Sunday, December 5, 2021
Homeभारतवकीलों की फौज दिला पीएगी शाहरुख के बेटे को जमानत? आर्यन खान...

वकीलों की फौज दिला पीएगी शाहरुख के बेटे को जमानत? आर्यन खान की याचिका पर HC में आज भी होगी सुनवाई


फिल्म अभिनेता शाहरुख खान ने ड्रग्स केस में गिरफ्तार अपने बेटे आर्यन को जमानत दिलाने के लिए देश के कद्दावर वकीलों की एक फौज उतार दी है। उनकी याचिका पर बंबई हाईकोर्ट में कल सुनवाई पूरी नहीं हो सकी। न्यायमूर्ति एन. वी. सांबरे बुधवार को भी जमानत याचिका पर सुनवाई करेंगे।

आर्यन खान के वकील मुकुल रोहतगी और सतीश मानशिंदे ने अदालत में कहा कि एनसीबी के पास 23 वर्षीय आर्यन के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि उन्हें गलत तरीके से गिरफ्तार किया गया और 20 दिनों से अधिक समय से जेल में रखा गया है।

वरिष्ठ वकील रोहतगी ने कहा, ”नशा करने का कोई साक्ष्य नहीं है। मादक पदार्थ जब्त नहीं हुआ। तथाकथित षड्यंत्र और उकसाने में उनकी संलिप्तता के कोई साक्ष्य नहीं हैं, जैसा कि एनसीबी ने यही आरोप लगाया है।” रोहतगी ने अपनी दलीलें पूरी कर लीं, जिसके बाद अदालत ने कहा कि वह सह आरोपियों अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा की जमानत याचिकाओं पर बुधवार को सुनवाई जारी रखेगी।

अदालत बुधवार को एनसीबी की तरफ से पेश होने वाले अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल अनिल सिंह की भी दलीलें सुनेगी। आर्यन खान को तीन अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था। एनडीपीएस मामलों एक की विशेष अदालत उनकी जमानत याचिका खारिज कर चुकी है।

रोहतगी ने इन मजबूत दलीलों से आर्यन का बचाव किया

1. न नशीले पदार्थ मिले, न सेवन किया फिर जेल क्‍यों
रोहतगी ने कहा कि आर्यन के नशा करने का कोई साक्ष्य नहीं है। मादक पदार्थ जब्त नहीं हुआ और तथाकथित षड्यंत्र तथा उकसाने में उनकी संलिप्तता के कोई साक्ष्य नहीं हैं, जैसा कि एनसीबी ने आरोप लगाया है। तो फिर आर्यन 20 दिन से जेल में क्यों है। रोहतगी ने अपनी दलील के दौरान यह भी कहा कि यह दिखाने के लिए आर्यन की कोई चिकित्सा जांच नहीं की गई कि उन्होंने वास्तव में मादक पदार्थ का सेवन किया था।

2. एनडीपीएस अध‍िकारी का लिया बयान मान्‍य नहीं
रोहतगी ने कहा कि जहां तक एनडीपीएस का सवाल है, हमने इस मुद्दे को सुप्रीम कोर्ट में उठाया था। हमने इस मुद्दे को विशेष अधिनियमों की कई याचिकाओं में उठाया था। क्योंकि ये अधिकारी हैं पुलिस नहीं। मैं तूफान सिंह केस में कोर्ट के फैसले का जिक्र करूंगा। जस्टिस नरीमन कोर्ट में कहते हैं कि एनडीपीएस अधिकारी अधिनियम के तहत जो बयान दर्ज करता है, वह अदालत में स्वीकार्य नहीं है।

3. अरबाज के पास क्या मिला इससे हमारा वास्ता नहीं
रोहतगी ने कहा कि मैंने मजिस्ट्रेट का रुख किया, उन्होंने कहा कि जमानत उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं है। उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर जाएं। फिर हम जिला अदालत चले गए। जिसे खारिज कर दिया गया। मेरे खिलाफ यह तर्क दिया गया कि आप अरबाज मर्चेंट के साथ आए थे, इसलिए आपके पास कॉन्‍शस पजेशन था। वो कहते हैं कि यह मुझे पता था। उनके पास मेरे ख‍िलाफ कुछ नहीं है। इसलिए वो ऐसी बातें कर रहे हैं। किसी के पास उसके जूते में क्‍या है, यह मेरी समस्या नहीं है। उन्होंने कहा कि जो बरामद हुआ, वह छह ग्राम की छोटी मात्रा है। यह कोई कर्मश‍ियल मात्रा नहीं है। इसलिए यह भी आर्यन को हिरासत में रखने के लिए काफी नहीं है।

4. पिता के कारण मामले को हाइलाइट कर दिया
रोहतगी ने कहा कि एनसीबी पुरानी चैट का जिक्र कर रही है और उसी के आधार पर कह रही है कि आर्यन का कुछ लोगों से लेना-देना है। मैं जब बाहर था तो इसको भी अंतरराष्ट्रीय लिंक बताया जा रहा था। यह बहुत छोटा सा मामला है और आर्यन के पिता की वजह से इस मामले को इतना हाइलाइट कर दिया गया। रोहतगी ने कहा कि एनसीबी ने आर्यन खान के व्हाट्सएप चैट पर भी गलत तरीके से भरोसा किया। क्योंकि उनका वर्तमान मामले से कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि चैट 2018, 2019 और 2020 की हैं और इसका इस क्रूज पार्टी से कोई संबंध नहीं है। चैट कुछ विदेशियों सहित कुछ व्यक्तियों के साथ मादक पदार्थ के बारे में हैं। यह अतीत में कथित सेवन से संबंधित होगा।

5. ये युवा लड़के, सुधरने का मौका मिले
सुनवाई के दौरान रोहतगी ने बेंच से कहा कि मुझे विटनेस नंबर 1 और 2 यानी प्रभाकर सैल और केपी गोसावी से कोई मतलब नहीं है, न ही मैं उन्हें जानता हूं। रोहतगी ने कहा कि ये नए लड़के हैं। उन्हें सुधार गृह में भेजा जा सकता है। उन पर मुकदमा नहीं चलाया जाना चाहिए। मैंने अखबारों में भी पढ़ा है कि सरकार सुधार के बारे में बात कर रही है।

आर्यन खान ने समीर वानखेड़े पर लगे आरोपों से खुद को किया अलग
आर्यन ने एनसीबी के क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े के खिलाफ जबरन वसूली के प्रयास के आरोप से खुद को अलग कर लिया, जिन्होंने गत दो अक्तूबर को जहाज पर छापे की निगरानी की थी। आर्यन के वकीलों मुकुल रोहतगी और सतीश मानशिंदे ने न्यायमूर्ति एन डब्ल्यू सांबरे के सामने दलील दी कि एनसीबी के पास उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं है। वरिष्ठ वकील रोहतगी ने कहा कि आर्यन को एनसीबी के क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े सहित एनसीबी के किसी भी अधिकारी के खिलाफ कोई शिकायत नहीं है। आर्यन का इन बेतुके विवादों से कोई सरोकार नहीं है। वह इससे किसी भी तरह के संबंध से पूरी तरह इनकार करते हैं। 

एनसीबी ने किया जमानत याचिका का विरोध
एनसीबी ने आर्यन खान की उच्च न्यायालय में दायर जमानत याचिका के जवाब में मंगलवार को हलफनामा दाखिल किया। इसमें एनसीबी ने आर्यन खान की जमानत याचिका का मंगलवार को बंबई हाईकोर्ट में विरोध किया। साथ ही एनसीबी ने कहा कि आर्यन ना केवल मादक पदार्थ लेते थे, बल्कि उसकी अवैध तस्करी में भी शामिल थे।

सुनवाई के दौरान कोर्टरूम में भीड़ उमड़ी
बंबई हाईकोर्ट में मंगलवार को आर्यन खान की जमानत याचिका पर सुनवाई से पहले जस्टिस एन डब्ल्यू साम्ब्रे के कोर्ट रूम में अभूतपूर्व भीड़ उमड़ पड़ी। इससे जज को एन डब्ल्यू सांबरे को भी समस्या हुई। सुनवाई शुरू होने से पहले ही कोर्ट रूम में इतनी भीड़ हो गई कि उसे हटाने के लिए पुलिस की मदद ली गई। अदालत ने कहा कि जो केस अभी चलने वाला है, उनसे संबंधित लोग ही कोर्ट रूम में उपस्थित रहें। कोर्ट रूम के बाहर लॉबी से भी भीड़ को हटाया गया। इस दौरान हाथापाई की नौबत आन पड़ी। भीड़ की वजह से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न हो पाने की वजह से यह कदम उठाया गया।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular