Saturday, December 4, 2021
Homeखेलहॉकी छोड़ रेहड़ी थामी: नेशनल खिलाड़ी अब 1500 रुपए के लिए खेलती...

हॉकी छोड़ रेहड़ी थामी: नेशनल खिलाड़ी अब 1500 रुपए के लिए खेलती है मैच, फास्ट फूड बेच परिवार का पालन पोषण कर रही


हमीरपुर10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जिन हाथों ने देश के लिए हॉकी स्टिक थामी थी, वहीं हाथ अब परिवार के पालन पोषण के लिए फास्ट फूड की रेहड़ी (ठेला) धकेलने को विवश हैं। ओलिंपिक में देश की टीम का हिस्सा रही नेहा सिंह अब हॉकी उठाती भी है तो मात्र 1500 रुपए कमाने के लिए। बीमार पिता के इलाज के साथ भाई-बहन की पढ़ाई और घर का अन्य खर्च जुटाने के लिए वह हमीरपुर के बाजार में फास्ट फूड की रेहड़ी लगा रही है। उसकी पढ़ाई भी छूट गई है।

हमीरपुर बाजार में अपनी रेहड़ी पर नेहा सिंह।

हमीरपुर बाजार में अपनी रेहड़ी पर नेहा सिंह।

पिता की बीमारी ने तोड़ी कमर

राष्ट्रीय खेल हॉकी की नेशनल खिलाड़ी नेहा सिंह के पिता चंद्र सिंह मछली कॉर्नर चलाते थे। कुछ महीने पहले वे बीमार पड़ गए तो परिवार के भरण पाेषण की पूरी जिम्मेदारी नेहा सिंह और उनकी छोटी बहन पर आ गई। परिवार के हालात इतने बदतर हो गए कि कॉलेज की पढ़ाई और खेल के करियर को बीच में ही छोड़कर नेहा हमीरपुर के बाजार में फास्ट फूड की रेहड़ी (ठेला) लगाने को मजबूर हो गई।

झुग्गी में रहने को मजबूर परिवार

मूलतः मंडी के कोटली की रहने वाली नेहा के परिवार के पास जमीन नहीं है। वे हमीरपुर बाजार के बीचों बीच एक झुग्गी में परिवार के चार अन्य सदस्यों के साथ रहती है। न तो नहाने की व्यवस्था है और न ही शौचालय का प्रबंध। झुग्गी में नेहा के बीमार पिता भी हैं, जिन्हें डॉक्टर ने स्वच्छ वातावरण में रहने की सलाह दी है। पिछली तरफ बने बाड़े में एक बकरी और मुर्गी रखी है।

बीमार पिता के साथ नेहा सिंह।

बीमार पिता के साथ नेहा सिंह।

भाई बहन की जम्मेदारी संभाली

नेहा सिंह स्कूली पढ़ाई के दौरान ही साईं हॉस्टल धर्मशाला के लिए चुनी हुई। स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (साईं) के हॉस्टल में रहते हुए स्कूल के दौरान ही राष्ट्रीय स्तर की स्पर्धा में नेहा ने सिल्वर मेडल जीता। हिमाचल की टीम की तरफ से दो नेशनल हॉकी मैच खेले हैं। पंजाब यूनिवर्सिटी से वह वेटलिफ्टिंग में भी एक नेशनल छलांग लगा चुकी है। पिता अचानक बीमार हुए तो नेहा को छोटी बहन निकिता की बीए और छोटे भाई अंकुश की स्कूल पढ़ाई का खर्च उठाना पड़ रहा है।

नहीं मिली नौकरी

नेहा नेशनल खिलाड़ी हैं और ओलिंपिक में भी खेल चुकी हैं। ऐसे में परिवार को उम्मीद थी कि उसे सरकारी नौकरी मिल ही जाएगी। लेकिन परिवार के सारे सपने टूट चुके हैं। नेहा बताती है कि अब कभी किसी टीम से खेलने के लिए पैसे मिल जाते हैं तो वह मैच में हिस्सा लेने के लिए तैयार हो जाती है। एक मैच खेलने के उन्हें 1500 रुपए और खाने पीने का और रहने का खर्च मिल जाता है।

वह झुग्गी, जिसमें रहता है हॉकी प्लेयर नेहा सिंह का परिवार।

वह झुग्गी, जिसमें रहता है हॉकी प्लेयर नेहा सिंह का परिवार।

जमीन मिली, पर घर बनाने के पैसे नहीं

भूमिहीन होने पर नेहा के परिवार को सरकार ने हमीरपुर नगर परिषद के ही वार्ड-10 के समीप 4 मरले जमीन आवंटित की थी। उसकी मां निर्मला देवी बताती है कि बेटी को नौकरी न मिलने से उन पर संकट गहरा गया है। घर बनाने के पैसे तक नहीं हैं। कमेटी की तरफ से घर बनाने के लिए सरकार से पैसे दिलाने की बात कही थी, लेकिन पैसा मिला नहीं। कुछ रुपए उधार लिए तो पति बीमार हो गए।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular