Thursday, September 23, 2021
Home गैजेट्स LinkedIn के 70 करोड़ यूजर्स पड़े मुश्किल में, डार्क वेब पर बिक...

LinkedIn के 70 करोड़ यूजर्स पड़े मुश्किल में, डार्क वेब पर बिक रहे हैं लोगों के फोन नंबर, एड्रेस और सैलरी से जुड़ी डिटेल्स


LinkedIn यूजर्स ने इस साल दूसरी बार बड़े पैमाने पर डेटा उल्लंघन का अनुभव किया है। एक नए ब्रीच में लिंक्डइन के 70 करोड़ से अधिक यूजर्स का डेटा लीक हो गया है। रिपोर्ट्स की माने तो इस ब्रीच में लिंक्डइन यूजर्स की पर्सनल डिटेल्स जैसे की फोन नंबर, एड्रेस, जिओलोकेशन डेटा और सैलरी से जुड़ी जानकारी शामिल हैं। ये सभी डिटेल्स अब डार्क वेब पर बिक्री के लिए तैयार है।

रिपोर्ट के मुताबिक LinkedIn के 92 परसेंट यूजर्स का डेटा ब्रीच हुआ है। इस ब्रीच से जुड़ी जानकारी जब सामने आई जब एक लोकप्रिय हैकर फोरम के उपयोगकर्ता ने 22 जून को 700 मिलियन लिंक्डइन उपयोगकर्ताओं के डेटा के लिए एक विज्ञापन पोस्ट किया। जिस हैकर ने इस डेटा को निकाला है उसने सैंपल के तौर पर 1 मिलियन रिकॉर्ड को पोस्ट भी किया है।  

 

ये भी पढ़ें:- Aadhaar में नाम, पता और डेट ऑफ बर्थ सही कराने का प्रोसेस हुआ पहले से कई ज्यादा आसान, घर बैठे हो जाएगा काम

 

एक हालिया रिपोर्ट इस बात की पुष्टि करती है कि हैकर द्वारा जुटाया गया डेटा वास्तविक और अप-टू-डेट है। रिपोर्ट में आगे उल्लेख किया गया है कि ब्रीच हुए डेटा में उपयोगकर्ताओं का नाम, ईमेल आईडी, फोन नंबर, एड्रेस  से जुड़े सभी रिकॉर्ड हैं। 9to5Mac यह भी रिपोर्ट करता है कि हैकर ने लिंक्डइन एपीआई का फायदा उठाकर डेटा जुटाया है। 

आपको बता दें कि इससे पहले इस साल अप्रैल में लिंक्डइन ने 500 मिलियन (50 करोड़) यूजर को प्रभावित करने वाले डेटा ब्रीच की पुष्टि की, जिसमें पर्सनल डिटेल्स जैसे ईमेल एड्रेस, फोन नंबर, वर्कप्लेस की जानकारी, पूरा नाम, अकाउंट आईडी, उनके सोशल मीडिया अकाउंट के लिंक और जेंडर डिटेल्स ऑनलाइन लीक किए गए थे।

इसी बीच लिंक्डइन ने डेटा ब्रीच के मामले से इनकार करते हुए कहा कि यह लिंक्डइन डेटा ब्रीच नहीं था। हमारी जांच में पता चला है कि किसी भी निजी लिंक्डइन मेंबर का डेटा उजागर नहीं हुआ है। हम लगातार इस पर काम कर रहे हैं कि यूजर्स की प्राइवेसी का कोई नुकसान ना हो।

 

ये भी पढ़ें:- Jio, Airtel और Vi के ग्राहकों को झटका, कंपनी ने इन प्लान्स से हटाई फ्री SMS की सुविधा

 

अपनी पर्सनल जानकारी को सेफ रखने के लिए करें ये काम 
डिजिटल प्लेटफॉर्म्स को जितना यूज करना आसान है उतना ही इन्हें सेफ रखना मुश्किल है। इसलिए ऐप्स की सेफ्टी, सिक्टोरिटी और प्राइवेसी सेटिंग्स को देखना महत्वपूर्ण है और सुनिश्चित करें कि ये ठीक से सेट अप हो। ध्यान रखें कि आपने एक मजबूत पासवर्ड सेट किया है और उसे बार-बार बदलने की आदत डालें। साथ ही, जहां कहीं भी टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन (2FA) उपलब्ध हो उसे इनेबल कर लें। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular