Sunday, October 24, 2021
Home विश्व वर्जिन दिखाने की चाहत में लड़कियां उठा रहीं ये कदम, बैन करने...

वर्जिन दिखाने की चाहत में लड़कियां उठा रहीं ये कदम, बैन करने की उठी मांग


लंदन: इंग्लैंड (England) में इन दिनों ऐसी लड़कियों की संख्या बहुत ज्यादा बढ़ रही है जो नहीं चाहतीं कि इनके पति को ये पता चले कि वे शादी से पहले सेक्शुअली एक्टिव (Sexually Active) थीं. इसलिए इंग्लैंड की लड़कियां खुद को वर्जिन दिखाने के लिए हाइमन रिपेयर सर्जरी (hymen repair surgery) करा रही हैं. ऐसे में इंग्लैंड के बर्नले (Burnley) में वर्जिनिटी टेस्ट का मामला अब तूल पकड़ रहा है. 

हायमेनोप्लास्टी​ को रोकने की उठी मांग

फिलहाल इंग्लैंड में ‘वर्जिनिटी टेस्ट’ और हाइमन ‘रिपेयर’ सर्जरी या हायमेनोप्लास्टी (hymenoplasty) दोनों ही कानूनी (Legal) हैं, लेकिन अब ब्रिटिश सांसद एंटनी हिगिनबॉथम (Antony Higginbotham) और उनकी सहयोगी सारा ब्रिटक्लिफ (Sara Britcliffe) एक क्रॉस-पार्टी गठबंधन में शामिल हो गए हैं. यह गठबंधन लगातार हाइमन रिपेयर सर्जरी (hymen repair surgery) को गैरकानूनी घोषित करने की मांग कर रहा है और उम्मीद करता है कि महिलाओं को उनकी वर्जिनिटी के आधार पर न आंका जाए. 

UK में होती है वर्जिनिटी रिस्टोर

दरअसल UK में डॉक्टर्स ‘वर्जिनिटी चेक’ या फिर इसे ‘रिस्टोर’ करने का काम करते हैं. आमतौर पर यह काम लड़कियां अरेंज मैरिज से पहले करवाती हैं ताकि उनके पति को इसके बारे में पता न चल सके. हिगिनबॉथम और मिस ब्रिटक्लिफ उन 51 सांसदों में शामिल हैं, जिन्होंने सांसद रिचर्ड होल्डन द्वारा पेश किए गए इन 2 प्रथाओं पर प्रतिबंध लगाने के लिए हेल्थ एंड केयर बिल पर हस्ताक्षर किए.

यह भी पढ़ें: समंदर में दो बच्‍चों के साथ फंसी, यूरिन पीकर बच्‍चों को कराई फीडिंग; लेकिन…

‘कुप्रथाओं पर रोक लगानी ही होगी’

इस मामले पर हिगिनबॉथम ने कहा, ‘महिलाओं और लड़कियों को ‘शादी की पहली रात ब्लीडिंग होने ही चाहिए’ वाली धारणा से खुद को मुक्त करना होगा. इन दर्दनाक प्रथाओं का मेडिकल साइंस में कोई आधार नहीं है. ऐसी प्रथाएं महिलाओं को सिर्फ नुकसान पहुंचाती हैं और ‘पवित्रता’ के खतरनाक मिथक बनाती हैं. हमें ‘वर्जिनिटी टेस्टिंग’ और हाइमन ‘रिपेयर’ सर्जरी दोनों को रोकने के लिए तुरंत कदम उठाने चाहिए. मैं सरकार से महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ इस हिंसा को समाप्त करने की अपील करता हूं.’ 

लड़कियों के खिलाफ वाली इस धारणा से बाहर आने की जरूरत

बिल पर हिगिनबॉथम और ब्रिटक्लिफ की तरफ से मिल रहे सहयोग पर होल्डन ने खुशी जताई है. उन्होंने कहा, ‘हेल्थ एंड सोशल केयर बिल इन कुप्रथाओं पर प्रतिबंध लगाने का सबसे अच्छा अवसर है. महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा से निपटने के लिए सभी का साथ आना बहुत अच्छा है.’ वहीं रॉयल कॉलेज ऑफ ओब्स्टेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट्स एसोसिएशन का कहना है कि यहां महिलाओं को इस तरह प्रक्रियाओं को अपनाने के लिए दबाव डाला जाता है या फिर वो खुद मजबूरी में इस तरह के कदम उठाती हैं. उन पर इस बात का दबाव रहता है कि वो अपनी शादी की रात ब्लीड करें ताकि अपने पति के सामने वो कुंवारी साबित हो सकें. एसोसिएशन ने भी ब्रिटेन में वर्जेनिटी टेस्टिंग और हायमेनोप्लास्टी पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है.

LIVE TV





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular