Saturday, June 25, 2022
Homeराजनीतिसुल्तानपुर...कांग्रेस नेता का अपनी ही पार्टी पर बड़ा आरोप: संदीप तिवारी ने...

सुल्तानपुर…कांग्रेस नेता का अपनी ही पार्टी पर बड़ा आरोप: संदीप तिवारी ने सोशल मीडिया पर लिखा, बिक रही टिकट-जब्त हो रही जमानत


सुल्तानपुर2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

सुल्तानपुर में कांग्रेस पार्टी के नेता संदीप तिवारी पिंटू ने अपनी ही पार्टी पर बड़ा आरोप लगा डाला है। सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर करते हुए उन्होंने लिखा है कि “टिकट बिक रही हैं। ज़मानत जब्त हो रही है।” इससे तो साफ है कि कांग्रेस में सब कुछ सही नहीं चल रहा है।

2012 में लड़ा चुनाव 10 हजार में थे सिमटे

बता दें कि संदीप तिवारी पिंटू ने 2012 में सुल्तानपुर सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा था। प्रियंका गांधी के रोड शो के बाद भी उन्हें मात्र 10175 वोट ही मिल सके थे। संदीप यहां पांचवें स्थान पर पहुंचे थे। अब जब 2022 के चुनाव में जिले की पांचों सीट पर कांग्रेस प्रत्याशियों की जमानत जब्त हुई है तो उनका दर्द छलका है। वैसे यह इसलिए भी है कि उन्हें टिकट क्यों नहीं मिला। लेकिन कहीं न कहीं उनके द्वारा सोशल मीडिया पर दो दिनों से लगाए जा रहे सावर्जनिक आरोप पार्टी नेतृत्व पर सवाल तो उठा ही रहे हैं।

कांग्रेस नेता संदीप तिवारी ने सोशल मीडिया पर लिखी दूसरी पोस्ट।

कांग्रेस नेता संदीप तिवारी ने सोशल मीडिया पर लिखी दूसरी पोस्ट।

दूसरी पोस्ट में लिखा यह

उन्होंने अपनी दूसरी पोस्ट में लिखा है कि जो खुला पत्र प्रियंका के लिए अभी हाल में सामाजिक मीडिया में हमने डाला, उसमें हमारी ह्रदय की पीड़ा थी। वो फिर लिखते हैं कि “कांग्रेस एक विचारधारा” इस को जो चोट विगत कुछ वर्षों में पहुंची है, ये केवल हम जैसे समर्पित कांग्रेसी ही जान व समझ सकते हैं।

बहुत से ऐसे बन्धु न तो हमारी पोस्ट को लाइक कर पा रहे होंगे, न ही कोई कमेंट कर पा रहे होंगे। अब अधिकतम राज्यों में हाशिये पे पहुंचने के बाद तो चेतिये। आत्मचिंतन कीजिये, बहुत से साथी तन, मन, धन से दशकों तक समर्पित रहे और शीर्ष नेतृत्व कुछ छली, कपटी लोगों की बातों में आके उनकी अनदेखी करता रहा, तभी तो ये हाल हुआ है पार्टी का।

कांग्रेसी केवल इस्तेमाल करके छोड़ दिये गए

बहुत कांग्रेसी तो अब आर्थिक और सामाजिक रूप से बदहाली का शिकार हो चुके हैं। केवल इस्तेमाल कर के छोड़ दिये गए। संदीप आगे लिखते हैं कि ये राजनैतिक दौर नकली करिश्मे का नहीं वरन धरातल पे कुछ ठोस करने का है। संगठन कहां है। पार्टी जोश से भरे कार्यकर्ताओं से बनती है। जोश नदारद है। टिकट बिक रही हैं। ज़मानत जब्त हो रही है। सुनवाई किसी की नहीं हैं। विवशता चरम पे है। निष्ठा बेमानी है।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular