Tuesday, August 9, 2022
Homeविश्वSri Lanka Crisis: कम नहीं हो रहीं दिवालिया श्रीलंका की मुसीबतें, ईंधन...

Sri Lanka Crisis: कम नहीं हो रहीं दिवालिया श्रीलंका की मुसीबतें, ईंधन संकट के कारण फिर 1 हफ्ते के लिए स्कूल बंद


Sri Lanka Economy Crisis: भारत के दो पड़ोसी देश पाकिस्तान और श्रीलंका बड़े आर्थिक संकट से गुजर रहे हैं. इसमें से पाकिस्तान तो अभी खुद को बचाने की जद्दोजहद में लगा हुआ है, लेकिन श्रीलंका बहुत पहले दिवालिया हो चुका है. विदेशी मुद्रा भंडार न होने की वजह से देश के पास कई चीजों की भारी कमी है. इसी कड़ी में देश अभूतपूर्व ईंधन संकट से भी गुजर रहा है. उसके पास पेट्रोल, डीजल नहीं है. इसे देखते हुए श्रीलंका के शिक्षा मंत्रालय ने 4 जुलाई से खुलने वाले सभी सरकारी और राज्य सरकार द्वारा संचालित निजी स्कूलों की छुट्टी एक हफ्ते के लिए बढ़ा दी है. श्रीलंका के मंत्री ने कहा कि, अगले अवकाश अवधि में स्कूल छूटे हुए सिलेबस को कवर करेंगे.

इससे पहले भी बढ़ाई गई थी छुट्टी

बता दें कि इससे पहले भी 18 जून को श्रीलंका सरकार ने आने वाले सप्ताह के लिए सभी स्कूलों को बंद करने की घोषणा की थी. डेली मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक, श्रीलंका के शिक्षा मंत्रालय ने घोषणा की है कि “कोलंबो शहर की सीमा के सभी सरकारी और सरकार द्वारा अनुमोदित निजी स्कूल, साथ ही अन्य प्रांतों के अन्य मुख्य शहरों के स्कूल अगले सप्ताह तक बंद रहेंगे.” .

ऑनलाइन क्लास चलाने की तैयारी

श्रीलंका के शिक्षा मंत्रालय के सचिव निहाल रणसिंघे ने स्कूलों को ऑनलाइन कक्षाएं संचालित करने के लिए निर्देश देने के साथ ही कहा है कि स्कूलों को कम संख्या में छात्रों के साथ कक्षाएं संचालित करने की अनुमति दी जाएगी, ताकि परिवहन की दिक्कत न हो. डेली मिरर ने बताया कि, उन्होंने घोषणा की है कि श्रीलंका के सार्वजनिक उपयोगिता आयोग (पीयूसीएसएल) ने सप्ताह के दिनों में ऑनलाइन क्लास की सुविधा के लिए सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक बिजली कटौती नहीं करने पर सहमति व्यक्त की है.

आर्थिक संकट की वजह से गई थी पीएम की कुर्सी

बता दें कि इस साल मार्च से श्रीलंका लगातार आर्थिक संकट से जूझ रहा है. करीब 2 महीने पहले ही वह दिवालिया भी घोषित हो चुका है. श्रीलंका पर काफी कर्ज है. देश में आर्थिक संकट की वजह से काफी हिंसक प्रदर्शन भी हुए. इसके बाद राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के भाई महिंदा राजपक्षे को प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था. उनकी जगह मई में रानिल विक्रमसिंघे को देश का प्रधानमंत्री बनाया गया था.

(ये ख़बर आपने पढ़ी देश की सर्वश्रेष्ठ हिंदी वेबसाइट Zeenews.com/Hindi पर)

 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular