Sunday, January 23, 2022
Homeविश्वPakistan ने धरती के बेटों को खत्म करने की कोशिश की, सरकार...

Pakistan ने धरती के बेटों को खत्म करने की कोशिश की, सरकार के सलाहकार ने लगाया आरोप


ढाका: शहीद बौद्धिक दिवस पर धरती के सबसे प्रतिभाशाली दिमागों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए अवामी लीग के सदस्य और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के बेटे साजीब वाजेद जॉय ने मंगलवार को कहा कि जो चले गए, अगर वो सभी जीवित होते तो आज उनका देश और भी अच्छा होता.

आपको बता दें कि शहीद बौद्धिक दिवस 14 दिसंबर को उन बुद्धिजीवियों को मनाने के लिए मनाया जाता है जो 1971 के मुक्ति संग्राम के दौरान विशेष रूप से 25 मार्च और 14 दिसंबर, 1971 को पाकिस्तानी सेना और उनके सहयोगियों द्वारा मारे गए थे.

त्रासदी की वजह पाकिस्तान: जॉय

साजीब वाजेद सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (ICT) पर बांग्लादेश सरकार के सलाहकार के रूप में भी काम करते हैं. उन्होंने 14 दिसंबर को एक खास दिन के रूप में याद करते हुए फेसबुक पोस्ट में लिखा कि यह दिन देश को अभी भी सदमे की याद दिलाता है.

बौद्धिक रूप से दिवालिया बनाने की साजिश

1971 में जब पाकिस्तान की सेना हिल गई और देश के विभिन्न हिस्सों में आत्मसमर्पण करना शुरू कर दिया, उन्होंने अपने स्थानीय सहयोगियों से पाकिस्तानी सेना द्वारा उठाए गए रजाकर, अल-बद्र और अल-शम्स का उपयोग करने वाले बुद्धिजीवियों और पेशेवरों को मार डाला. हमें बौद्धिक रूप से दिवालिया बनाने के लिए उन्होंने आंखों पर पट्टी बांधकर उनकी हत्या कर दी.

ये भी पढ़ें- गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के इस्तीफे पर अड़ा विपक्ष, कुर्सी बचेगी या जाएगी?

 

बांग्लादेश में सुनियोजित हत्याओं के पीछे पाकिस्तान की बुरी मंशा पर निशाना साधते हुए, सजीब वाजेद ने कहा, ‘उनका लक्ष्य एक स्वतंत्र और संप्रभु देश के रूप में दुनिया में बांग्लादेश की गरिमा को नकारना था. यही कारण है कि उन्होंने इस धरती के सबसे अच्छे बेटों के जीवन को काट दिया जो देश को और आगे ले जा सकते थे.

मुक्ति संग्राम में बड़ा योगदान

जॉय ने ये भी कहा कवियों, साहित्यकारों, पत्रकारों, शिक्षकों, इंजीनियरों, चिकित्सकों, कलाकारों, गायकों और फिल्म निमार्ताओं जैसे बुद्धिजीवियों ने बांग्लादेश के मुक्ति संग्राम के हर चरण में बहुत बड़ा योगदान दिया है. मुक्ति संग्राम में भाग लेने के लिए पूरे देश को प्रेरित करने में उनकी भूमिका को पहचानने की जरूरत है. 

(इनपुट : IANS)

LIVE TV

 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular