Tuesday, August 9, 2022
Homeविश्वRussia Doomsday Plane: रूस ने मॉस्को के ऊपर उड़ाया दुनिया का सबसे...

Russia Doomsday Plane: रूस ने मॉस्को के ऊपर उड़ाया दुनिया का सबसे खतरनाक प्लेन, पश्चिमी देशों को दी चेतावनी


Russia National Victory Day 2022: पिछले 2 महीने से लगातार यूक्रेन पर मिसाइलों और विनाशकारी बमों की बरसात करने वाला रूस अब अमेरिका और नाटो देशों को बड़ी चेतावनी देने जा रहा है. वह 9 मई को होने वाले सालाना विक्ट्री डे में ऐसे प्लेन को उतारने जा रहा है, जिसे दुनिया प्रलयकारी (Doomsday Plane) प्लेन मानती है. इस प्लेन को विक्ट्री डे परेड में शामिल करने का सीधा अर्थ दुनिया को यह चेतावनी देना है कि वे यूक्रेन युद्ध में टांग न अड़ाएं वर्ना रूस उनसे किसी भी कीमत पर बदला ले सकता है.

दुनिया का सबसे खतरनाक फाइटर प्लेन

रिपोर्ट के मुताबिक रूस के इस प्रलयकारी प्लेन का नाम  Il-80 है. यह रूस का सबसे खतरनाक स्ट्रेटजिक फाइटर जेट प्लेन (Doomsday Plane) है, जिसे न्यूक्लियर वार में दुश्मन का नामोंनिशान खत्म कर देने के उद्देश्य से बनाया गया है. अमेरिका समेत दुनिया के कई देश इस प्लेन को बेहद खतरनाक और मानवता के लिए खतरा मानते हैं.

रूस के नेशनल विक्ट्री डे में भरेगा उड़ान

रूस का यह रणनीतिक विमान 9 मई को होने वाली नेशनल विक्ट्री डे परेड में मॉस्को के ऊपर उड़ान भरेगा. दो मिग -29 जेट विमान इस महाबलशाली विमान (Doomsday Plane) को एस्कॉर्ट करते हुए चलेंगे. बुधवार को हुई रिहर्सल परेड में इस विनाशकारी विमान को शहर के ऊपर से उड़ते देखा गया. इसके साथ ही यूक्रेन में स्पेशल मिलिट्री ऑपरेशन चला रहे रूसी सैनिकों के समर्थन में 8 मिग-29 SMT विमानों ने Z का आकार बनाते हुए आकाश में उड़ान भरी. 

रूस की सेना का प्रतीक बना Z सिंबल

Z का आकार यूक्रेन के खिलाफ युद्ध कर रही रूस का प्रतीक चिन्ह बन गया है. वहां पर सभी रूसी जहाजों, टैंकों और दूसरी गाड़ियों पर यही सिंबल लगा हुआ है. हरेक देश युद्ध के मैदान में आपसी गोलाबारी से बचने के लिए अपने वाहनों पर इस तरह का चिन्ह बना लेता है. रूस ने यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में Z का सिंबल बनाया है, जो अब रूसी सेना का प्रतीक बन गया है. 

नाजी जर्मनी पर जीत की याद में विक्ट्री डे

रूस हर साल 9 मई को नाजी जर्मनी के खिलाफ सेकंड वर्ल्ड वार में सोवियत संघ की जीत पर नेशनल विक्ट्री डे मनाता है. इस साल इसकी 77वीं वर्षगांठ है. रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु ने बुधवार को कहा कि इस बार की परेड में लगभग 11,000 जवान भाग लेंगे. उनके साथ ही 131 प्रकार के हथियार और सैन्य उपकरण के साथ-साथ 77 विमान इस साल रेड स्क्वायर से गुजरेंगे. 

ये भी पढ़ें- Pope on Russia-Ukraine War: रूस-यूक्रेन युद्ध को रोकने में असफल रही पोप की कूटनीति, नहीं जा सकते हैं मॉस्को

28 शहरों में होंगे विक्ट्री डे के कार्यक्रम

राजधानी मॉस्को के अलावा रूस के 28 शहरों में इस बार  सैन्य परेड आयोजित की जाएगी. इन परेड में करीब 65,000 जवान, लगभग 2,400 प्रकार के हथियार और सैन्य उपकरणों के साथ-साथ 460 से अधिक फाइटर प्लेन भाग लेंगे. 

LIVE TV





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular