Tuesday, January 18, 2022
HomeखेलBCCI से तनातनी बनी Virat Kohli के इस्तीफे की वजह? बोर्ड से...

BCCI से तनातनी बनी Virat Kohli के इस्तीफे की वजह? बोर्ड से रिश्ते में आई थी कड़वाहट


केपटाउन: दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के हाथों टेस्ट सीरीज में मिली शर्मनाक हार के बाद विराट कोहली (Virat Kohli) ने टेस्ट टीम की कप्तानी छोड़ने का ऐलान करके खलबली मचा दी.

शानदार रहा कोहली का सफर

भारत के सबसे कामयाब कप्तान के रूप में विदा होने वाले विराट कोहली को 2014 में भारतीय टेस्ट टीम का कप्तान बनाया गया था जब एमएस धोनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के बीच में कप्तानी छोड़ दी थी. कोहली ने ये ऐलान बीसीसीआई  (BCCI) के साथ तनावपूर्ण रिश्तों के बीच किया. टी20 विश्व कप में भारत के खराब प्रदर्शन के बाद कप्तानी छोड़ दी थी जबकि वनडे टीम की कप्तानी उनसे छीन ली गई थी. कोहली टेस्ट क्रिकेट के सबसे बड़े ब्रांड एम्बेस्डर रहे जिनकी कप्तानी में भारत ने देश-विदेश में बेहतरीन प्रदर्शन किया.

यह भी पढ़ें- अब विराट कभी नहीं तोड़ पाएंगे ये वर्ल्ड रिकॉर्ड, कप्तानी छोड़ते ही चकनाचूर हुआ सपना

विराट-BCCI में ठन गई थी

सीमित ओवरों की कप्तानी को लेकर बीसीसीआई  (BCCI) और कोहली की इस दौरे से पहले ठन गई थी जब कोहली ने दक्षिण अफ्रीका रवानगी से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोर्ड अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के बयान का खंडन करते हुए कहा था कि उनसे टी20 टीम की कप्तानी छोड़ने के फैसले पर पुनर्विचार के लिए नहीं कहा गया था. चीफ सेलेक्टर्स चेतन शर्मा ने हालांकि कोहली के बयान का खंडन किया था.
 

अचानक लिया कप्तानी छोड़ने का फैसला

विराट कोहली ने दक्षिण अफ्रीका से सीरीज 1-2 से हारने के एक दिन बाद ट्वीट किया, ‘एक मुकाम पर आकर सबको ठहरना होता है और मेरे लिये बतौर भारतीय टेस्ट कप्तान ये वही मुकाम है. इस सफर में कई उतार चढाव आए लेकिन कोशिशों या विश्वास में कभी कमी नहीं रही.’

‘टीम के लिए बेईमान नहीं हो सकता’

विराट कोहली ने आगे लिखा, ‘पिछले सात साल लगातार कड़़ी मेहनत, अथक प्रयासों और दृढता से टीम को सही दिशा में ले जाने के रहे. मैने पूरी ईमानदारी से काम किया और कोई कसर नहीं छोड़ी. मैने हमेशा अपनी ओर से 120 फीसदी देने पर भरोसा किया है और अगर मैं ऐसा नहीं कर पा रहा तो मुझे ये सही नहीं लगता. मेरे दिल में ये बात एकदम साफ है और मैं अपनी टीम के प्रति बेईमान नहीं हो सकता.’
 

विवादों में आ गए थे कोहली

विराट कोहली की कप्तानी में भारत ने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में यादगार जीत दर्ज की. बतौर कप्तान दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ये सीरीज आखिरी रही जिसमें तीसरे टेस्ट के दौरान वो विवाद के घेरे में आ गए जब विरोधी कप्तान डीन एल्गर के पक्ष में डीआरएस का फैसला जाने के बाद उन्होंने स्टम्प माइक पर भड़ास निकाली.

इन दिग्गजों को कहा- ‘शुक्रिया’

विराट कोहली ने अपने बयान में पूर्व कोच रवि शास्त्री और पूर्व कप्तान धोनी का नाम लिया और उन्हें धन्यवाद दिया है. उन्होंने कहा, ‘मैं बीसीसीआई  (BCCI) को धन्यवाद दूंगा कि मुझे इतने लंबे समय तक देश की टीम की कप्तानी करने का मौका दिया. उससे भी अहम अपने साथी खिलाड़ियों को धन्यवाद दूंगा जिन्होंने टीम के लिये मेरे नजरिये को पहले दिन से अपनाया और किसी भी हालात में हार नहीं मानी. आप सभी ने मेरे इस सफर को यादगार और खूबसूरत बना दिया.’

रवि शास्त्री को क्या बोले?

विराट कोहली ने आगे लिखा, ‘रवि भाई और सहयोगी स्टाफ को धन्यवाद जो इस गाड़ी का इंजन रहे जो टेस्ट क्रिकेट में लगातार आगे बढ़ती रही. सभी ने इसमें अपना योगदान दिया.’

 

धोनी का नाम लेना नहीं भूले

एमएस धोनी के बारे में विराट कोहली ने लिखा, ‘आखिर में एम एस धोनी को बहुत धन्यवाद जिन्होंने बतौर कप्तान मुझ पर भरोसा किया और मुझे भारतीय क्रिकेट को आगे ले जाने में सक्षम पाया.’

जय शाह ने की सराहना

बीसीसीआई  (BCCI) सचिव जय शाह ने टेस्ट क्रिकेट में भारत के शानदार प्रदर्शन में कोहली के योगदान को सराहा. शाह ने ट्वीट किया, ‘विराट कोहली (Virat Kohli) को टीम इंडिया के कप्तान के तौर पर शानदार कार्यकाल के लिये बधाई. उन्होंने टीम को बेहद फिट बनाया और देश विदेश में शानदार प्रदर्शन किया. आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में मिली जीत खास रही.’

 

विराट ने टीम को टॉप पर पहुंचाया

कोहली की कप्तानी में भारतीय टीम टेस्ट रैंकिंग में टॉप पर पहुंची और वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप उपविजेता रही. वो जीत के हिसाब से दुनिया के तीसरे सबसे सफल टेस्ट कप्तान रहे. स्टीव वॉ ने 57 में से 41 टेस्ट जीते जबकि रिकी पोंटिंग ने 77 में से 48 टेस्ट जीते. कोहली की कप्तानी में भारत ने 68 में से 40 टेस्ट जीते.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular