Sunday, April 11, 2021
Home शिक्षा 64 साल के रिटायर्ड बैंकर ने क्लियर की NEET परीक्षा, सोशल मीडिया...

64 साल के रिटायर्ड बैंकर ने क्लियर की NEET परीक्षा, सोशल मीडिया पर लोगों ने की खूब प्रशंसा


Jobs

oi-Shilpa Thakur

|

नई दिल्ली। Retired Banker Clears NEET Exam: अक्सर ये कथन कोई ना कोई अपनी जिंदगी में सुनता ही है कि उम्र महज एक नंबर होता है। ऐसा कई मौकों पर देखा गया है जब वरिष्ठ नागरिक कुछ ऐसा कर जाते हैं, जिससे पूरी दुनिया ही हैरान रह जाती है। इससे उनकी लगन और कुछ कर दिखाने की हिम्मत का पता चलता है, जिसपर उम्र का कोई प्रभाव नहीं पड़ता। ऐसा ही कुछ ओडिशा में एक रिटायर्ड बैंकर ने कर दिखाया है। उन्होंने 64 साल की उम्र में ना केवल नीट परीक्षा पास की बल्कि एमबीबीएस कोर्स में दाखिला भी लिया है। उन्होंने उम्र के उस पड़ाव पर आकर ये उपलब्धि हासिल की है, जब लोग अक्सर आराम करने के बारे में सोचते हैं।

SBI के रिटायर्ड कर्मचारी ने क्वालिफाई किया NEET,अब MBBS में लिया दाखिला | वनइंडिया हिंदी

Odisha, NEET, Jay Kishore Pradhan, mbbs, banker, entrance test, ओडिशा, नीट, जय किशोर प्रधान, एमबीबीएस, बैंकर, प्रवेश परीक्षा

ओडिशा के रहने वाले इस रिटायर्ड बैंकर का नाम जय किशोर प्रधान है। वह अब बुरला के वीर सुरेंद्र साई इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च (VIMSAR) में एमबीबीएस फर्स्ट ईयर के छात्र हैं। जिस कॉलेज में उन्हें दाखिला मिला है, वह राज्य के प्रमुख मेडिकल कॉलेजों में से एक है। प्रधान स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व कर्मचारी हैं, उनका बचपन से ही डॉक्टर बनने का सपना रहा है। इससे पहले उन्होंने 1970 के दशक में एमबीबीएस कोर्स में दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा दी थी लेकिन वह इसमें पास नहीं हो सके थे। लेकिन इतने साल तक दूसरी फील्ड में नौकरी करने के बाद आखिरकार उन्होंने अपने सपने की तरफ एक कदम बढ़ा ही दिया।

जय किशोर प्रधान की जुड़वां बेटियों ने उन्हें नीट परीक्षा की पढ़ाई करने के लिए प्रेरित किया था। हालांकि दुर्भाग्य से बीते महीने उनकी एक बेटी का निधन हो गया है। सोशल मीडिया पर उनकी इस उपलब्धि की खूब प्रशंसा हो रही है। अब वह अपनी बेटी की याद में मेडिसिन की पढ़ाई करेंगे। आपको बता दें साल 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने अध्ययन के लिए अधिकतम आयु सीमा को हटा दिया था जब तक कि एक और निर्णय पारित ना हो जाए। इसलिए इस फैसले ने उन्हें एमबीबीएस की पढ़ाई करने के लिए और अधिक प्रोत्साहित किया।

जैसे ही प्रधान की उपलब्धि की ये खबर सोशल मीडिया पर वायरल हुई लोगों ने उनकी खूब प्रशंसा की। कई लोगों ने तो उन्हें ‘जय भाई एमबीबीएस’ तक कहा है। जय किशोर प्रधान जैसे लोगों ने दुनिया को यह अहसास दिलाया है कि जिंदगी कुछ कोशिश ना करने या फिर अपने सपने पूरे ना करने के लिए बहुत छोटी है। ऐसे में उम्र की संख्या को परे रख कोशिश करनी चाहिए और अपने अधूरे सपनों को जब भी मौका मिले पूरा कर लेना चाहिए।

UKSSSC Recruitment 2020: ग्रेजुएट युवाओं के लिए लेवल-1 पदों पर निकली बंपर भर्ती, ऐसे करें आवेदन



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular