Sunday, January 16, 2022
HomeबिजनेसOnline fraud: अगर आपके साथ भी हुआ है ऑनलाइन फ्रॉड, तो ऐसे...

Online fraud: अगर आपके साथ भी हुआ है ऑनलाइन फ्रॉड, तो ऐसे वापस आ सकते हैं पैसे


नई दिल्ली. आजकल ऑनलाइन फ्रॉड के केस आए दिन सुनने में आते हैं. लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन फ्रॉड जैसे साइबर अपराध के मामलों में काफी इजाफा हुआ है. एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले 1 साल में ही 2.7 करोड़ से ज्यादा लोग आइडेंटिटी चोरों के टारगेट हुए हैं. 

निजी जानकारियां चुरा कर होता है फ्रॉड

चोर बेखौफ होकर लोगों की निजी और संवेदनशील जानकारियां निकाल कर उनके खातों से पैसे चुरा रहे हैं. ऑनलाइन फ्रॉड में पैसा चोरी होना काफी गंभीर है, क्योंकि चोरी के बाद कोई ऑप्शन नहीं दिखता जिससे पैसा वापस लिया जा सके. फिर भी, कुछ आसान स्टेप्स हैं, जिनको फॉलो करके आप ऑनलाइन फ्रॉड से बच सकते हैं. इसके अलावा अगर आप ऑनलाइन फ्रॉड का शिकार हो गए हैं, तो भी आपके पैसे वापस आ सकते हैं.

ये भी पढ़ें: Domestic Flight: घरेलू उड़ानों के लिए आज से नए नियम और शर्तें, यात्रा पर निकलने से पहले जरूर जान लें

ऐसे करते हैं फ्रॉड

इंटरनेट पर फ्रॉड को अंजाम देने के लिए हैकर्स फर्जी वेबसाइट बनाते हैं जो बिल्कुल वैध लगती हैं. बैंक के नियमों के मुताबिक, ऐसी चोरी के शिकार लोगों को उनका चोरी हुआ पैसा वापस मिल सकता है. इसके लिए बैंक अकाउंट होल्डर्स को तुरंत उस ट्रांजेक्शन से जुड़ी पूरी जानकारी बैंक को देनी चाहिए. 

क्या कहता है RBI

आरबीआई के अनुसार, अगर आपका ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के दौरान किसी तरह का फ्रॉड हुआ है. तो आपका नुकसान सीमित हो सकता है या आप नुकसान से बच सकते हैं, बशर्ते आपको तुरंत अपनी बैंक को सूचित करना पड़ेगा. 

ऐसे कर सकते हैं चोरी हुआ पैसा वापस

ज्यादातर बैंकों के पास अपने ग्राहकों के लिए फाइनेंसशियल फ्रॉड इंश्योरेंस होता है. पैसा ट्रांसफर के दौरान फ्रॉड हो जाने पर ग्राहकों को तुरंत अपने बैंक को सूचित करना चाहिए. बैंक को सूचित करने के बाद, ग्राहक के जोखिम को सीमित करते हुए, तुरंत इंश्योरेंस कंपनी को फ्रॉड की सूचना दी जाएगी. इस तरह से आपको आपका पैसा मिल सकता है.

ये भी पढ़ें: NPS: बुढ़ापे में पेंशन की नो टेंशन! करोड़पति बनकर होंगे रिटायर, खाते में हर महीने आएंगे 50,000 रुपये

लेट सूचित करने पर हो सकता है नुकसान

बैंक आम तौर पर 10 व्यावसायिक दिनों के भीतर नुकसान की भरपाई करती हैं. अनऑथराइज्ड ट्रांजेक्शन की भरपाई आमतौर पर बैंकों और बीमा कंपनियों द्वारा की जाती है. इसके लिए ग्राहक को फर्जी या फ्रॉड लेनदेन के तीन दिनों के भीतर ही अपने बैंक को सूचित करना होगा. यदि कोई ग्राहक नुकसान के तीन दिनों के भीतर बैंक को सूचित नहीं करता है, तो उसको 25,000 रुपये तक का नुकसान हो सकता है.

LIVE TV





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular