Saturday, December 4, 2021
HomeElectric Vehicles: द‍िल्‍ली की सड़कों पर 10 साल पुराने वाहनों को म‍िलेगी...
Array

Electric Vehicles: द‍िल्‍ली की सड़कों पर 10 साल पुराने वाहनों को म‍िलेगी चलने की अनुमति, सरकार ने निकाला ये रास्‍ता


नई द‍िल्‍ली. द‍िल्‍ली में बढ़ते वायु प्रदूषण (Air Pollution) को कम करने को लेकर द‍िल्‍ली सरकार (Delhi Government) लगातार हरसंभव कोश‍िश में जुटी है. वहीं इस समस्‍या के स्‍थायी समाधान के ल‍िए भी अनेकों योजनाओं पर काम क‍िया जा रहा है. इसको लेकर केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) व्‍हीकल पाल्‍युशन को कम करने के ल‍िए 10 साल पुराने डीजल वाहनों को इलेक्‍ट्रिक में कन्‍वर्ट करने की प्रक्र‍िया भी शुरू कर दी है.

बताते चलें क‍ि द‍िल्‍ली सरकार (Delhi Government) की ओर से ई-व्‍हीकल पॉल‍िसी (E-Vehicle Policy) भी लॉन्‍च की हुई है. इस पॉल‍िसी के तहत द‍िल्‍ली सरकार ने 2023 तक राजधानी की सड़कों पर करीब 25 फीसदी ई-व्‍हीकल उतारने का लक्ष्‍य न‍िर्धार‍ित क‍िया है. वहीं अब सरकार ने दस साल पुरा‍ने वाहनों को ई-व्‍हीकल में कन्‍वर्ट करने के ल‍िए डीजल व पेट्रोल वाहनों में इले‌क्ट्रिक इंजन के लिए इले‌क्ट्रिक रेट्रोफिटमेंट किट (Electric Retrofitment Kit) के निर्माता व आपूर्तिकर्ताओं को सूचीबद्ध करने की प्रक्रिया भी शुरु कर दी है.

ये भी पढ़ें: दिल्ली में प्रदूषण फैलाने का अंजाम! PUC न रखने पर 3446 लोगों ने भरा 3.5 करोड़ जुर्माना

इस फैसले से द‍िल्‍ली के ऐसे हजारों वाहन माल‍िकों को बड़ी राहत म‍िलेगी. इस संबंध में परिवहन विभाग की ओर से नोट‍िस भी जारी कर द‍िया गया है. इस नोट‍िस में व‍िभाग ने साफ और स्‍पष्‍ट क‍िया है क‍ि इन वाहनों में इले‌क्ट्रिक प्रोपल्शन के रेट्रोफिटमेंट सहित प्योर इलेक्ट्रिक आपरेशन के लिए इले‌क्ट्रिक रेट्रोफिटमेंट किट के निर्माता व आपूर्तिकर्ता ऐसे वाहनों के मॉडल्स के बारे में परिवहन विभाग को जानकारी उपलब्ध कराएंगे जिसमें इलेक्ट्रिक किट (Electric kit) फिट की जा सकती है.

दस साल पुराने ऐसे वाहन भी ज‍िनकी कंडीशन ठीक
इस बीच देखा जाए तो द‍िल्‍ली में बड़ी संख्‍या में डीजल वाहन हैं जोक‍ि 10 साल की अवध‍ि को पूरा कर चुके हैं. इनको द‍िल्‍ली की सड़कों पर चलने की अनुमति नहीं है. लेक‍िन वाहनों की हालत ठीक है. न‍ियमों के मुताब‍िक इनको सड़कों पर अनुमति नहीं होने की वजह से इनको जब्‍त कर ल‍िया जाएगा. इसको लेकर वाहन चालकों पर संकट मडराया हुआ है. इस समस्‍या के बीच अब द‍िल्‍ली सरकार ने रास्‍ता न‍िकाला है. इन वाहनों को अब इलेक्‍ट्र‍ि‍क इंजन में कन्‍वर्ट कर सड़कों पर उतरने की अनुमत‍ि होगी.

ये भी पढ़ें: Delhi Air Pollution: प्रदूषण कम करने को ‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ कैंपेन का सेकंड फेज लॉन्‍च, 15 द‍िन चलेगा ये अभ‍ियान 

ईंधन की पहचान वाले कलर स्टीकर लगवाने के न‍िर्देश
इस बीच देखा जाए तो वायु प्रदूषण की समस्‍या के मद्देनजर ट्रांसपोर्ट ड‍िपार्टमेंट ने वाहन चालकों से अपने व्‍हीकल्‍स पर ईंधन की पहचान वाले कलर स्टीकर लगवाने को भी कहा है. व‍िभाग की ओर से जारी क‍िए नोटिस में कहा कि सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश और केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 के अनुसार दिल्ली राज्यक्षेत्र में पंजीकृत सभी वाहनों पर क्रोमियम आधारित होलोग्राम स्टीकर का प्रदर्शन अनिवार्य है.

ये भी पढ़ें: Delhi Air Pollution: केजरीवाल सरकार का दावा-70 फीसदी बाहर के प्रदूषण से परेशान द‍िल्‍ली, केंद्र तुरंत बुलाए राज्‍यों की मीट‍िंग

ओल्‍ड व्‍हीकल माल‍िकों को क्रोमियम आधारित होलोग्राम स्टीकर चस्पां कराने की सलाह
व‍िभाग ने ओल्‍ड व्‍हीकल मालिकों को सलाह दी है कि अपने वाहन पर ईंधन से संबंधित श्रेणी के हिसाब से क्रोमियम आधारित होलोग्राम स्टीकर चस्पां कराने के लिए संबंधित विक्रेताओं से संपर्क कर सकते हैं. सड़कों पर निरीक्षण के दौरान यातायात पुलिस के अधिकारियों को रंगों वाले स्टीकरों से उसमें इस्तेमाल पेट्रोल, डीजल समेत अन्य ईंधन का पता आसानी से चल सकेगा.

Tags: Air pollution, Delhi air pollution, Delhi Government, Delhi news, Delhi transport department, Transport department





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular