Friday, July 30, 2021
Home राजनीति PMCH से फिर ब्लैक फंगस के 2 मरीज भागे: ऑपरेशन नहीं होने...

PMCH से फिर ब्लैक फंगस के 2 मरीज भागे: ऑपरेशन नहीं होने पर भाग रहे मरीज, अस्पताल के वार्ड से अब तक 10 हो चुके हैं फरार


पटना18 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
PMCH में ब्लैक फंगस का इंजेक्शन खत्म हो गया है और दवाएं भी मिलनी मुश्किल हो गई हैं। - Dainik Bhaskar

PMCH में ब्लैक फंगस का इंजेक्शन खत्म हो गया है और दवाएं भी मिलनी मुश्किल हो गई हैं।

पटना मेडिकल कॉलेज हास्पिटल (PMCH) के ब्लैक फंगस वार्ड में भर्ती मरीज भाग रहे हैं। इलाज नहीं होने के कारण अब तक ऐसी 10 घटनाएं हो चुकी हैं। जिन मरीजों को ऑपरेशन की जरुरत है उन्हें भी दवा पर रखा जाता है क्यों कि ऑपरेशन की व्यवस्था नहीं है। कई मरीज तो दवा नहीं मिलने के कारण भाग रहे हैं। गुरुवार को फिर दो मरीज वार्ड से भाग गए है, जिन्हें अस्पताल लामा बता रहा है।

भर्ती होने के बाद भागना बड़ा सवाल

पटना मेडिकल कॉलेज में भर्ती होने के बाद संक्रमित कैसे भाग जा रहे हैं, यह बड़ा सवाल है। वार्ड में स्वस्थ्य कर्मियों की ड्यूटी रहती है इसके बाद भी मरीज का भाग जाना बड़ा सवाल है। एक मरीज के परिजन संतोष बताते हैं कि अस्पताल के वार्ड में भगवान के भरोसे छोड़ दिया जाता है। कोई पूछने वाला नहीं होता है। दो दिनों से दवाएं भी नहीं मिल पाती है ऐसे में मरीज क्या करेगा। हालात दिन प्रतिदिन बिगड़ती जाती है और डॉक्टर ध्यान नहीं देते हैं।

इंजेक्शन खत्म दवाएं मिलना मुश्किल

ब्लैक फंगस का इंजेक्शन खत्म हो गया है और दवाएं भी मिलनी मुश्किल हो गई हैं। ऐसे में मरीजों को काफी समस्या हो जाती है। नालंदा के एक मरीज के परिजन राकेश बताते हैं कि दो दिनों तक उनके मरीज को कोई दवा ही नहीं दी गई। इस कारण से हालात और खराब हो गई। वह ऑपरेशन के लिए बोल रहे हैं लेकिन डॉक्टरों का कहना है कि PMCH में मशीन नहीं है। ऐसे में समझ नहीं पा रहे हैं कि कहां ऑपरेशन कराएं। राकेश का कहना है कि वह अपने मरीज को बाहर ले जाने की तैयारी में हैं।

ऑपरेशन नहीं होने के कारण आ रही समस्या

पटना मेडिकल कॉलेज में ऑपरेशन नहीं होने के कारण समस्या आ रही है। वार्ड में जितने भी मरीज हैं सभी की आंखों तक फंगस पहुंच गया है। आंखों की समस्या के कारण ऑपरेशन जरुरी है। डॉक्टर भी बताते हैं कि जब फंगस नाक और साइनस केक आगे आंख तक पहुंच जाता है तो खतरा बढ़ जाता है। ऐसे मरीजों का ऑपरेशन करना जरुरी होता है। लेकिन पटना मेडिकल कॉलेज में ऑपरेशन की सुविधा नहीं होने से ही समस्या आ रही है। बेगूसराय के चंदन का कहना है कि उनकी मां PMCH में भर्ती है। उनका इलाज चल रहा है लेकिन कोई लाभ नहीं है। डॉक्टर न तो रेफर कर रहे हैं और न ही ऑपरेशन कर रहे हैं। ऐसे में उनके पास कोई रास्ता नहीं बच रहा क्या करें।

AIIMS और IGIMS में मरीजों की भीड़

पटना AIIMS और IGIMS में मरीजों की भीड़ हैं। दो अस्पतालों में बेड फुल हैं। यहां ऐसे मरीज अधिक हैं जिन्हें ऑपरेशन की आवश्यकता है। पटना AIIMS में तो रेफर मरीजों की संख्या अधिक है। इसमें PMCH और अन्य प्राइवेट अस्पतालाें से आए मरीज शामिल हैं। प्राइवेट अस्पतालों से आने वाले मरीजों में तो कई केस काफी बिगड़े हुए हैं जिनका ऑपरेशन तत्काल करना होता है। इसलिए ओटी भी बढ़ा दी गई है। अब 4 ओटी में हर दिन 20 ऑपरेशन किया जा रहा है। IGIMS में भी मरीजो की भीड़ देख ऑपरेशन की व्यवस्था तेज कर दी गई है।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular