Monday, April 12, 2021
Home राजनीति यूपी का एक गांव जहां नहीं मनाया जाता नया साल, हैरान करने...

यूपी का एक गांव जहां नहीं मनाया जाता नया साल, हैरान करने वाली है वजह


भैरोपुर गांव।
– फोटो : अमर उजाला।

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक ऐसा गांव है, जहां नया साल नहीं मनाया जाता। इसकी वजह भी हैरान करने वाली है। यहां बीते चार साल से दिसंबर के अंतिम सप्ताह में कोई न कोई काल के गाल में समा जाता है। ऐसे में लोग नया साल आने पर दुखी रहते हैं।

यह गांव कैंट इलाके का वार्ड नंबर एक भैरोपुर है। जानकारी के अनुसार, यह सिलसिला दिसंबर 2016 में शुरू हुआ, जब गांव में रामलीला का मंचन हो रहा था। इसी दौरान यहां रामलीला देखने आए युवक विजय पासवान की गांव के ही लोगों से मारपीट में मौत हो गई।

घायल अवस्था में उसे अस्पताल में भर्ती किया गया और 29 दिसंबर को उसकी मौत हो गई। गांव वालों ने रामलीला का मंचन बिना रावण दहन के ही रोक दिया। उस दिन के बाद से आज तक गांव में रामलीला नहीं हुई।
 
2017 दिसंबर में गांव के ही सोनू पासवान कुशीनगर से आते समय सड़क हादसे का शिकार हो गए और मौके पर ही दम तोड़ दिया। वहीं इसके बाद 2018 दिसंबर में एक मछली विक्रेता की रानीडीहा चौराहे पर सड़क हादसे में मौत हो गई। उसके दो दिन बाद ही गांव के ही एक और मछली विक्रेता की हत्या करके शव रामगढ़ताल के किनारे फेंक दिया गया था।

2019 दिसंबर में गांव के युवक युवराज ने अपने पिता के लाइसेंस राइफल से खुद को गोली मार लिया था। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी। इसके अलावा उसी वर्ष गांव के एक अन्य युवक रंजीत की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

वहीं वर्ष 2020 में बीते 29 दिसंबर को गांव के सेल्समैन रमेश चंद जायसवाल की सड़क हादसे में मौत हो गई। इससे अभी गांव के लोग उभर भी नहीं पाए थे कि 31 दिसंबर की सुबह गांव के ही युवक हजारीलाल ने आम के पेड़ से फंदा लगाकर आत्महत्या कर लिया। पिछले चार सालों में ये सारी घटनाएं दिसंबर माह में अंतिम सप्ताह में हुई हैं। यही कारण है कि ये असामयिक मौत से नौ वर्ष की खुशियां पूरे दिल से नही मना पाते हैं।

गांव के अंकित जायसवाल, राहुल जायसवाल, संजीव कुमार, दीपक, प्रियंका आदि ने बताया कि पिछले चार साल से असामयिक मौत से गांव में दुख का पहाड़ टूट पड़ा है। अब गांव में कोई भी मन से नया साल नहीं मनाता है।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक ऐसा गांव है, जहां नया साल नहीं मनाया जाता। इसकी वजह भी हैरान करने वाली है। यहां बीते चार साल से दिसंबर के अंतिम सप्ताह में कोई न कोई काल के गाल में समा जाता है। ऐसे में लोग नया साल आने पर दुखी रहते हैं।

यह गांव कैंट इलाके का वार्ड नंबर एक भैरोपुर है। जानकारी के अनुसार, यह सिलसिला दिसंबर 2016 में शुरू हुआ, जब गांव में रामलीला का मंचन हो रहा था। इसी दौरान यहां रामलीला देखने आए युवक विजय पासवान की गांव के ही लोगों से मारपीट में मौत हो गई।

घायल अवस्था में उसे अस्पताल में भर्ती किया गया और 29 दिसंबर को उसकी मौत हो गई। गांव वालों ने रामलीला का मंचन बिना रावण दहन के ही रोक दिया। उस दिन के बाद से आज तक गांव में रामलीला नहीं हुई।

 

2017 दिसंबर में गांव के ही सोनू पासवान कुशीनगर से आते समय सड़क हादसे का शिकार हो गए और मौके पर ही दम तोड़ दिया। वहीं इसके बाद 2018 दिसंबर में एक मछली विक्रेता की रानीडीहा चौराहे पर सड़क हादसे में मौत हो गई। उसके दो दिन बाद ही गांव के ही एक और मछली विक्रेता की हत्या करके शव रामगढ़ताल के किनारे फेंक दिया गया था।


आगे पढ़ें

दिसंबर के अंतिम सप्ताह में होती है घटना



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular