Thursday, September 23, 2021
Home शिक्षा Margherita Hack: जानें कौन हैं 'लेडी ऑफ द स्‍टार्स' मार्गेरीटा हैक जिनकी...

Margherita Hack: जानें कौन हैं ‘लेडी ऑफ द स्‍टार्स’ मार्गेरीटा हैक जिनकी याद में गूगल ने आज बनाया है डूडल


नई दिल्ली: गूगल (Google) दुनिया की मशहूर हस्तियों और घटनाओं पर डूडल (Google Doodle) बनाकर उन्हें सलाम करता है. इसी क्रम में आज 12 जून को इटली की वैज्ञानिक मार्केरीटा हैक (Margherita Hack) को गूगल ने डूडल बना कर याद किया है. ये मार्गरीटा हैक का 99वां जन्मदिन है. मार्गरीटा इटली (Italy) की खगोलभौतिकविद, लेखिका, प्रोफेसर और एक्टिविस्ट थी. क्षुद्रग्रह , सैटेलाइट और तारकीय वायुमंडल में मार्गरीटा की बहुत रूचि थी.

डूडल में दिख रही है हैक की हॉबीज

गौरतलब है कि मार्गेरीटा हैक को ‘द लेडी ऑफ द स्टार’ (The Lady Of The Star) भी कहा जाता है. उनके इस जन्मदिन पर गूलल ने हैक के लिए खास एनीमेटेड डूडल बनाया है. इस डूडल में हैक एक कुर्सी पर बैठी हुई हैं और अपने टेलीस्कोप से तारों से भरा आकाश देख रही हैं. आपको बता दें कि हैक के नाम पर एक क्षुद्र ग्रह ‘8558 हैक’ है जिसकी खोज उन्होंने ही की है.

ये भी पढ़ें-  बदल गया धरती का नक्शा! धरती पर हैं पांच महासागर, नैशनल जियोग्राफिक ने दी मान्यता

सशक्त और प्रगतिवादी महिला 

हैक एक बेहद एक्टिव महिला थीं जो प्रगतिवादी सोच रखती थीं. हैक ने पशु संरक्षण और समानता के अधिकार के लिए आवाज उठाई थी. हैक का जन्म 12 जून 1922 को फ्लौरेंस में हुआ था. हैक ने खगोलभौतिकी में सिफिड वैरिएबल्स पर सनातक थीसिस की थी. साल 1964 मं वे ट्रिएस्ट चली गईं और वहां उन्होंने यूनिवर्सिटी में पूरी प्रोफेसरशिप हासिल करने वाली पहली इटैलियन महिला होने का गौरव हासिल किया. इतना ही नहीं, मार्गेरीटा हैक (Margherita Hack) इटली में प्रोफसरशिप हासिल करने वाली पहली महिला और ट्रिएस्ट एस्ट्रोनॉमिकल ऑबजर्वेटरी की पहली महिला निदेशक बनी थी. हैक ने तारों के वायुमंडल का विस्तृत अध्ययन किया था.

दो प्रमुख पुरस्कार से सम्मानित 

हैक को ट्रिएस्ट एस्ट्रोनॉमिकल ऑबजर्वेटरी की पहली महिला निदेशक होने का गौरव भी प्राप्त हुआ. तारों के स्पैक्ट्रोस्कोपिक विशेषताओं का अवलोकन और आंकलन उनकी विशेषज्ञता थी. 1994 में उन्होंने उनके वैज्ञानिक कार्यों के लिए टार्गा ग्यूसेपी पियाजी अवार्ड से सम्मानित किया गया. 1995 में उन्होंने कोर्टीना यूलिसे पुरस्कार भी हासिल किया था.

ये भी पढ़ें- 500 साल पहले भी स्टेटस सिंबल था ‘बिटक्वॉइन’, ऐसे किया जाता था इस्तेमाल

बेहद क्रिएटिव और सोशल थीं हैक 

हैक बेहद क्रिएटिव और सोशल महिला थीं. विज्ञान के अलावा भी कई क्षेत्र में हैक सक्रिय रही थी. वे शिक्षा साथ राजनीति और सामाजिक कार्यों में वे विशेष रूप से सक्रिय थीं. वे ईश्वर को नहीं मानती थी लेकिन लोगों को धार्मिक स्वतंत्रता को पूरी तरह से समर्थन देती थी. इटली सरकार ने हैक के 90वें जन्मदिन पर अपने सर्वोच्च सम्मान डामा डि ग्रैन क्रोसे (Dama De Grand Cross) से सम्मानित किया था. इटली की इस सशक्त महिला ने 29 जदून 2013 को 91 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया.

विज्ञान से जुड़ी अन्य खबरें पढने के लिए यहां क्लिक करें 

LIVE TV





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular