Thursday, December 2, 2021
Homeबिजनेसहेल्थ इंश्योरेंस में होने जा रहा बड़ा बदलाव, अजन्मे बच्चे तक को...

हेल्थ इंश्योरेंस में होने जा रहा बड़ा बदलाव, अजन्मे बच्चे तक को भी मिलेगा इसका फायदा


नई दिल्ली. गंभीर बीमारियों के इलाज में हेल्थ इंश्योरेंस काफी मदद करता है. आज बीमा कंपनियां विभिन्न प्रकार की बीमारियों के लिए हेल्थ इंश्योरेंस उपलब्ध करा रही हैं. लेकिन अजन्मे बच्चे और उससे जुड़ी बीमारियों के लिए अभी तक कोई हेल्थ इंश्योरेंस उपलब्ध नहीं है. हालांकि, जल्द ही अजन्मे बच्चे और उनसे जुड़ी बीमारियों के लिए हेल्थ इंश्योरेंस उपलब्ध हो जाएगा. इसके लिए दो निजी बीमा कंपनियों ने हामी भर दी है.

इन कंपनियों ने दी सहमति

इंडियन एसोसिएशन ऑफ पीडियाट्रिक सर्जन (IAPS) लंबे समय से अजन्मे बच्चों के हेल्थ इंश्योरेंस को लेकर विचार-विमर्श कर रही है. इस मामले में IAPS को अब सफलता मिली है. IAPS के अध्यक्ष रविंद्र रामद्वार का कहना है कि अभी दो निजी बीमा कंपनियों ने अजन्मे बच्चों को हेल्थ इंश्योरेंस उपलब्ध कराने के लिए हामी भरी है. इसमें स्टार हेल्थ एंड अलायड इंश्योरेंस कंपनी भी शामिल है. रामद्वार का कहना है कि देश में हर साल लाखों परिवारों को अजन्मे बच्चे से जुड़ी बीमारियों को लेकर समस्या होती है. इस कदम ने इन परिवारों को राहत मिलेगी.

ये भी पढ़ें: मृत्यु के बाद PAN और Aadhaar का क्या करें? मुश्किल में फंसने से पहले जान लीजिए नियम

जन्म के दो साल तक मिलेगा इंश्योरेंस कवर

स्टार हेल्थ के एमडी डॉ. एस प्रकाश का कहना है कि हमने एक नई पॉलिसी तैयार की है. नए कपल इस पॉलिसी को ले सकते हैं. अजन्मे बच्चे को कोई समस्या होने पर इस पॉलिसी के जरिए लाभ लिया जा सकता है. डॉ. प्रकाश के मुताबिक, बच्चे के जन्म के दो साल तक कोई भी समस्या होने पर इंश्योरेंस कवर का लाभ मिलेगा. इस हेल्थ इंश्योरेंस में कई गंभीर बीमारियों का इलाज भी शामिल होगा. उन्होंने दावा किया कि इस संबंध में सभी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई हैं. आईआरडीएआई की मंजूरी मिलते ही इस पॉलिसी को आम आदमी के लिए लॉन्च कर दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें: बहुत कम पैसा लगाकर शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने आराम से कटेगी जिंदगी

देश में हर साल 17 लाख से ज्यादा बच्चों को जन्म से जुड़ी बीमारी

राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की एक रिपोर्ट के मुताबिक, देश में प्रत्येक 100 में से 6 से 7 बच्चों में जन्म से जुड़ी बीमारी होती हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि इस औसत के अनुसार देश में हर साल 17 लाख से ज्यादा बच्चे जन्म से जुड़ी बीमारियों से पीड़ित होता हैं. यह कुल पैदा हुए बच्चों का 9.6 फीसदी है. राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम केंद्र सरकार का एक प्रमुख कार्यक्रम है. इसका मुख्य उद्देश्य जन्म से लेकर 18 साल तक के बच्चों में बीमारियों की पहचान करना है.

LIVE TV





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular