Monday, May 10, 2021
Home राजनीति हंगामे की भेंट चढ़ा ड्राई रन: महोबा में CMO ने अधूरी तैयारी...

हंगामे की भेंट चढ़ा ड्राई रन: महोबा में CMO ने अधूरी तैयारी देख लगाई फटकार, CMS की बिगड़ी हालत; स्वास्थ्यकर्मियों ने किया हंगामा


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महोबा3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

जिला अस्पताल में भर्ती मुख्य चिकित्सा अधीक्षक।

  • महिला अस्पताल का मामला, जिलाधिकारी ने शासन को भेजी रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश के महोबा जिले में मंगलवार को कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन हंगामे की भेंट चढ़ गया। यहां ड्राई रन से पहले मुख्य चिकित्सा अधिकारी (CMO) और महिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक (CMS) के बीच जमकर वाद-विवाद हुआ। सूचना पाकर पहुंचे ADM ने दोनों अफसरों को शांत कराकर ड्राई रन की प्रक्रिया पूर्ण कराई। इस दौरान CMS की हालत बिगड़ गई। उनका अस्पताल में इलाज हुआ। इसके बाद घर भेज दिया है। ड्राई रन में व्यवधान पैदा होने के मामले की जिलाधिकारी सत्येंद्र कुमार ने एक रिपोर्ट तैयार कर शासन को भेजी है। संभावना है कि जल्द ही दोनों अफसरों पर कार्रवाई हो सकती है।

पुरुष अस्पताल में शिफ्ट किया गया ड्राई रन

दरअसल, मंगलवार को उत्तर प्रदेश में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन (रिहर्सल) किया गया। महोबा में ड्राई रन जिला महिला अस्पताल में होना था। इसकी तैयारियों का जायजा लेने के लिए CMO डॉक्टर मनोज कांत सिन्हा जिला महिला अस्पताल पहुंचे। लेकिन अव्यस्थाओं को देख उन्होंने नाराजगी जताई। उन्होंने प्रभारी CMS एसके वर्मा से कहा कि सभी व्यवस्थाएं फेल है। इसी बात को लेकर दोनों अफसरों के बीच कहासुनी होने लगी। उन्होंने डॉक्टर वर्मा को फटकार लगाई।

इस घटनाक्रम के बाद CMO अपने ऑफिस वापस चले गए। वहीं, ड्राई रन को जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। इसी बीच डॉक्टर एसके वर्मा की हालत बिगड़ गई। उन्हें अस्पताल में शिफ्ट किया गया। यह बात जब अन्य स्वास्थ्यकर्मियों को पता चली तो उनका गुस्सा CMO डॉक्टर सिन्हा पर फूट पड़ा। भड़के स्वास्थ्यकर्मियों ने आरोप लगाया कि CMO द्वारा 20 हजार रुपए मासिक कमीशन की मांग की जाती है।

आंगनबाड़ी व ANM बैरंग लौटे

इस मामले को गंभीरता से लेते हुए DM सत्येंद्र कुमार ने DG स्वास्थ्य को मामले से अवगत कराकर बड़ी कार्रवाई के संकेत दिए हैं। दोनों ही अधिकारियों ने एक दूसरे पर गंभीर आरोप लगाए हैं। CMS ने मासिक कमीशन मांगने का आरोप लगाया तो वहीं CMO ने CMS पर काम के प्रति लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। महिला जिला अस्पताल का स्टाफ भी CMS के सर्मथन में खड़ा नजर आया और काम बंद करने तक की चेतावनी दी है। वहीं, दूसरी ओर दोनों ही अधिकारियों के बीच हुए विवाद के कारण ड्राई रन प्रशिक्षण में शामिल होने आए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और ANM बैरंग ही वापस लौट गईं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular