि युद्ध शुरू होने के बाद से रूसी बलों ने अब तक 1,100 से अधिक मिसाइलें यूक्रेन में दागी हैं. 

(इनपुट – एपी)

LIVE TV





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular